मेडिकल यूनिवर्सिटी का विखंडन बर्दास्त नहीं छात्रों को मुआवजा दे सरकार,आप

इस ख़बर को शेयर करें

जबलपुर :विगत 4 वर्षों से नर्सिंग कॉलेज में पढ़ने वाले हजारों विद्यार्थियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है इनका कैरियर बर्बादी की ओर बढ़ रहा है परंतु इस अरबों रुपए के घोटाले में सरकार में शामिल जिम्मेदारी लेने से बच रहे हैं वहीं दिल्ली में आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री, मंत्रियों को शराब घोटाले में बिना किसी ठोस प्रमाण के जेल में बंद किया हुआ है जबकि मध्य प्रदेश के बहु चर्चित नर्सिंग घोटाले में साक्ष्य होने के बाद भी तत्कालीन चिकित्सा शिक्षा मंत्री को क्लीन चिट दे रखी है यह आरोप लगाते हुए आम आदमी पार्टी की आरटीआई विंग द्वारा राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा तथा जिम्मेदार मंत्री पर कार्यवाही करने की मांग की।सदस्यों ने बताया की साज़िश के तहत मेडिकल यूनिवर्सिटी का विखंडन कर कुछ विभाग भोपाल स्थानांतरित किए जाने की प्रक्रिया चल रही है यह मकाहौशल क्षेत्र के साथ धोखा है आम आदमी पार्टी इसका खुलकर विरोध करती हैं।

मुआवजा दिया जाए

मनीष शर्मा प्रदेश अध्यक्ष आरटीआई विंग ने राज्यपाल से यह मांग की है कि हजारों विद्यार्थियों का भविष्य चौपट करने वाले फर्जी नर्सिंग कॉलेजों तथा सरकार से प्रति छात्र 2 लाख रुपए का मुआवजा दिलाया जाए यदि समय पर शैक्षणिक सत्र चल रहा होता तो हजारों विद्यार्थियों की आय शुरू हो गई होती वहीं मानसिक प्रतंडना नहीं झेलना पड़ती।

व्यापक आंदोलन शुरू करेंगे

प्रफुल्ल सक्सेना, राकेश चक्रवर्ती, गोपाल परासर,बृजेश चतुर्वेदी, मनोज सैनी,मयंक राज, अंकित गोस्वामी, विनोद पांडे, सेवेंद्र बर्मन, देवेंद्र , पवित्र, समर्थ आदि ने मांग पूरी न होने की दशा में आंदोलन शुरू करने की चेतावनी सरकार को दी है।


इस ख़बर को शेयर करें