कुपोषण को दूर करने में समाज भी बने सहभागी  ताकि कुपोषण मुक्त हो बहोरीबंद विकासखण्ड

इस ख़बर को शेयर करें

स्लीमनाबाद(सुग्रीव यादव ): सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बहोरीबंद मैं बुधवार को कुपोषण से सुपोषण अंतर्गत खण्डस्त्रीय कार्यशाला आयोजित की।जिसमे जनपद अध्यक्ष लाल कमल बंसल ने कहा कि कुपोषण दूर करने में समाज भी सहभागी बने। समाज के सभी वर्ग इसमें सक्रिय रूप से सहयोग दें।क्योंकि कुपोषण हमारे समाज की एक प्रमुख चुनौती है। पौष्टिक भोजन के अभाव में कुछ बच्चों का शारीरिक व मानसिक विकास अवरूद्ध हो जाता है। अधिक कुपोषण में कुछ बच्चों की असमय मृत्यु तक हो जाती है। बालिकाओं में खून की कमी होने व कुपोषण के कारण वे भविष्य में कुपोषित बच्चों को जन्म देती हैं, इससे समाज में कुपोषण का चक्र चलता रहता है। इस चक्र को रोकने के लिये समाज की सहभागिता जरूरी है।बच्चों मैं कुपोषण को दूर करने महिलाओं के साथ -साथ पुरुषों को भी जागरूक किया जाना जरूरी है।क्योंकि आमतौर पर बच्चों के स्वास्थ्य की चिंता करना महिलाओं की ही जिम्मेदारी मानी जाती है।जबकि पुरुष इस बारे मे या तो अनभिज्ञ बने रहते अथवा इसे प्राथमिकता नही देते।इसलिए पुरुषों को भी कुपोषण को दूर करने के प्रति सजग और जागरूक बनाना होगा।

कुपोषित बच्चों को वितरित की गई पोषण किट-

खंड स्तरीय कार्यशाला मैं 17 गंभीर और 73 मध्यम कुल 90 कुपोषित बच्चो का स्वास्थ्य परीक्षण , दवा वितरण , हीमोग्लोबिन टेस्ट किया गया और पोषण किट का वितरण किया गया। पोषण किट आरएसएस, एसीसी सीमेंट, सेवा भारती , मानव जीवन संस्था के सहयोग से वितरण किया गया।किट में दलिया, सत्तू, गुड, मूंगफली, पंच दाल मिक्स, सोयाबड़ी , आंवला कैंडी प्रदान की गई।इस दौरान स्वास्थ्य समिति सभापति महेंद्र हळदकार, जनपद सदस्य प्रवीण यादव, उत्तम पटेल,परियोजना अधिकारी सतीश पटेल,डॉ अनुराग शुक्ला,बीपीएम डॉ अरुण शुक्ला,बीसीएम डॉ रॉबिन गुप्ता सहित अन्य जनप्रतिनिधियों, कर्मचारियों व महिलाओं की उपस्थिति रही।

 


इस ख़बर को शेयर करें