वास्तु दोष,ग्रह क्लेश के साथ भूत प्रेत का भय बताकर ठग लिए लाखों रुपये

इस ख़बर को शेयर करें

जबलपुर :ग्रह क्लेश वास्तु दोष के साथ चौदह भूत प्रेत के अलावा घर के सदस्यों को मृत्यु दोष का भय बताकर लाखो रुपये की ठगी का मामला प्रकाश में आया है,पुलिस ने शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज करते हुए मामले की विवेचना सुरु कर दी है।

क्या है पूरा मामला

पुलिस से प्राप्त जानकारी के मुताबिक पुलिस अधीक्षक  आदित्य प्रताप सिंह (भा.पु.से) से शकुन्तला बातव निवासी अनंतारा तिलहरी ने   शिकायत की थी कि  उसके पुत्र विजेन्द्र बातव  की सोशल मीडिया पर मित्रता अरुण दुबे तथा वरुण दुबे से सन 2016 मे हुई थी खुद को ज्योतिश शास्त्री बताकर  दोनो उसके घर पर सभी सदस्यो से मिल थे तथा कुछ दोष कुण्डलियो में बताकर 50-60 रुपये की पूजा कराई थी । कुछ दिनो बाद उन्होने बताया कि हमारे एक दण्डी स्वामी जी है जो किसी मिलते नही है किन्तु सभी समस्याओ का समाधान कर देते है । आप उन्हे पत्र लिखे और हम  उन तक पहुचाएगें , कुछ दिनो बाद वे दोनो स्वामी जी का जबाब लेकर आए , स्वामी जी ने पत्र में लिखा की आपकी जमीन पर 14 प्रेत है , उन्हे स्थान देना होगा अन्यथा आपके कोई कार्य नही बनेगे ।इस बाबत उन्होने पूजा के नाम से हमसे एक लाख रुपये लिये थे।
14 भूत प्रेतों का भय 
वहीं स्वामी जी ने दूसरे पत्र में 14 प्रेतो के लिये भवनदान करने को कहा जो कि गुप्त दान के रुप में बगलामुखी मठ को देने को कहा गया , भवन की जगह ,दिशा सब उन्होने बताई , कुछ दिनो बाद हमने परिवार की सवर्सम्मति से 4.5 लाख रुपये का भवन दान किया जो वतर्मान मे वरुण दुबे का निवास है । कुछ समय बाद वरुण दुबे और अरुण दुबे दण्डी स्वामी का एक और पत्र लेकर आए जो पत्र सादे कागज पर प्रिटेड  होते थे ,पत्र में लिखा कि आप वरुण दुबे के साथ मिलकर एक कंपनी /फमर् जो वरुण के नाम पर है इसके अंतगर्त आयात- नियार्त कर कायर् प्राऱंभ करे, इसके लिये उन्होने हमसे 5 से 6 लाख रुपये लिये । कुछ दिनो अरुण व वरुण ने बताया कि दण्डी स्वामी  के एक शिष्य जो वृद्द हो चुके है जिसका कोई वारिस नही है और पूरे म.प्र. में इनकी जगह – जगह जमीने है चूकि आप लोगो ने 45 लाख रुपये का भवन दान किया है इससे प्रसन्न होकर स्वामी जी आपको ये सारी जमीने मुफ्त में दिलवा देगे आप लोगो को सिफर् स्लाट बुक करने होगे और बाद में रजिस्ट्री करने होगे । फिर इन लोगो ने स्लाट बुक करने के नाम पर हमसे 8 लाख रुपये लिये और कुछ फजीर् जमीन दिखाई । कुछ दिन बाद अरुण व वरुण ने बताया कि स्वामी जी को आपकी जमीन पर सैकडो  टन सोना चांदी दिखा है जो एक नाग द्वारा संरक्षित है इसके चलते दोनो भाईयो ने हमसे पूजा के नाम पर 06 लाख रुपये लिये थे, पुखराज के नाम पर 90000 रुपये लिये और पुखराज भी नही दिया , और 35000 रुपये की सोने की अगूठी भी ली थी ।
जान का खतरा बताकर बिकवा दिए जेवर 
वहीँ  बहू के जेवर ये कहकर बिकवा दिये कि आपके पति की जान को खतरा है । कुछ दिनो पश्चात जब हमे इनकी नियत पर शक हुआ कि ये हमारी सम्पत्ति पर नजर गडाए है तब हमने छानबीन शुरू की तो पता चला कि ये दोनो भाई 420 है किन्तु इन दोनो को हमारी गतिविधियो पर शक हो गया और इन दोनो ने  उसकेे पुत्र विजेन्द्र के खिलाफ परिवार को भटकाना शुरु कर दिया , परिवार में झूठ बोलकर फूट डाल दी , परिवार को   पुत्र विजेन्द्र के खिलाफ कर दिया , हमे आयात नियार्त व दुबई का पैसा दिखाकर ये लाखो रुपये लूट/ऐठ चुके है सारी सपत्ति हडपना चाहते है । लाकडाउन के समय व इसके पहले से ये दोनो वरुण दुबे , अरुण दुबे , संजीव बनकर उसे व उसके बेटे विक्की बातव एवं पति  गुलाबचंद बातव   से करीब 45 लाख रुपये से ज्यादा की ठगी कर चुके है और अभी भी झूठ बोलकर दुबई के नाम पर मोटी रकम व संपत्ति हडपना चाहते है दोनो ने धोखे से ब्लेंक चैक भी ले लिये है और  पुत्र के ससुराल में अवैध संबंध बताकर मानहानि भी की है ।
पुलिस अधीक्षक ने दिए कार्यवाही के निर्देश 
वहीं इस पूरे मामले को गम्भीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक आदित्य प्रताप सिंह (भा.पु.से) द्वारा जाच कर वैधानिक कायर्वाही किये जाने हेतु आदेशित किये जाने पर जांच करते हुये विजेन्द्र बातव निवासी बिलहरी विजन महल के सामने अनंततारा रेसीडेंसल रिसॉटर् थाना गोराबाजार  के कथन लिये गये,
फेसबुक में हुई थी पहचान 
वहीँ जिस पर पाया गया कि वषर् 2016 में फेसबुक मे एक ज्योतिष अरूण दुबे निवासी अंबेडकर चैक शांति नगर दमोहनाका जिला जबलपुर से पहचान हुई जिसने घर में वास्तु दोष, ग्रह क्लेश एवं चैदाह प्रेत व घर के सदस्यो को मृत्यु दोष का भय बताकर पूजा पाठ के नाम पर गुप्त दान करने को कहकर अलग अलग समय में  श्रीमति शकुनतला बातव के भारतीय स्टेट बैंक आफ इंडिया शाखा बिलहरी के खाता   से चेक के माध्यम से   40 लाख 74 हजार 500 रूपये दिये इसके अतिरिक्त अरूण दुबे ने आयात नियार्त व्यापार में फायदा बताकर एवं स्लाट बुक कराने के नाम पर भवन दान, पूजा पाठ, कुण्डली बनाने व परिवार में मृत्यु दोष का भय दिखाकर नगद लगभग 60 लाख रूपये लिये है।
इस प्रकार अरूण दुबे, वरूण दुबे, सचिन उपाध्याय द्वारा  एक करोड़ रूपये से ज्यादा की राशि लेकर धोखाधड़ी की गयी है।  सम्पूणर् जांच पर पंडित अरूण दुबे, एवं .वरूण दुबे दोनो निवासी अंबेडकर चैक के पीछे शांति नगर दमोहनाका थाना गोहलपुर, तथा सचिन उपाध्याय  के विरूद्ध थाना गोराबाजार में धारा 420,386,120(बी),34 भादवि.का अपराध  पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया  ।

 


इस ख़बर को शेयर करें