सिहोरा मंडी बनी चोर मंडी, व्यापारी का 42 बोरी गेहूं चोरी  

इस ख़बर को शेयर करें

जबलपुर /सिहोरा ; मध्यप्रदेश की मुख्य कृषि उपज मंडी में शुमार कृषि उपज मण्डी सिहोरा अव्यवस्था की भेट चढ़ रही हैं, चोरी की वारदातों से लेकर अनेक अनियमितताओं के चलते व्यापारी और किसान दोनों परेशान हैं। स्थानीय कृषि उपज मंडी में किसानो की उपज चोरी जाने, तौल में गड़बड़ी, मुद्दत काटने जैसी समस्याओं से जूझ रहे किसानों के साथ-साथ अब व्यापारी भी मंडी प्रशासन के मिस मैनेजमेंट का शिकार होने लगा है । कृषि उपज मंडी प्रांगण में अज्ञात बदमाशो का आतंक बना हुआ है जो रात को मंडी में पड़ी जिंसों को नुकसान पहुंचा रहे हैं, जिससे व्यापारियों में रोष व्याप्त है। मंडी व्यापारियों ने मंडी सचिव को अव्यवस्थाओं से अवगत करवाते हुए सुधार की मांग की है। इस तरह की घटनाएं आये दिन घट रही है और मंडी प्रशासन हाथ पर हाथ धरे बैठा है।

*42 बोरी गेहूं हो गया चोरी*
कृषि उपज मंडी में चोरों के हौसले कितने बुलंद है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि दो चार पांच किलो नहीं बल्कि विगत दिवस व्यापारी का 42 बोरी गेहूं चोरी चल गया प्राप्त जानकारी के अनुसार फरियादी राजेश पिता स्व. रतनचन्द असाटी उम्र 52 साल निवासी वार्ड न 05 साई मंदिर के पास खितोला मंडी का लाईसेंस धारी व्यापारी है उसने दिनांक 24/06/24 को खितौला मंडी से करीबन 989 क्विंटल 41 किलो गेहूं किसानों से खरीदा था।क्रय किया गया गेहूं कृषि उपज मंडी खितौला के शेड में रखा था रात में पल्लेदार न मिलने से मेरा पूरा माल तुलावटी सुदर्शन द्वारा व्यवस्थित करके करीब रात 2 बजे मंडी से चला गया था सुबह तुलावटी ने जानकारी दी कि आपके माल में से करीबन 42 बोरी गेहू कीमती करीब 63000 रूपये की दिख नहीं रहा है इसकी सूचना दूसरे दिन मंडी अधिकारी को भी दी गई। मंडी अधिकारी से शिकायत के उपरांत व्यापारी ने चोरी की घटना की शिकायत खितौला थाने में दर्ज कराई है।


इस ख़बर को शेयर करें