घटिया सामग्री से हो रहा स्टॉप डेम का निर्माण

इस ख़बर को शेयर करें

जबलपुर :एक तरफ तो मध्यप्रदेश सरकार किसानों के हित मे नदियों और नालों में स्टॉप डेम बनाकर जल संग्रहित करने का काम कर रही है,दूसरी तरफ चंद पँचायत कर्मी और जनप्रतिनिधियों द्वारा जनपद के अधिकारियों के संरक्षण में सरकार की महत्वपूर्ण योजना को पलीता लगाने में लगे हुए है ,ताजा मामला मझोली जनपद की ग्राम पंचायत खुडावल का आया है,जहाँ पर कनाड़ी नदी में निर्माणधीन स्टॉप डेम पर गुडवत्ता हिंन सामग्री से निर्माण के आरोप लगे है,

भृष्टाचार की भेंट चढ़ता जा डेम

आरोप है की जल सरंक्षण के लिए ग्राम पंचायत खुडावल द्वारा कनाड़ी नदी में बनवाया जा रहा स्टॉप डेम भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ता जा रहा है ,नाम न बताने की शर्त पर ग्रामीणों ने बताया की डेम का बेस लाल पत्थर और मिट्टी से डाला गया है, जबकि लाल पत्थर मजबूत नहीं होता साथ ही पानी मे घुलने का डर रहता है वहीँ जानकारों की मानें तो स्टाप डेम का बेस काफी मोटा होना चाहिए साथ ही कांक्रीट में गुुणवत्तायुक्त गिट्टी, बालू और सीमेंट का उपयोग किया जाना चाहिए ।

क्या है मामला ?

मामला मझोली जनपद की ग्राम पंचायत खुडावल का है जहां पर उमाशंकर पटेल के खेत के बगल से कनाड़ी नदी में स्टॉप डेम बनवाया जा रहा है जिसके निर्माण की गुडवत्ता पर सवाल खड़े करते हुए गांव के जागरूक नागरिकों ने निर्माण कार्य के जांच की मांग की है,

क्या है नियम 

वहीं इस्टीमेट की शर्तों के अनुसार, स्टाप डेम का बेस काफी मोटा होना चाहिए। इसके कांक्रीट में गुुणवत्तायुक्त गिट्टी, बालू और सीमेंट उपयोग की जानी चाहिए थी, लेकिन यहां पर ऐसा नहीं हो रहा है। जनपद के अधिकारियों की मिलीभगत  से  स्टाप डेम के बेस में मिट्टी व पत्थर डाल दिया है।वहीं अब देखना होगा की जनपद या जिला पंचायत के अधिकारियों द्वारा कब तक इस डेम की निष्पक्ष जांच की जायेगी? इस सबंध में हमारे द्वारा जब मझोली जनपद सीओओ तेज बहादुर सिंह के फोन नंबर 94258 23233 पर सम्पर्क किया तो लेकिन उन्होंने  फोन रिसीव नहीं किया ।

 

 


इस ख़बर को शेयर करें