विधानसभा में गूंजा सिहोरा के अधुरे डिवाइडर रोड निर्माण का मुद्दा

इस ख़बर को शेयर करें

जबलपुर /सिहोरा – नगर के विकास को गति देने और यातायात को सुगम बनाने के उद्देश्य से विजय रेस्टोरेंट से पुराने मझौली बायपास तक बन रही डिवाइडर रोड आवटंन के कारण अधूरी पड़ी है और सड़क के बीच में लगे विद्युत पोलों को हटाने आदि को लेकर इस मामले को बहोरीबंद विधायक प्रणय पांडे ने विधानसभा में प्रश्न उठाकर सरकार से राशी देने की मांग की।

*विधायक ने मांगी थी यह जानकारी*

विदित हो पड़ोसी विधानसभा बहोरीबंद के विधायक प्रणय पाण्डे ने विधानसभा प्रश्न के माध्यम से जानकारी मांगी थी की नगर पालिका परिषद सिहोरा द्वारा विजय रेस्टोरेन्ट से मझौली बायपास तक नाली, रोड-डिवाइडर निर्माण व सेंटर लाइटिंग कार्य किस निविदा कार द्वारा किन-किन नियम शर्तों के अधीन कब प्रारंभ कराया गया प्रश्न दिनांक तक कितनी कितनी लागत के कौन-कौन से कार्य कराये गये एवं शेष निर्माण कार्य कब तक पूर्ण होगा क्या उल्लेखित निर्माण कार्य में मार्ग के किनारे पूर्व से लगे विद्युत पोल शिफ्ट किए बिना मार्ग का चौडीकरण कर दिया गया है, जिससे आये दिन दुर्घटनाएं हो रही है। यदि उत्तर हां हे तो क्या शासन गैर जिम्मेदाराना निर्माण कार्य की शीघ्र जांच कराकर विद्युत पोल शिफ्ट कर दोषियों पर कार्यवाही करेगा।

*नगरीय प्रशासन मंत्री ने दिया ज़बाब*

विधायक प्रणय पांडे द्वारा लगाए गये प्रश्न के जवाब में नगरीय प्रशासन मंत्री कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि मुख्यमंत्री शहरी अधोसंरचना निर्माण योजना के अन्तर्गत उक्त सड़क उन्नपन कार्य म.प्र.शासन वर्कस मेन्यूअल में प्रावधानित नियम शतों के अनुसार सड़क उन्नयन अप्रैल 2021 से प्रारंभ कराया गया। निकाय द्वारा सड़क चौड़ीकरण,डिवाइडर, एवं स्ट्रीट लाईट के संपन्न कराये गये कार्य तथा उन पर किये गये भुगतान की जानकारी देते हुए बताया की सड़क चौडीकरण राशि रु 17222884.98.2 डिवाईडर राशि 5079678,13.3 सेन्टर लाईट राशि 5637785.33 कुल योग 2.79,40.348.46 उपरोक्तानुसार किये गये भुगतान के अलावा राशि रूपये 20,59,651.54 की लागत का निर्माण कार्य संपन्न कराया गया जिसका भुगतान किया जाना शेष है। कार्य प्रगतिरत है। उल्लेखित निर्माण कार्ययोजना में पूर्व से लगे विद्युत पोलों को शिफ्ट किये जाने का कार्य डी. पी.आर/ प्राक्कतन में सम्मलित नहीं होने के कारण पोल शिफ्ट नहीं किये गये हैं। विद्युत पोल के कारण किसी भी प्रकार की दुर्घटना होने बाबद किसी भी प्रकार की लिखित शिकायत अभी एक निकाय को प्राप्त नहीं हुई है। विद्युत पोलों को शिफ्ट कराये जाने की कार्यवाही प्रचलन में है। म.प्र. पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी लि सिहोरा द्वारा सड़क किनारे के विधुत पोल शिफ्टिंग कार्य के लिये लगभग 255.00 लाख का प्राक्कलन तैयार किया गया है राशि की उपलब्धता पर पोल शिफ्टिंग का कार्य कराया जा सकेगा।

*यह थी योजना*

नगर के बीच से गुजरने वाले पुराने राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 7 को विजय रेस्टोरेंट से लेकर पुराने मझौली बाईपास मार्ग तक वन वे बनाए जाने के साथ सेंटर लाइटिंग के माध्यम से आधुनिकता प्रदान करने के अलावा मुख्य चौराहों का चौड़ीकरण कराए जाने राज्य शासन ने 5 करोड़ 66 लाख की राशि की स्वीकृति प्रदान कर नगर की बहुप्रतीक्षित मांग पूर्ण की थी टेंडर प्रक्रिया मे लो रेट का टेंडर पास होने पर चार करोड़ 96 लाख की वित्तीय स्वीकृति प्राप्त होने के कई माह बाद निर्माण कार्य प्रारंभ तो किया गया लेकिन विगत कई माह से अधूरे पड़े निर्माण कार्य से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

*अधूरा निर्माण बना परेशानी का सबब*

नगर की पालक संस्था नगर पालिका की इंजीनियरिंग का खामियाजा नगर वासियों को भोगना पड़ रहा है। यह क्षेत्र के लिए विचारर्णीय प्रश्न है की नगर की जो समस्या हमारे क्षेत्रिय विधायक को उठाना चाहिए वो यहां के निवासी और पड़ोसी विधानसभा के विधायक उठा रहे हैं जो की सराहनीय है।बताया जाता है नगर पालिका द्वारा प्रस्तावित मार्ग में डिवाइडर बनाकर सेंट्रल लाइटिंग तो कर दी लेकिन चौड़ीकरण का कार्य केवल स्टेडियम से मझौली बाईपास तक का ही किया गया उसमें भी चौड़े किए गए मार्ग में लगे पुराने बिजली के खंबे दुर्घटना को आमंत्रण दे रहे हैं इसी प्रकार न्यायालय से विजय रेस्टोरेंट तक केवल डिवाइडर बनाकर छोड़ देने से दोनों तरफ सकरा मार्ग होने के कारण आए दिन दुर्घटना घटित हो रही हैं।जितने हिस्से का चोड़ी करण किया गया उसमें बीच में लगे विधुत पोल के कारण मार्ग चोड़ी करण का भी कोई लाभ नहीं मिल रहा।


इस ख़बर को शेयर करें