कोविड संक्रमण की चेन तोडऩे की दिशा में करें तेजी से कार्य – मंत्री डॉ. भदौरिया

जबलपुर :मध्यप्रदेश शासन के सहकारिता एवं लोक सेवा प्रबंधन विभाग के मंत्री डॉ. अरविंद सिंह भदौरिया ने आज कलेक्ट्रेट सभागार में जिला आपदा प्रबंधन की बैठक कर कोरोना की रोकथाम व बचाव के लिए आवश्यक चर्चा किए। इस दौरान सांसद  राकेश सिंह, विधायक  अजय विश्नोई, अशोक रोहाणी, सुशील इंदु तिवारी,  नंदनी मरावी,  तरुण भानोत,  लखन घनघोरिया,  विनय सक्सेना,  संजय यादव, कलेक्टर कर्मवीर शर्मा, पुलिस अधीक्षक  सिद्धार्थ बहुगुणा, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी  रिजु बाफना, अपर कलेक्टर  हर्ष दीक्षित,  राजेश बाथम, एसडीएम, मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. प्रदीप कसार,  शशिकांत सोनी सहित अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।बैठक के दौरान मंत्री  भदौरिया ने कहा कि कोरोना के नियंत्रण के लिए सभी को मिलजुलकर हर संभव प्रयास करना चाहिए। अनिवार्य रूप से मास्क लगाये साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग के साथ सैनिटाइजर भी करते रहे। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि वे जनप्रतिनिधियों से नियमित रूप से संवाद स्थापित करते रहे और अन्य संगठनों के व्यक्तियों से भी संवाद स्थापित कर कोविड नियंत्रण की दिशा में कार्य करें।
मंत्री डॉ भदौरिया ने कोविड की रोकथाम के लिए सुझाव भी मांगे और कहा कि यदि कोई टेस्ट कराने आता है तो उसे तब तक होम आइसोलेशन में रखें जब तक उसके रिपोर्ट नहीं आ जाती। क्योंकि यदि टेस्ट कराने के बाद व्यक्ति इधर-उधर घूमता है और यदि पॉजिटिव आ जाता है तो वह कई लोगों को संक्रमित कर सकता है अत: कोविड चेन तोडऩे की दिशा में कार्य करें। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्र को लेकर भी बैठककर कहा कि छोटो-छोटे कंटेनमेंट जोन बनायें। घर-घर सर्वे हो और संक्रमित व्यक्तियों को मेडिकल किट दिया जाए। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए उन्होंने डिस्ट्रिक्ट क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों की तर्ज पर विधानसभा स्तर पर भी कमेटियां बनाने के निर्देश दिये। और कहा कि इन कमेटियों की मॉनिटरिंग स्थानीय विधायक करेंगे। कोरोना समाप्त करने के लिए सभी को मिलजुलकर निचले स्तर पर प्रयास करना होगा। इसके साथ उन्होंने कहा कि संक्रमण की रोकथाम के लिए आगामी 15 मई तक जनता कोरोना कफ्र्यू रहे जिससे कोविड संक्रमण का चैन टूटे। उन्होंने शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में जनजागरूकता लाकर इस दिशा में प्रभावी कार्य करने को कहा। बैठक में सांसद सहित सभी विधायकों ने बारी-बारी से कोरोना नियंत्रण के लिए प्रभावी उपायों पर सकारात्मक चर्चाकर आवश्यक सुझाव दिये। सांसद  राकेश सिंह ने कहा कि परिस्थितियां एकदम से आई हैं। अत: सकारात्मक रूप से समाधान हो। रेमडेसिविर जिनको आवश्यक है उनको मिले। डी मार्ट में सरकारी तौर पर जो उपलब्ध होता है वह तो है ही लेकिन इसमें सभी लोग सहयोग करें। निजी अस्पतालों के चिकित्सकों से यह सुचारु रूप से चले यह प्लान करें और हर संभव तरीके से कोविड के नियंत्रण की दिशा में काम हो। विधायक श्री विश्नोई ने कहा कि टेस्ट की रिपोर्ट जल्दी मिले जिससे संक्रमित व्यक्ति का इलाज जल्दी हो सके। श्री तरुण भानोत ने कहा कि गैलेक्सी अस्पताल में हुए घटना की पुनरावृत्ति न हो इस दौरान उन्होंने 18 वर्ष के ऊपर के लोगों के वेक्सीनेशन, अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी, विक्टोरिया को कोविड डेडीकेटिट वार्ड बनाने, जनप्रतिनिधियों के लिए नोडल अधिकारी आदि पर चर्चा की। वहीं विधायक लखन घनघोरिया ने कोरोना नियंत्रण के साथ मूलभूत सुविधाओं की सुनिश्चितता के साथ बीपीएल में अपात्र लोगों को खाद्यान्न सुनिश्चित करने पर चर्चा की। विधायक विनय सक्सेना ने शहर में वेंटीलेटर की स्थिति, कोविड केयर सेंटर की व्यवस्था, ऑक्सीजन प्लांट लगाने, अस्पतालों में बिस्तरों का सत्यापन, प्राइवेट नर्सिंग कॉलेज व हॉस्पिटल से सहयोग पर चर्चा की।
विधायक  सुशील इंदु तिवारी,  संजय यादव व श्रीमती नंदनी मरावी ने भी ग्रामीण क्षेत्र में संक्रमण रोकने के प्रभावी उपायों को बताया।बैठक के दौरान कलेक्टर  शर्मा ने कोरोना की वर्तमान प्रवृत्ति के संबंध में जानकारी देते हुए इसकी रोकथाम और बचाव के लिए किए जा रहे उपायों के बारे में जानकारी दी। इसके साथ ही उन्होंने जिले की शासकीय तथा शासकीय अस्पतालों उपलब्ध चिकित्सीय सुविधाओं के बारे में जानकारी देते हुए उपलब्ध है ऑक्सीजन तथा आईसीयू बिस्तरों की संख्या, कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर की कार्यप्रणाली, होम आइसोलेशन, टीकाकरण, रोको टोको अभियान आदि के बारे में जानकारी देकर कहा कि शहर को 16 जनों में डिवाइड किया गया है और प्रत्येक जोन में अधिकारियों का दल नियुक्त है जो कोरोना रोकथाम व बचाव में सक्रिय रूप से कार्य कर रहे हैं। कलेक्टर  शर्मा ने कहा कि आने वाले दिनों को दृष्टिगत रखते हुए बिस्तरों दवाइयों की आवश्यक व्यवस्था की जा रही है।

शेयर करें: