सिलोड़ी में प्रशासन द्वारा की गई अतिक्रमण की कार्यवाही पर ग्रामीणों ने उठाये सवाल  

 

कटनी :नाली निर्माण में बाधक बन रहे टपरों को हटाने की कार्यवाही करते हुए प्रसाशन ने लगभग आधा दर्जन टपरों सहित कुछ सेड निर्माण को हटाने की कार्यवाही की लेकिन ग्रामीणों ने प्रशासन की इस कार्यवाही पर सवालिया निशान खड़े करते हुए आरोप लगाए है की कटनी जिले के सिलोड़ी में शुक्रवार को जो हुआ उसने सरकारी अमले को कटघरे में खड़ा करके रख दिया है, ग्रामीणों ने प्रशासन की कार्यवाही को बड़ो पर रहम गरीबों पर सितम  की कार्यवाही बताते हुए आरोप लगाए है की प्रशासन द्वारा शुक्रवार के दिन गरीबों पर अतिक्रमण की कार्यवाही की गई लेकिन अतिक्रमण की जद में आने वाले पक्के आवास और रसूखदारों पर मेहरवानी क्यों की गई ?

ये है पूरा मामला ,

दरअसल 19 फरवरी 2021 शुक्रवार के दिन पीले पंजे के साथ प्रशासनिक अमला सिलोड़ी ग्राम पहुँचा और अतिक्रमण की कार्यवाही शुरू कर दी गई ,प्रशासन ने कार्यवाही करते हुए  बस स्टैंड में शुक्रवार की दोपहर लगभग दो बजे अतिक्रमण हटाने का सिलसिला जारी किया। इस दौरान लोगों में हड़कंप की स्थिति निर्मित हो प्रशासन ने कार्यवाही करते हुए बस स्टैंड के पान ठेलों को हटाने की कार्यवाही करते हुए जेसीबी के पीले पंजे ने कुछ सेडो को भी तोड़ा,प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है की अभी और भी अतिक्रमण हटाया जाएगा,जबकि ग्रामीणों का कहना है की प्रसाशन द्वारा मुँहदेखी कार्यवाही की गई ,कार्रवाई के दौरान  तहसीलदार हरि सिंह धुर्वे , नायब तहसीलदार सुनीता मिश्रा,सहित पुलिस बल भी मौजूद रहा

वहीँ कार्यवाही के सबंध और ग्रामीणों के द्वारा लगाए गए आरोपों का जबाब देते हुए नायब तहसीलदार सुनीता मिश्रा ने बताया की नाली निर्माण में बाधक बन रहे टपरों को विधिवत नोटिश देकर हटाया गया ,प्रशासन ने किसी के साथ  पक्षपात नहीँ किया है, अब ऐसे में सवाल उठता है की क्या ग्रामीणों द्वारा कार्यवाही में ऊँगली उठाने के बाद अतिक्रमण में आने वाले रसूखदारों और पक्के आवासों पर भी क्या प्रशासन द्वारा कार्यवाही की जायेगी? 

शेयर करें: