रामचरित मानस क्या है और क्यों हैं इसके दोहे और चौपाइयां इतनी महत्वपूर्ण ?

 

 

ज्योतिषाचार्य निधि राज त्रिपाठी के अनुसार—–गोस्वामी तुलसीदास ने रामभक्ति के द्वारा न केवल अपना ही जीवन कृतार्थ किया बल्कि सभी को श्रीराम के आदर्शों से बांधने का प्रयास भी किया. उन्होंने श्री राम की कथा “रामचरितमानस” के रूप में लिखी थी. रामचरितमानस को हिन्दू धर्म में अत्यंत पूज्य माना जाता है.

रामचरित मानस क्या है और क्यों हैं इसके दोहे और चौपाइयां इतनी महत्वपूर्ण ?

– रामचरित मानस अवधी भाषा में लिखी हुई “रामायण” है.

– अतः इसकी एक एक पंक्ति मंत्र के समान प्रभावशाली है.

– इसके अलग अलग अध्याय भी अलग से पढ़े जाते हैं.

– विशेष मनोकामनाओं के लिए इसके अलग अलग पंक्तियों का पाठ करना उत्तम माना जाता है.

– ये पढ़ने में सरल भी होते हैं और इनका प्रभाव भी अचूक होता है.

किस प्रकार करें रामचरित मानस की पंक्तियों का पाठ ?

– राम दरबार की स्थापना करें.

– सामने घी का दीपक जलाए.

– प्रसाद चढ़ाएं या कम से कम तुलसी दल तो जरूर अर्पित करें .

इसके बाद तुलसी की माला से दोहे या चौपाई का कम से कम 108 बार जाप करें.

– जाप के बाद अपनी मनोकामना पूर्ति की प्रार्थना करें.

– इसकी शुरुआत किसी भी मंगलवार, रविवार या नवमी तिथि को कर सकते हैं.

अलग अलग मनोकामनाओं के लिए, किन पंक्तियों का पाठ किया जाएगा ?

1. रोजगार की प्राप्ति के लिए

बिस्व भरण पोषण कर जोई, ताकर नाम भरत अस होई |

2. विपत्ति निवारण के लिए

जपहि नामु जन आरत भारी, मिटाई कुसंकट होई सुखारी |

3. विद्या प्राप्ति के लिए

गुरु गृह पढ़न गए रघुराई, अलप काल विद्या सब आयी |

4. विवाह और सुयोग्य वर के लिए

सुनु सिय सत्य असीस हमारी, पूजहि मनकामना तुम्हारी |

5. रोग नाश के लिए

दैहिक, दैविक, भौतिक तापा, राम राज नहीं काहूंहि व्यापा |

6. जब जीवन में सारे रास्ते बंद हो जाएं

दीन दयाल विरदु सम्भारी, हरहु नाथ मम संकट भारी |

7. ईश्वर की प्राप्ति और भगवत कृपा के लिए

कामिहि नारी पियारी जिमी, लोभी प्रिय जिमि दाम |

तेहि रघुनाथ निरंतर, प्रिय लागहु मोहि राम ||

**लेकिन, यदि आपके मन में कोई और दुविधा है या इस संदर्भ में आप और ज्यादा विस्तृत जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं ज्योतिष व वास्तु के लिए सम्पर्क करे* **ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी** अगर आपको ग्रह दशा के बारे में जानकारी चाहिए तो आप हमें +91-9302409892 पर कॉल करें। या आप हमें
“अपना नाम”
“जन्म दिनांक”
“जन्म समय”
“जन्म स्थान”
व्हाट्सएप करें!! धन्यवाद
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार देखा जाए तो हर व्यक्ति का जन्म होते ही वह अपने प्रारब्ध के चक्र से बंध जाता है और ज्योतिषशास्त्र द्वारा निर्मित जन्म कुंडली हमारे इसी प्रारब्ध को प्रकट करती है। हमारे जीवन में सभी घटनाएं बारह राशि व नवग्रह द्वारा ही संचालित होती हैं। इन ग्रहों का आपके जीवन पर आने वाले समय में कैसा प्रभाव पड़ेगा इसके बारे में विस्तृत जवाब जानने के लिए अभी आप भी कर्ज़ की समस्या से परेशान हैं, और उससे जुड़ा कोई व्यक्तिगत उपाय, निवारण जानना चाहते हों या इससे जुड़े किसी सवाल का जवाब चाहिए हो तो
अभी इस नंबर पर आप संपर्क कर सकते हैं l 9302409892

शेयर करें: