करोडों की इस बहुप्रतीक्षित सड़क में 6 महीने में ही दिखने लगीं भृस्टाचार की दरारें,देखें वीडियो  

 

जबलपुर: लगभग 6 माह पूर्व करोडों की लागत बनी सीसी सड़क में भृस्टाचार की दरारें साफ तौर पर दिखाई देने लगीं है, सड़क की हालत यह हो गई है की सड़क में कई जगहों पर गढ्ढे देखे जा सकते है, इतना ही नहीं लोहे की सरिया तक अब सड़क से झांकने लगीं है,हम बात कर रहे है जबलपुर के बरेला से मंडला के बीच बनी एनएच 12 ए की जो की बरेला से चिल्फी बार्डर तक बनते ही बिगड़ने लगी है, राहगीरों की मानें तो इस सड़क में सुविधापूर्वक वाहन नहीं चलाया जा सकता है,

 

 

बहुप्रतीक्षित इस सड़क में आ गई बहुत दरारें 

गौरतलब है की कई सालों की प्रतीक्षा के बाद इस सड़क का टेंडर हुआ और जब सड़क बनने लगी तो लोगों को लगा की अब यहां के अच्छे दिन आ गए है, लेकिन सड़क बनने के महज 6 माह में सड़क की दरारों ने सड़क निर्माण के दौरान हुए भृस्टाचार की पोल खोलनी सुरु कर दी है, लोगों की सुविधा के लिए करोड़ों की लागत से तैयार की गई सड़क अब राहगीरों के लिए असुविधाजनक बनती जा रही है,

 

काली मिट्टी भी नहीं है फिर भी कैसे सड़क में निकलनी लगीं दरारें

वैसे तो अक्सर लोगों को कहते सुना है की अधिकांस सड़कों की सर्विस आसपास लगी जमीन के ऊपर निर्भर करती है,बताया तो यह भी जाता है यदि सड़क के आसपास काली मिट्टी हो तो सड़कें बैठने लगतीं है,लेकिन यहाँ पर तो किसी भी प्रकार की काली मिट्टी नहीं है उसके बाद भी बनने के एक साल के अंदर ही करोडों रुपये की लागत से बनाई गई इस सड़क में दरारें आने लगीं है, लोगों ने सड़क निर्माण में भृस्टाचार का आरोप लगाते हुए जांच की मांग करते हुए उचित कार्यवाही की मांग की है,लोगों ने तो यह भी बताया की इस सड़क का निर्माण मुंबई की कंपनी  जी डी एस एल द्वारा निर्माण किया गया था,

 

शेयर करें: