शातिर वाहन चोर गिरोह गिरफ्तार,8 लाख कीमती 15 दुपहिया वाहन जप्त 

 

जबलपुर ;पुलिस ने शातिर वाहन चोर गिरोह को गिरफ्तार करते हुए आरोपियों के कब्जे से 8 लाख कीमती 15 दुपहिया वाहन जप्त करते हुए कार्यवाही की है,पुलिस द्वारा गिरफ्तार किये गए शातिर वाहन चोरों में  
1-सौरभ बर्मन उर्फ विवेक उर्फ चड्डी पिता बब्लू बर्मन उम्र 20 वर्ष निवासी गौर नदी कटीया घाट गौर थाना बरेला
2-सन्जू अहिरवार पिता रामलाल अहिरवार उम्र 19 वर्ष निवासी गौर नदी कटीया घाट गौर थाना बरेला
3-साढे सत्रह वर्षिय अपचारी किशोर

*चोरी का वाहन खरीदकर उपयोग करने वाले पकड़े गये आरोपीः
1-आरिफ खान पिता मरहूम समद खान उम्र 23 वर्ष निवासी राजीव काॅलोनी मण्डला जिला मण्डला
02-मोहित रजक पिता विष्ण रजक उम्र 19 वर्ष निवासी ग्राम बनैका मण्डला जिला मण्डला
03- भानु पिता श्रीकर उपाध्याय उम्र 25 वर्ष निवासी लोक सागर तालाब के पास थाना बरेला
04-अकाश मैहरा पिता शिवकुमार मैहरा उम्र 19 वर्ष निवासी कटिया घाट गौर थाना बरेला
05-शिवम पटेल पिता मूलचन्द पटेल उम्र 19 वर्ष निवासी लोक सागर तालाब के पास थाना बरेला

बेचने की फिराक में पकड़े गए आरोपी

वहीँ गौरतलब है की वाहन चोरी की घटनाओं पर अंकुश लगाने हेतु पुलिस अधीक्षक  सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) द्वारा जिले मे पदस्थ समस्त राजपत्रित अधिकारियों एवं थाना प्रभारियों को जेल से रिहा हुये एवं पूर्व में पकडे गये वाहन चोरों से सघन पूछताछ एवं उनकी गुजर बसर की जांच करते हुये चोरी गये वाहनेां की बरामदगी हेतु आदेशित किया गया है।आदेश के परिपालन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर (दक्षिण)/अपराध  गोपाल खाण्डेल, नगर पुलिस अधीक्षक कैंट  भावना मरावी के मार्ग निर्देशन में थाना प्रभारी कैंट  विजय तिवारी केे नेतृत्व में गठित टीम के द्वारा 3 शातिर वाहन चोर को गिरफ्तार कर चुराये हुये 15 दुपहिया वाहन कीमती 8 लाख रूपये के जप्त करने मे महत्वपूर्ण सफलता प्राप्त हुई है। दिनांक 06.04.2021 को पुलिस को सूचना प्राप्त हुयी कि सृजन चैक सदर केन्ट में बिना नंबर की स्प्लैंडर मोटर साइकिल बेचने की फिराक में तीन युवक खडे है सूचना पर सृजन चैक सदर केन्ट में दबिश दी गयी जहाॅ मुखबिर के बतायेनुसार हुलिये के युवक बिना नंबर की काले रंग की स्प्लैंडर मोटर साइकिल लिये खडे थे जो पुलिस को देखकर भागने का प्रयास करने लगे जिन्हें घेराबंदी कर पकड़ा जिन्होंने पूछताछ पर अपने नाम सौरभ बर्मन उर्फ विवेक बर्मन उर्फ चड्डी पिता बबलू बर्मन उम्र0 20 साल , 02 सन्जू अहिरवार पिता रामलाल अहिरवार उम्र 19 साल 3- साढे सत्रह वर्षिय अपचारी बालक तीनों निवासी कटिया घाट के पास गौर बताये ली हुई मोटर साइकिल के दस्तावेज मांगे जो कोई भी दस्तावेज न होना बताते हुये उक्त स्प्लेंडर मोटा सायकिल सदर क्षेत्र से चोरी करना स्वीकार किये।तीनों नें थाना कैंट लाकर सघन पूछताछ करने पर उक्त हीरो हाण्डा स्प्लेैंडर के अलावा अन्य 14 मोटर सायकिलें थाना कैंट, गेाराबाजार, गोरखपुर, तीन पत्ती, पुल न. 2 के पास से चुराना स्वीकार करते हुये कुछ मोटर सायकिलें अपने घरों पर छुपाकर एवं कुछ मोटर सायकिलें बेचना स्वीकार किये, बेची हुई 10 मोटर सायकिलें 1-आरिफ खान पिता मरहूम समद खान उम्र 23 वर्ष निवासी राजीव काॅलोनी मण्डला जिला मण्डला, 02-माहित रजक पिता विष्ण रजक उम्र 19 वर्ष निवासी ग्राम बनैका मण्डला जिला मण्डला, 03- भानु पिता श्रीकर उपाध्याय उम्र 25 वर्ष निवासी लोक सागर तालाब के पास थाना बरेला, 04-अकाश मैहरा पिता शिवकुमार मैहरा उम्र वर्ष निवासी कटिया घाट गौर थाना बरेला, 05-शिवम पटेल पिता मूलचन्द पटेल उम्र 19 वर्ष निवासी लोक सागर तालाब के पास थाना बरेला से जप्त करते हुये अन्य 4 मोटर सायकिलें घरों से इस प्रकार कुल चुराई हुई 15 मोटर सायकिलें कीमती लगभग 8 लाख रूपये की अपचारी किशोर सहित 2 शातिर वाहन चोरों को एवं चुराये हुये वाहन खरीदने वाले 5 खरीददारों को अभिरक्षा में लेते हुये सभी के विरूद्ध धारा 41(1-4)जाफौ/ 379 भादवि के तहत कार्यवाही करते हुये मान्नीय न्यायालय के समक्ष पेश किया जा रहा है।

*तरीका अपराध* – पकड़ा गये आरोपी रैकी कर भीडभाड एवं एकांत में खड़े वाहनों को विशेष तौेर पर हीरो हाण्डा स्पेन्डर जिसका लाॅक आसानी से खुल जाता है को चिन्हाकिंत कर, वाहनों का हेण्डल का लाक खोलकर/तोडकर वाहन चोरी करते थे। अपचारी किशोर सहित पकडे गये दोनों आरोपी एक मोटर सायकिल में बैठकर आते थे और एक मोटर सायकिल के पास ही रहता था दो अन्य चिन्हांकित की हुई मोटर सायकिल का लाक खोलकर/तोड़कर मोटर सायकिल चालू कर चुराकर भाग जाते थे।

*उल्लेखनीय भूमिका* – आरोपी को गिरफ्तार कर चुराये हुये वाहन को जप्त करने में थाना प्रभारी कैंट  विजय तिवारी उप निरीक्षक अकबाल बहादुर सिंह, गणपत मर्सकोले, सहायक उप निरीक्षक रामेश्वर रघुवंशी, प्रधान आरक्षक खेमकरण, राजेश, जय प्रकाश, आरक्षक खेमचन्द, नरेन्द्र, नरेश, भागीरथ, विनय, सियाराम की सराहनीय तथा आरक्षक अंकेश एंव गौतम यादव की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

शेयर करें: