अखंड सौभाग्य ओर सुख समृद्धि की कामना के लिए महिलाओं ने रखा महालक्ष्मी व्रत



कटनी/स्लीमनाबाद(सुग्रीव यादव); श्राद्ध पक्ष अष्टमी तिथि पर हाथी अष्टमी का पर्व यानि महालक्ष्मी व्रत तहसील क्षेत्र मे शनिवार को आस्था के साथ मनाया गया। सुहागिन महिलाओ द्वारा अखंड सौभाग्य, सुख समृद्धि व  अपने परिवार को धन्य धान से परिपूर्ण करने की मनोकामना पूर्ति के लिए व्रत किया गया।शनिवार को सर्वप्रथम सूर्योदय के समय स्नान आदि करके पूजा का संकल्प किया गया।संकल्प के बाद एक सफेद डोरे मे 16 गठान लगाकर उसे हल्दी से पीला किया गया और फिर उसे महिलाओ द्वारा अपनी कलाई पर बांधा गया।पूजन के वक़्त एक पटे पर रेशमी कपड़ा बिछाया गया और अष्टदल बनकर उस पर अक्षत डाले और जल से भरा कल और श्रीयंत्र, दशिणावर्ती शंख, स्थापित किया गया।वही हल्दी से कमल बनाकर उसपर हाथी पर बैठी माता लक्ष्मी की प्रतिमा विराजित की गई।महिलाओं के द्वारा उत्तर दिशा की ओर मुख करके मां लक्ष्मी के आठ रूपों की आराधना की गई।मां लक्ष्मी को आभूषण पहनाएं। कमल के पुष्प, अक्षत, चंदन, लाल सूत, सुपारी, नारियल से मां लक्ष्मी की पूजा की गई।वही सफेद रंग की चीजों का भोग अर्पित किया गया।महालक्ष्मी व्रत की कथा पढ़ी गई और फिर गाय के शुद्ध घी के दीपक से मां लक्ष्मी की आरती की गई।
इसके बाद व्रत का उद्यापन किया गया।
महालक्ष्मी व्रत को लेकर घरो व मंदिरों मैं विविध आयोजन हुए।

शेयर करें: