धान उपार्जन के लिए 10 किलोमीटर की दूरी करनी पड़ेगी तय,इसलिए सिहुडी(बाकल) को ही बनाया जाए खरीदी केंद्र,नही तो होगा उग्र आंदोलन

कटनी/स्लीमनाबाद(सुग्रीव यादव):खरीफ विपणन वर्ष 2022-23 के तहत समर्थन मूल्य पर धान उपार्जन के लिए बनाए गए केंद्रों से किसानों को धान विक्रय के समस्या उतपन्न होने लगी है।जिससे किसान परेशान है।ताजा मामला बहोरीबन्द तहसील अंतर्गत सिहुडी(बाकल) का सामने आया है।जहां के किसानों ने प्रशासन से मांग की है कि पूर्व की तरह ही सिहुडी(बाकल) को खरीदी केंद्र बनाया जाए नही तो किसान उग्र आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे।
सिहुडी(बाकल) के कृषक गौरीशंकर पटेल, नंदकिशोर विश्वकर्मा, गया लाल पटेल,रामकिशोर पटेल,सुरेंद्र सिंह ठाकुर,धन्यकुमार लोधी ने बताया कि हर वर्ष रबी व खरीफ सीजन मैं सिहुडी बाकल को ही खरीदी केंद्र बनाया जाता रहा है।लेकिन इस वर्ष खाद्य विभाग के अधिकारियों के द्वारा सिहुडी बाकल को खरीदी केंद्र न बनाते हुए मढिया को खरीदी केंद्र बना दिया गया।जिससे सिहुडी बाकल सहित मोहतरा,पटोरी,कछारगांव,किवलरहा,कंचनपुर, हाथीभार, बसेड़ी गांव के किसानों को लम्बी दूरी तय करनी पड़ेगी।जिससे किसानों को आर्थिक बोझ का भार बढ़ेगा।
खाद्य विभाग के अधिकारियों को कई बार इस ओर ध्यानाकर्षण कराया गया लेकिन कोई ध्यान नही दिया जा रहा है।यदि आगामी दो तीन दिनों मैं सिहुडी बाकल को खरीदी केंद्र नही बनाया गया तो फिर उग्र आंदोलन किया जाएगा।
इस संबंध मे खाद्य विभाग के कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी प्रमोद मिश्रा का कहना था कि सिहुडी बाकल को मढिया खरीदी केंद्र मैं समायोजित किया गया है।क्योंकि उक्त उपार्जन केंद्र स्थल सही है।किसानों के द्वारा मांग की जा रही है उस पर भी विचार किया जाएगा व उपार्जन केंद्र के लिए स्थल का निरीक्षण किया जाएगा।

इनका कहना है- प्रणय पांडेय विधायक
सिहुडी(बाकल) मैं खरीदी केंद्र बने इसके लिए किसानों के द्वारा मांग की गई है यह विषय संज्ञान मैं आया है ।इसके लिए खाद्य विभाग के अधिकारियों से चर्चा कर किसानों को समस्या न हो उसके लिए सिहुडी बाकल मैं ही खरीदी केंद्र बनाने के लिए कार्य किया जाएगा।

शेयर करें: