ये कैसा न्याय? एक बृद्ध संत को पेरोल तक नहीं,करोडों भक्तों की पीड़ा तक क्यों नहीं दिखाई दे रही सरकार को

 

जोधपुर जेल में बंद संत आसाराम बापू के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद भी उनको पेरोल तक न मिलना कहीँ न कहीँ चिंता का विषय है ,आखिर बापू को पेरोल क्यों नहीं ?तो वहीँ कानून के जानकारों की मानें तो पेरोल हर कैदी का हक होता है ,साथ ही हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने एक आदेश भी जारी किया है की कोरोना संक्रमित सभी कैदियों को तत्काल पेरोल दी जाए लेकिन जोधपुर हाईकोर्ट में कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद भी 90 वर्षीय संत आसाराम बापू को पेरोल तक नहीं दी गई ,और तारीख दे दी गई ,अब ऐसे में तारीख पर तारीख मिलना कहां का न्याय है, ये सवाल बापू के करोड़ों साधकों के दिलोदिमाक में उठ रहा है ,

करोडों भक्तों की पीड़ा तक क्यों नहीं दिखाई दे रही सरकार को

 

संत आशाराम बापू के स्वास्थ्य को लेकर देश विदेश में लाखों करोडों भक्त बेहद चिंतित है। वही समय समय पर स्वास्थ्य सम्बंधी अपडेट न मिल पाने की वजह से लोग और भी ज्यादा परेशान हो रहे है।  Aiims अस्पताल से 15 मई रात 11 बजें संत आशाराम बापू के स्वास्थ्य सम्बंधी 100% कन्फर्म जानकारी प्राप्त हुई है। ये रिपोर्ट पूरी तरह से ठीक है। Aiims के डॉक्टर के मुताबिक संत आशाराम बापू का हीमोग्लोबिन 4.2 है। जो कि बेेेहद चिंता वाली बात है।हालांकि 15 मई को आश्रम द्वारा भेजे गए ऑफिशियल मैसेज की बात करें तो मैसेज में बताया गया था कि संत आशाराम बापू का हीमोग्लोबिन 5.2 है। लेकिन 15 मई रात 11 बजें की रिपोर्ट के अनुसार संत आशाराम बापू का हीमोग्लोबिन 4.2 है । इस हिसाब से संत आशाराम बापू का हीमोग्लोबिन कम हुआ है। जो कि परेशान कर देने वाली ख़बर है। वही आप को बता दें कि खून की कमी होने की वजह पेट या आंतों में खून की लीकेज हुई होने की आशंका है। हो सकता है कोई नस में लीकेज हो रही हो, लेकिन असल वजह तो एंड्रोस्कोपी या अन्य किसी जांच के माध्यम से ही पता चल सकेगी कि खून किस वजह से बाहर आया है।आप को बता दे कि संत आशाराम बापू के नाक और मुंह से खुन नही निकला है बल्कि मल त्यागने के स्थान से खून निकलने की बात सामने आई है।फिलहाल राहत की खबर यह है कि संत आशाराम बापू पूरी तरह से होश में है। उन का BP ऑक्सीजन पल्स आदि भी ठीक बताया जा रहा है । नीचे दी गई रिपोर्ट की जानकारी भी ज्यादा घबराने वाली नही है। लेकिन खुन की कमी बड़ी चिंता वाली बात है।

शेयर करें: