कोई भी खाली पेट न रहे इस नंबर …पर संपर्क करें काश कोई ऐसा वेनर पोस्टर होता

 

(पवन यादव )कोरोना की दूसरी लहर के पहले चुनावों की सुगबुहाटट में तो चारों तरफ बड्डे -बड्डे वेनर दिखाई दे रहे थे जिसमें कोई जन्मदिन तो कोई किसी नेता की फोटो लगाकर बधाई देता फिर रहा था तो कोई कुछ … लेकिन जैसे ही कोरोना की दूसरी लहर आई इनको लगा चुनाव पिछल गए तो उस दिन से कोई वेनर पोस्टर के दर्शन भी नहीं हो रहे है, ऐसा लग रहा है,जैसे कोरोना की इस लहर सभी वेनर पोस्टरो को बहा ले गई ,इस बात को सोशल मीडिया में खूब वायरल किया जा रहा है, अब सोचने वाली बात तो यह है की सरकार द्वारा लगाए गए लॉक डाउन के दौरान राशन कार्ड धारियों को तो सरकार 5 महीने का फ्री राशन देने जा रही है, अमीरों को रोटी की चिंता ही नहीं क्योंकि वे समर्थ है ,लेकिन मध्यम वर्ग के लोगों का क्या होगा?इस बात की न तो कोई चर्चा करता दिखाई दे रहा है न ही किसी को इनकी फिक्र है, अब ऐसे में चौराहों में बड्डे -बड्डे वेनर पोस्टर लगाकर पब्लिकसिटी बटोरने वाले कहां सो गए ,इस विकट परिस्थितियों में कोई ऐसा दानी सामने नहीं आ रहा है जो ऐसा वेनर पोस्टर लगाता जिसमें सभी जरूरतमन्दों के लिए निशुल्क भोजन की व्यवस्था होती काश ऐसा वेनर पोस्टर होता ,हलाकि इस महामारी की आड़ का फायदा चंद व्यापारी खूब उठा रहे है ,सटर थोड़ा सी उठाकर महंगे दामों में सामान की खूब बिक्री की जा रही है,

 

शेयर करें: