पँचायत भवन में रिश्वत के नोट गिनते सहायक सचिव सहित सरपंच को लोकायुक्त ने दबोचा,पीएम आवास स्वीकृत कराने के लिए मांगी थी रिश्वत

कटनी:पंचायतों में किस कदर सरकार की जनहितैषी योजना प्रधानमंत्री आवास रिश्वत की भेंट चढ़ गई इसका जीता जागता उदाहरण कटनी जिले के स्लीमनाबाद थाना अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत कौड़िया में देखने को मिला जहाँ पर पीएम आवास स्वीकृत कराने की एवज में सहायक सचिव और सरपंच द्वारा हितग्राही से 10 हजार की रिश्वत मांगी गई लेकिन रिश्वत के नोट गिनते ही इनके हाथ रंग गए 

ये है पूरा मामला 

मामला मध्यप्रदेश के कटनी जिले की कौड़िया पँचायत का है, जहाँ पर पीएम आवास स्वीकृत कराने के एवज में 10 हजार रुपए की रिश्वत मांग रहे ग्राम पंचायत कौंडिया, जनपद पंचायत बहोरीबंद के रोजगार सहायक और सरपंच को आज लोकायुक्त की टीम ने रिश्वत के रंग लगे हुए नोटों सहित गिरफ्तार कर लिया।जानकारी के मुताबिक उस्ताद कुशवाहा पिता रामजी कुशवाहा ग्राम कोडिया तहसील बहोरीबंद थाना स्लीमनाबाद जिला कटनी का निवासी है। ग्राम पंचायत कोडिया में प्रधानमंत्री आवास स्वीकृत कराने की एवज में ग्राम रोजगार सहायक अजय कुमार चक्रवती और सरपंच ग्राम पंचायत कौंडिया भरत कुमार गुप्ता 10,000 रुपए की रिश्वत मांग रहे थे। जिसके पर आवेदक ने रोजगार सहायक से सौदा तय कर बुधवार को दस हजार रुपये देने का वादा किया था और इसकी शिकातय लोकायुक्त से की थी।

पँचायत भवन में रिश्वत गिनते गिरफ्तार

उस्ताज कुशवाहा को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान स्वीकृत करने रुपयों की मांग करने के बाद आज ग्राम पंचायत भवन रिश्वत के पैसे लेकर आने का बुलावा भेजा था। वादे के अनुसार आवेदक सुबह ग्राम पंचायत में रिश्वत की राशि लेकर पहुंचा तो सरपंच ओर रोजगार सहायक जैसे ही दस हजार रुपये लिए उसी समय लोकायुक्त की टीम पहुंची और रोजगार सहायक के लिए रिश्वत की राशि लेने वाले को रंगे हाथ पकड़ लिया। लोकायुक्त की टीम में शामिल निरीक्षक घनश्याम मर्सकोले ने बताया कि रोजगार सहायक अपने साथी सरपंच के साथ रकम ली तभी उसे रंगे हाथों पकडा़ गया है। टीम में निरीक्षक घनश्याम मर्सकोले, कमल सिंह उईके, भूपेंद्र दीवान, आरक्षक दिनेश दुबे अमित मंडल विजय सिंह बिष्ट एवं जीत सिंह शामिल रहे।

शेयर करें: