रेल रोको आंदोलन :किसान और जवान रहे आमने सामने ,स्टेशन में रहा पुलिस का सख्त पहरा,किसानों ने ज्ञापन देकर किया सन्तोष

 

जबलपुर :सिहोरा में रेल रोको आंदोलन के चलते सिहोरा स्टेशन छावनी में तब्दील हो गई थी भारी संख्या में पुलिस जवानों सहित अधिकारी स्टेशन के बाहर तैनात रहे ताकि किसान स्टेशन के अंदर न जा सके स्तिथि  किसान और जवान के आमने सामने रही,स्टेशन के अंदर और बाहर पुलिस का इतना सख्त पहरा था की परिंदा भी पर न मार सके ,ऐसे में किसानों ने स्टेशन के बाहर ही नारेबाजी करते हुए सिर्फ ज्ञापन सौपकर ही  सन्तोष कर लिया,

मंडी से स्टेशन तक पैदल गए थे किसान 

संयुक्त किसान मोर्चा एवं भारतीय किसान यूनियन (टिकैत)के आह्वान में ‘रेल रोको’ का आयोजन के तहत भारी संख्या में किसान बंधुओं ने हिस्सा लेकर दिल्ली में आंदोलनत किसानों के समर्थन में एवं केंद्र सरकार द्वारा थोपे जा रहे 3 नए कानून का विरोध किया कृषि उपज मंडी प्रांगण चेक पोस्ट में एकत्र होकर किसानों ने रेलवे स्टेशन तक पैदल मार्च करते हुए किसान विरोधी केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।
रेलवे स्टेशन में तैनात भारी पुलिस बल एवं प्रशासनिक अधिकारियों के चलते किसानों को स्टेशन में प्रवेश ना मिलने के कारण स्टेशन परिसर के बाहर घंटों तक प्रदर्शन कर पेट्रोलियम पदार्थ की मूल्य वृद्धि के अलावा स्थानीय मुद्दों पर केंद्र एवं राज्य सरकार को आड़े हाथों लिया प्रदर्शन को संबोधित करते हुए भारतीय किसान यूनियन के जिला अध्यक्ष एडवोकेट रमेश पटेल ने कहा कि सरकार की किसान विरोधी नीति के कारण आज अन्नदाता को सड़कों पर काले झंडे लेकर उतरने विवश होना पड़ रहा है ।इसके तत्पश्चात 6सूत्रीय मांगों को भी अधिकारियों के समक्ष विस्तार से रखा गया। प्रदर्शन के उपरांत महामहिम राष्ट्रपति के नाम से सोपे गए ज्ञापन के माध्यम से मांग की गई कि केंद्र सरकार के तीनों नए कानून को वापस लिया जाए न्यूनतम समर्थन मूल्य का कानून बनाया जाए डीजल पेट्रोल पर बढ़ती कीमतों पर अंकुश लगाकर राज्य सरकारें दिल्ली राज्य की तरह टैक्स कम करें रेलवे यात्रियों को सामान्य दर का टिकट प्रारंभ किया जाए समर्थन मूल्य पर रवि फसल गेहूं के पंजीयन की तिथि बढ़ाई जाने की मांग की इस आयोजन में सभी किसानों की उपस्थिति उल्लेखनीय रही

 

शेयर करें: