सिहोरा की घाट सिमरिया में मंदिर की देखरेख करने वाले शख्स की दबंगई,मंदिर में कब्जा करते हुए किसान को दी जान से मारने की धमकी,देखें वीडियो

 

जबलपुर/सिहोरा:एक ऐसा व्यक्ति जो कुछ साल पहले भिक्षा मांगते हुए गाँव आया और मदन पटेल से आश्रय मांगकर रहने लगा जनसहयोग से पीपल के पेड़ के पास मंदिर का निर्माण करवाया गया ,जिस मंदिर की नींव मदन पटेल निवासी गड़चपा द्वारा रखी गई और चंदा वसूलकर जनसहयोग से मंदिर को बनाया गया , मदन पटेल द्वारा उसे मंदिर की देखरेख के हिसाब से आश्रय दिया गया था लेकिन आज वह शख्स जो बाहर से आकर मदन पटेल से आश्रय मांगकर रहता था मंदिर पर कब्जा जमाने लगा है ,इतना ही नहीं मदन पटेल को मंदिर के बगल से लगी   जमीन तक जाने पर गोली मारने की धमकी तक दे दी ,कुछ इस तरह के आरोप लगाते हुए मदन पटेल ने आज सिहोरा एसडीएम ,तहसीलदार और खितौला थाना में पुलिस को लिखित शिकायत देते हुए न्याय की गुहार लगाई है,

सिहोरा की घाटसिमरिया पँचायत का मामला

ये है पूरा मामला,

शिकायत कर्ता मदन पटेल ने बताया की उसकी कृषि भूमि रा.नि.म. खितौला ख. न.309 रकवा 0.43 है. में स्तिथ है, जहाँ पर हनुमान जी का मंदिर और पीपल का पेड़ है, यहाँ पर मदन पटेल द्वारा हनुमानजी के लिए मंदिर प्रांगड़ तैयार किया गया,साथ ही जनसहयोग से मंदिर का निर्माण करवाया गया ,लेकिन आज लक्ष्मण दास द्वारा मंदिर पर जबरिया कब्जा किया जा रहा है,जबकि लक्ष्मण उसके पास कुछ साल पहले भिक्षा मांगते हुए आया था और मैने उसे आश्रय देते हुए मंदिर प्रांगड़ में रहने की अनुमति दी थी ,साथ ही उसके लिए खाना खर्चा सब देता था की वह यहां रहकर मंदिर की देखरेख करता रहेगा ,लेकिन आज लक्ष्मण खुद को मंदिर का प्रमखु पुजारी बताते हुए मंदिर पर जबरन कब्जा कर रखा है,

खुद को बताता था ब्रम्हचारी 

वहीँ मदन पटेल द्वारा यह भी बताया गया की जब लक्ष्मण दास काछी मेरे पास आया था तो खुद को ब्रम्हचारी बताता था लेकिन आज उसका नवजवान लड़का मंदिर में आकर रहने लगा है ,जिसको वह मंदिर का उत्तराधिकारी घोसित कर रहा है, इतना ही नहीं उसकी पत्नी भी समय -समय पर मंदिर में आकर रहती है, जो खुद को ब्रम्हचारी बताता था उसकी दो पत्नियां है, और 5 संताने भी है, जब मदन पटेल द्वारा इस बात का विरोध किया गया की मंदिर में महिलाओं को मत बुलाये करना तो लक्ष्मण द्वारा मदन पटेल को जान से मारने की धमकी दी गई ,फरियादी मदन पटेल ने पुलिस-प्रशासन से मंदिर में जबरन कब्जा करने वाले लक्ष्मण दास को मंदिर से बाहर निकालने की प्रार्थना करते हुए न्याय की गुहार लगाई गई है,

 

 

शेयर करें: