सोमवती अमावस्या कल दरिद्रता मिटाने के लिए करें ये उपाय 

 

 

ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार———-💰 *जिनको अपनी दरिद्रता मिटाना है -*

*घर में बरकत या धंदे में बरकत लाना है, दरिद्रता को दूर भगाना है*

🌿 *तो तुलसी के पौधे को सोमवती अमावस्या के दिन १०८ परिक्रमा करे और उस दिन मौन रहे , मंत्र जप करे।*📿

**12 अप्रैल 2021 सोमवार को सूर्योदय से सुबह 08:01 तक) सोमवती अमावस्या है ।*

*दरिद्रता मिटाने के लिए ,जॉबर लोगों के लिए तो बहुत जरुरी है ये ,जो नौकर है , गुलाम है | सर्विस कहो जॉब कहो एक ही बात है | ज़रा मीठा शब्द है जॉब | गुलामी करते करते दिमाग ऐसा बन जाता है की कही नौकरी न छुट जाए ,कही बॉस न रूठ जाये ,अरे ईश्वर रूठा रहता है उसकी तुम्हे शर्म नहीं आती और 2 पैसों के पुतले को मना मना कर मारे जा रहे हो | ईश्वर को एक बार मना लो फिर सारी दुनिया तुम्हे मनाने के लिए तुम्हारे पीछे पीछे न घुमे तो मेरे पास चले आना | भागती फिरती थी दुनिया जब की तलब करते थे हम , अब की ठुकरा दी तो वो बेक़रार आने को है |*

👉🏻 *जो जॉबर लोग है ,अथवा जो धंधे में फेल हुए है , अथवा तो जिनको किसी का लेना है , क़र्ज़ है और क़र्ज़ चुकाने की नियत अच्छी है तो बरकत आएगी नहीं तो कंगले हो जाओगे , पक्की बात है | किसी का कर्जा सिर पर लेकर मरना बहुत खतरा है | कई जन्मों के बाद भी चुकाना पड़ता है , कोर्ट कचेरी भले कुछ न करे , तभी भी कर्म का सिद्धान्त है | ऐसे कई द्रष्टांत है अपने पास | तुलसी के पौधे को १०८ परिक्रमा करे और उस दिन मौन रहे , मंत्र जप करे।*📿

🌓 *ग्रहन के समय , जन्माष्टमी के समय , होली और दिवाली की रात को जो फायदा होता है जप-ध्यान का, तप का , वो फायदा ………पक्का कर लेना सौ काम छोड़कर भोजन कर ले , हज़ार काम छोड़ कर स्नान कर ले, लाख काम छोड़ कर सत्कर्म कर ले, कोटि त्यक्त्वा हरि भजेत, करोड़ काम छोड़कर सोमवती अमावस्या को हरि का भजन और तुलसी की परिक्रमा तुम्हे करनी ही चाहिए।*

🌷 *अगर नहीं करते तो तुम मेरे शिष्य ही नहीं हो | महिला मासिक धर्म में हो तो उसको छुट है | बाकी के लोग ये जरुर करना | इससे आपको बहुत लाभ होगा, धन लाभ, आर्थिक लाभ भी होगा,बुद्धि लाभ भी होगा, पुण्य लाभ भी होगा |*

मेरे बताएं यह उपाय हर किसी के ऊपर लागू नहीं होते हैं सबसे पहले कुंडली का निरीक्षण कर ले और जब आपकी कुंडली अनुकूल हो तो ही मेरे बताएं उपाय आप अपनाएं **लेकिन, यदि आपके मन में कोई और दुविधा है या इस संदर्भ में आप और ज्यादा विस्तृत जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं ज्योतिष व वास्तु के लिए सम्पर्क करे* **ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी** अगर आपको ग्रह दशा के बारे में जानकारी चाहिए तो आप हमें +91-9302409892 पर कॉल करें। या आप हमें
“अपना नाम”
“जन्म दिनांक”
“जन्म समय”
“जन्म स्थान”
व्हाट्सएप करें!! धन्यवाद
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार देखा जाए तो हर व्यक्ति का जन्म होते ही वह अपने प्रारब्ध के चक्र से बंध जाता है और ज्योतिषशास्त्र द्वारा निर्मित जन्म कुंडली हमारे इसी प्रारब्ध को प्रकट करती है। हमारे जीवन में सभी घटनाएं बारह राशि व नवग्रह द्वारा ही संचालित होती हैं। इन ग्रहों का आपके जीवन पर आने वाले समय में कैसा प्रभाव पड़ेगा इसके बारे में विस्तृत जवाब जानने के लिए अभी आप भी कर्ज़ की समस्या से परेशान हैं, और उससे जुड़ा कोई व्यक्तिगत उपाय, निवारण जानना चाहते हों या इससे जुड़े किसी सवाल का जवाब चाहिए हो तो
अभी इस नंबर पर आप संपर्क कर सकते हैं l 9302409892

शेयर करें: