सरौली( मझगवां) में सेल्समैन का कारनामा,हर तौल में एक किलो कम होती है सरकारी अनाज की तौल,ग्रामीण परेसान

 

जबलपुर :सरकार मिलावट और कालाबाजारी करने वालों के खिलाप अभियान चलाकर कार्यवाही करने के दावे करती है लेकिन जब सरकारी सिस्टम ही गरीबो के हक को मारने लगे तो उसे क्या कहेंगे सरौली  के  ग्रामीणों का तो आरोप यहाँ तक है की सेल्समैन अर्जुन पटेल द्वारा सरकारी अनाज की कालाबाजारी भी की जाती है, क्योंकि उनसे गत दो माह से नमक और चावल के पैसे जमा करवाये जा रहे है लेकिन नमक चावल दो महीने से ग्रामीणों को वितरित नहीं किया गया ,जबकि नमक और चावल सोसायटी में आया था लेकिन कहाँ चला गया ये किसी को जानकारी नहीं है,

हर तौल में एक किलो कम की जाती है तौल ,

इतना ही नहीं सरौली वासीयो ने सेल्समैन अर्जुन पर आरोप लगाते हुए बताया की पर व्यक्ति मिलने वाले सरकारी अनाज की तौल में एक किलो कम तौल की जाती है, मतलब सीधा है, यदि 1000  कार्डधारी है तो कम तौल करने से बचे 1000 किलो अनाज की कालाबाजारी की जा रही है ,नहीँ तो कहाँ जाता होगा कम तौल करने से  बचा हुआ अनाज हलाकि इस बात का कई बार ग्रामीणों द्वारा विरोध करते हुए हंगामा भी किया गया ,लेकिन हाल जस के तस बने हुए है,

कोरोना गाइडलाइन का नहीं होता पालन

वहीं सेल्समैन द्वारा ग्रामीणों की भीड़ बगैर मास्क के इकठ्ठी कर राशन पर्ची बनाने सहित वितरण का काम किया जाता है जबकि मास्क नहीं तो सामान नहीं का नारा सीएम शिवराज खुद दे चुके है, अब ऐसे में जब पूरे प्रदेश में मास्क नहीं तो सामान नहीं का अभियान चलाया जा रहा है उसके बाद भी इस सरकारी सोसायटी में सरकारी नियमों का पालन क्यों नहीं करवाये जा रहे है,

 

शेयर करें: