बुध के इस गोचर से इन राशि के जातकों पर पड़ेगा ये प्रभाव ,जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर

 

ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार——ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बुध ग्रह को सभी ग्रहों में राजकुमार की संज्ञा दी गयी है। बुध ग्रह को बेहद ही सौम्य और शुभ ग्रह माना जाता है। सूर्य के सबसे नजदीक मौजूद यह ग्रह सभी ग्रहों में सबसे छोटा ग्रह है। बुध ग्रह को जातक के जीवन में बुद्धि, बहन के साथ सम्बन्ध, शरीर की त्वचा, तार्किक क्षमता, लेखन, गणित, वाणी में सहजता या संयम का कारक ग्रह माना जाता है। ऐसे में यह समझना कठिन नहीं है कि बुध का गोचर ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कितना महत्व रखता है। साल 2021 में 1 अप्रैल को बुध ग्रह अपने मित्र ग्रह शनि की राशि कुंभ से निकलकर बृहस्पति की राशि मीन प्रवेश करने वाला है। ऐसे में यह देखना काफी दिलचस्प होगा कि बुध का यह गोचर सभी राशियों के जातकों के जीवन पर क्या प्रभाव डालने वाला है।

बुध ग्रह का गोचर मीन राशि में
कब से
तिथि : 1 अप्रैल 2021

दिन : बृहस्पतिवार

समय : सुबह 12 बजकर 52 मिनट से

कब तक
तिथि : 16 अप्रैल 2021

दिन : शुक्रवार

समय : रात्रि 09 बजकर 05 मिनट तक

अवधि : 15 दिन

**मेष राशि**
मेष राशि के जातकों के लिए इस गोचर की अवधि में सकारात्मक फल की प्राप्ति नहीं होगी। मेष राशि के जातकों को कार्यक्षेत्र में सजग रहने की जरूरत है। उन्नति में बाधाएं आएंगी। सहकर्मियों के साथ गलतफहमियां बढ़ सकती हैं। कोई भी यात्रा तनावपूर्ण और थकान भरी साबित हो सकती है। ऐसे में यात्रा से जितना हो सके बचें। हालांकि मेष राशि वाले जातकों को इस गोचर की अवधि में भाई-बहनों का सहयोग मिलेगा। छात्रों के लिए भी यह अवधि शुभ रहने वाली है। प्रतियोगी परीक्षाओं में बेहतर परिणाम मिल सकते हैं। खर्च में वृद्धि होगी।

**वृषभ राशि**
वृषभ राशि के जातकों के लिए यह गोचर शुभ परिणाम देने वाला साबित होगा। इस दौरान उनका पारिवारिक जीवन सुखद रह सकता है। परिवार के सदस्यों से हर तरह का सहयोग प्राप्त होगा। वैसे जातक जो फिलहाल एकल जीवन व्यतीत कर रहे हैं उन्हें इस अवधि में नए प्रस्ताव मिल सकते हैं। विवाह के भी योग बन सकते हैं। प्रेम जीवन में गलतफहमियां कम होने की संभावना है। कार्यक्षेत्र बेहतर रहेगा और आय में वृद्धि होगी। व्यापार के लिए भी यह समय शुभ रहने वाला है। छात्रों का पढ़ाई में मन लगा रहेगा। मुश्किल विषयों को भी समझने में आसानी होगी।

**मिथुन राशि**
मिथुन राशि के जातकों के मन में इस गोचर की अवधि के दौरान अपने कार्य को लेकर एक अनजाना भय व्याप्त रहेगा। विश्वास में कमी आएगी। कार्यक्षेत्र में कार्य आधे-अधूरे रह सकते हैं। खर्चे बढ़ेंगे। माँ के स्वास्थ्य को लेकर सजग रहने की जरूरत है। घर में किसी भी प्रकार के मरम्मत से समय और धन दोनों की हानि होगी, ऐसे में इस अवधि में ऐसे कार्य से बचें। किसी भी संपत्ति में निवेश करने से पहले कागज़ को ठीक ढंग से पढ़ें। हालांकि मिथुन राशि के जातकों को इस दौरान परिवार से पूरा सहयोग मिलने की संभावना है। छात्रों को किसी भी विषय को समझने में अधिक मेहनत करनी पड़ सकती है।

**कर्क राशि**
इस अवधि में कर्क राशि के जातकों का अपने भाई-बहनों से किसी भी वजह से मतभेद हो सकता है। जरूरत है कि आप अपने भाई-बहनों की बातों को ध्यान से सुनें और समझें। घर के किसी इलेक्ट्रॉनिक सामान में खराबी आ सकती है जिसमें पैसे खर्च होंगे। यात्रा से बचें। नौकरी में स्थानांतरण के योग बन रहे हैं जो कि असंतोष का भाव पैदा करेगा। कार्यक्षेत्र में सहकर्मियों के बीच आपके कार्य को लेकर असंतोष बढ़ेगा। इस दौरान आपको खुद को संयमित और मन को शांत रखने की जरूरत है। कर्क राशि वाले जातक इस दौरान किसी पुरानी कला में निवेश करेंगे तो इस निवेश के अच्छे परिणाम मिल सकते हैं।

**सिंह राशि**
सिंह राशि के जातक इस गोचर के दौरान किसी भी बड़े निवेश से बचें। ख़ास तौर से वैसे जातक जो शेयर मार्केट में किसी प्रकार का निवेश करने की सोच रहे हैं उन्हें 16 अप्रैल तक इससे दूर रहने की सलाह दी जाती है। निजी जीवन में वाणी पर नियंत्रण रखने की जरूरत है। आपकी संगती की वजह से आपकी छवि को नुकसान पहुँच सकता है। खर्च में वृद्धि होने की संभावना है। हालांकि जीवनसाथी और ससुराल पक्ष से किसी प्रकार का बड़ा लाभ भी मिलने की संभावना बन रही है। पेट और त्वचा सम्बन्धी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

**कन्या राशि**
कन्या राशि के लिए इस गोचर की अवधि शुभ परिणामों को देने वाला साबित हो सकता है। कार्यक्षेत्र में तरक्की के योग बन रहे हैं। वेतन में वृद्धि हो सकती है। पदोन्नति की संभावना बन रही है। हालांकि मन में किसी प्रकार का भय आत्मविश्वास में कमी ला सकता है जिसकी वजह से बड़े निर्णय लेने में परेशानी हो सकती है। अपने फैसलों पर विश्वास बनाए रखने की जरूरत है। प्रेम सम्बन्ध में सुधार होगा, रिश्तों में मजबूती आएगी। पिता और पत्नी का सहयोग मिलने की संभावना है। सामाजिक प्रतिष्ठा में भी बढ़ोतरी के योग भी बन रहे हैं।

**तुला राशि**
तुला राशि के जातकों के मन में इस अवधि के दौरान कार्यक्षेत्र में अधिक मेहनत के बदले कम फल मिलने की शिकायत बनी रह सकती है जिसकी वजह से मानसिक तनाव में वृद्धि होने की आशंका है। गुप्त बातों को किसी के साथ साझा करें से बचें। दुश्मन आप पर हावी हो सकते हैं। किसी भी प्रकार के वाद-विवाद या तर्क से दूर रहने की कोशिश करें। हालांकि इस अवधि में आपके पिता को उनके कार्यक्षेत्र में शुभ फल प्राप्त हो सकते हैं। किसी भी प्रकार का ऋण लेने से बचें। स्वास्थ्य के प्रति सजग रहने की जरूरत है। रोग प्रतिरोधक क्षमता में गिरावट हो सकती है। खानपान को लेकर सजग रहने की जरूरत है।

**वृश्चिक राशि**
वृश्चिक राशि के जातकों को सलाह दी जाती है कि इस गोचर की अवधि में किसी भी प्रकार के सट्टे अथवा गैर कानूनी कार्य से खुद को दूर रखें। शेयर बाजार में भी इस दौरान निवेश करना आपके लिए अशुभ परिणाम ला सकता है। वैसे छात्र जो किसी शोध से जुड़े हैं उन्हें इस गोचर के दौरान शुभ परिणाम मिल सकते हैं। नयी नौकरी या फिर मनचाही नौकरी की तलाश कर रहे जातकों के लिए यह समय शुभ रहने की संभावना है। कार्यक्षेत्र में अपने अधिकारियों और सहकर्मियों से खुल कर बात करें, कार्यक्षेत्र में लाभ मिलेगा। प्रेम सम्बन्ध के लिहाज से यह समय प्रतिकूल रहने वाला है। गलतफहमियां बढ़ेंगी और विवाद होने की भी संभावना है। किसी करीबी या फिर मित्र से मुलाक़ात हो सकती है जिसकी वजह से मन प्रसन्न रहेगा।

**धनु राशि**
जीवन साथी के कार्यक्षेत्र के लिहाज से बेहद अनुकूल समय। जीवन साथी को नौकरी में किसी प्रकार लाभ मिल सकता है जिसकी वजह से आपके मान-सम्मान में भी वृद्धि होगी। जीवनसाथी के साथ-साथ आपको भी कार्यक्षेत्र में तरक्की मिलने की संभावना है। हालांकि इस अवधि में आपके सम्बन्ध आपके जीवनसाथी के साथ उतने बेहतर नहीं रहने की संभावना है। छोटी-छोटी बातों पर आप दोनों का विवाद हो सकता है। एक-दूसरे को ध्यान से सुनने और समझने की जरुरत। किसी भी प्रकार का निवेश शुभ परिणाम देने वाला साबित हो सकता है। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। स्वास्थ्य के प्रति सजग रहने की जरूरत है। वजन बढ़ने की वजह से परेशान रह सकते हैं।

**मकर राशि**
वाणी को लेकर संयमित रहने की जरूरत है। भाई-बहन को उनके क्षेत्र में दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। उनका मार्गदर्शन करें। कार्यक्षेत्र में सहकर्मी बेहतर सहयोग देते नज़र आएंगे। किस भी नए उपकरण को खरीदने से बचें, हानि हो सकती है। इंटरनेट पर कुछ भी लिखने से पहले काफी सोच-विचार लें अन्यथा बुरे परिणाम मिल सकते हैं। गले, कंधे और कान से जुड़ी स्वास्थ्य समस्याओं से दो-चार होना पड़ सकता है।

**कुम्भ राशि**
कुम्भ राशि के जातक धन संचय करने में सफल रहेंगे। आय अपेक्षा से अधिक रहने की संभावना है। शेयर बाजार में निवेश करने के लिए बेहद अनुकूल समय। पैतृक संपत्ति से अचानक ही किसी प्रकार का मुनाफा हो सकता है। कला या फिर गायन से जुड़े जातकों को इस दौरान प्रशंसा मिलेगी जिसकी वजह से समाज में प्रतिष्ठा में इजाफा हो सकता है। वाणी पर नियंत्रण रखने की जरूरत है। प्रेम सम्बन्ध में साथी के स्वास्थ्य सम्बन्धी परेशानी को लेकर मन चिंतित रह सकता है। दाम्पत्य जीवन मधुर बना रहने की संभावना है। संतान पक्ष से किसी प्रकार की शुभ खबर मिल सकती है जिससे मन प्रसन्न रहेगा। छात्रों के लिए भी यह समय शुभ परिणाम देने वाला साबित होगा। दांत, पेट और आँख सम्बन्धी समस्याएं हो सकती हैं।

**मीन राशि**
रचनात्मकता में वृद्धि होगी। जीवन साथी को कार्यक्षेत्र में किसी प्रकार की तरक्की मिलने के योग बन रहे हैं। आपके कार्यक्षेत्र में आपके स्वभाव की वजह से सहकर्मियों के साथ आपके रिश्ते थोड़े तनाव भरे रह सकते हैं। वाणी पर नियंत्रण और मन को शांत रखने की जरूरत है। व्यापारी वर्ग को घर के किसी बुजुर्ग से आर्थिक सहयोग मिल सकता है। घर में किसी प्रकार का मांगलिक कार्य अथवा शुभ कार्य संपन्न हो सकता है। प्रेम सम्बन्ध के लिहाज से सजग रहने का समय। किसी प्रकार की संपत्ति का विवाद सुलझ सकता है जिसका फैसला आपके पक्ष में रहने की संभावना है। मातृ पक्ष से स्नेह और आर्थिक सहयोग मिलने के योग भी बन रहे हैं।

मेरे बताएं यह उपाय हर किसी के ऊपर लागू नहीं होते हैं सबसे पहले कुंडली का निरीक्षण कर ले और जब आपकी कुंडली अनुकूल हो तो ही मेरे बताएं उपाय आप अपनाएं **लेकिन, यदि आपके मन में कोई और दुविधा है या इस संदर्भ में आप और ज्यादा विस्तृत जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं ज्योतिष व वास्तु के लिए सम्पर्क करे* **ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी** अगर आपको ग्रह दशा के बारे में जानकारी चाहिए तो आप हमें +91-9302409892 पर कॉल करें। या आप हमें
“अपना नाम”
“जन्म दिनांक”
“जन्म समय”
“जन्म स्थान”
व्हाट्सएप करें!! धन्यवाद
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार देखा जाए तो हर व्यक्ति का जन्म होते ही वह अपने प्रारब्ध के चक्र से बंध जाता है और ज्योतिषशास्त्र द्वारा निर्मित जन्म कुंडली हमारे इसी प्रारब्ध को प्रकट करती है। हमारे जीवन में सभी घटनाएं बारह राशि व नवग्रह द्वारा ही संचालित होती हैं। इन ग्रहों का आपके जीवन पर आने वाले समय में कैसा प्रभाव पड़ेगा इसके बारे में विस्तृत जवाब जानने के लिए अभी आप भी कर्ज़ की समस्या से परेशान हैं, और उससे जुड़ा कोई व्यक्तिगत उपाय, निवारण जानना चाहते हों या इससे जुड़े किसी सवाल का जवाब चाहिए हो तो
अभी इस नंबर पर आप संपर्क कर सकते हैं l 9302409892

शेयर करें: