274 लोगों को अस्थाई जेल भेजते हुए 66 दुकानदारों के खिलाप 188 की कार्यवाही 

जबलपुर :एक तरफ तो कोरोना का कोहराम जारी है तो रोकथाम करने जनता कर्फ्यू का पालन करवाने चप्पे -चप्पे में पुलिस मुस्तेद है,लोगों को पता होने के बाद भी कुछ लोग है की मानते ही नहीं तो वहीँ वेबजह घुमने वालों सहित चोरी छुपे दुकान खोलने वाले दुकानदारों के खिलाप पुलिस द्वारा लगातार कार्यवाही की जा रही है,इसी कड़ी में आज 274 लोगों को अस्थाई जेल भेजते हुए 66 दुकानदारों के खिलाप 188 की कार्यवाही की गई है,पुलिस से प्राप्त जानकारी के मुताबिक आज प्रातः से शाम 6 बजे तक कोरोना गाइडलाइन का पालन न करने वालों व मुंह पर मास्क न लगाने एवं सोशल डिस्टेंस का पालन न करने वाले 2832 व्यक्तियों पर चालानी कार्रवाई करते हुए 2 लाख 85 हजार 700 रुपए  समन शुल्क फाइन किया गया,

गौरतलब है की पिछले कुछ दिनों से कोरोना वायरस संक्रमण के बढते प्रकरणों को ध्यान में रखते हुये कोविड-19 की गाईड लाइन का कड़ाई से पालन कराने हेतु एवं कोरोना संकमण की चेन को ब्रेक करने हेतु मध्य प्रदेश शासन के निर्देशानुसार जबलपुर जिले में दिनाॅक 12-4-21 से आदेशित लाॅकडाउन का कड़ाई से पालन कराने हेतु पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.), के आदेशानुसार पूरे शहर एवं देहात मे 48 फिक्स प्वाईट लगाये गये एवं 36 थाना मोबाईल एवं 42 एफ.आर.व्ही. मोबाईल, तथा 36 चीता मोबाईलों के अलावा 36 अतिरिक्त मोबाईलें लगायी गयी है।आज दिनाॅक 8-5-21 को प्रातः से शाम 6 बजे तक कोरोना गाईड लाईन का उल्लंघन कर बिना वजह घूम रहे 274 लोगों को अस्थाई जेल में निरूद्ध कराया गया एवं 66 दुकानदारों के विरूद्ध 188,269,270 भादवि एवं आपदा प्रबंधन एक्ट के तहत कार्यवाही की गयी तथा मुंह पर मास्क न लगाने एवं सोशल डिस्टेंस का पालन न करने वाले 2832 व्यक्तियों पर कार्रवाई करते हुए 2 लाख 85 हजार 700 रुपए समन शुल्क फाइन किया गया है। कार्यवाही अभी निरंतर जारी है।

तो वहीँ *पुलिस अधीक्षक  सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) ने जबलपुर संस्कारधानी वासियों से अपील की है कि फैल रहे कोरोना वायरस के संक्रमण एवं वर्तमान परिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुये कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये सावधानी बरतने की आवश्यकता है, कोरोना के संकमण की चेन को ब्रेक करने हेतु हर व्यक्ति का यह विशेष दायित्व है कि कोरोना प्रोटाकाॅल का सख्ती से पालन करते हुये जरूरी कार्य होने पर ही घर से बाहर निकलें, बच्चों और बुजुर्गो को अनावश्यक घर से बाहर न जाने दें, जब भी घर से बाहर निकलें मास्क अनिवार्य रूप से लगाये, फिजिकल डिस्टेंस दो गज की दूरी के नियम का कडाई से पालन करें, भीड का हिस्सा न बनें, समय समय पर हाथ को साबुन पानी से धोयें एवं सैनेटाईज करें, सर्दी, खांसी, बुखार और सांस लेने में तकलीफ होने जैसे लक्ष्ण होने पर तुरंत निकटतम फीवर क्लीनिक में जाकर जांच करायें।*

शेयर करें: