संविदा स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल से मरीज परेसान 

 

जबलपुर /सिहोरा:संविदा स्वास्थ्य कर्मियों के द्वारा पिछले 2 दिनों से की जा रही अनिश्चित कालीन हड़ताल का असर नगर के सामुदायिक और प्राथमिक अस्पतालों में दिखना शुरू हो गया है। स्थिति यह है कि अस्पतालों में इमरजेंसी सेवाओं को छोड़कर ओपीडी से लेकर दवा वितरण, टीकाकरण, कोरोना से लेकर दूसरी सभी जांचो सहित शासन की स्वास्थ्य योजनाओं की रिपोर्टिंग पूरी तरह से प्रभावित हो रही हैं हैं। इससे अस्पतालों में इलाज के लिए पहुंचने वाले मरीजों को इंतजार के बाद इलाज कराए बिना ही वापस लौटना पड़ रहा है।
सिहोरा विकासखंड अंतर्गत सिविल अस्पताल सिहोरा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खितौला प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र महकमा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गोसलपुर अस्पतालों में संविदा चिकित्सक, आयुष विभाग के चिकित्सक, एएनएम, स्टॉफ नर्स, लैब टेक्नीशियन सहित अन्य संविदा कर्मचारी ही ज्यादातर स्वास्थ्य सेवाओं की जिम्मेदारी संभाले हैं। ऐसे में उनके हड़ताल पर चले जाने की वजह से स्वास्थ्य व्यवस्थाएं बुरी तरह से प्रभावित हो रही हैं। इससे अस्पतालों में मरीजों को इलाज मिल पाना भी मुश्किल हो गया है और मरीजों को झोलाछापों के क्लीनिकों पर इलाज करवाना पड़ रहा है।

कर्मचारियों ने बताया कि सरकार कैबिनेट में सारी बातें तय हो जाने के बाद भी उन्हें अभी तक नियमित कर्मचारी बना सकी है और नहीं उन्हें नियमित कर्मचारियों के बराबर वेतन दिला सकी है। इससे उन्हें विपरीत हालातों में जान का जोखिम उठाकर नौकरी करने के बाद भी आधा वेतन ही मिल पा रहा है। उन्होंने मांग की है कि सरकार उन्हें नियमित कर्मचारी का वेतन दे, नहीं तो वह काम पर वापस नहीं लौटेंगे। उल्लेखनीय है कि सिहोरा विकासखंड में लगभग आधा सैकड़ा संविदा स्वास्थ्य कर्मी अपनी जान जोखिम में डालकर लगातार स्वास्थ्य सुविधा प्रदान कर रहे हैं किंतु शासन उनके हितों की लगातार उपेक्षा कर रहा है संविदा स्वास्थ्य कर्मियों ने विकासखंड स्वास्थ्य अधिकारी को जिला स्वास्थ्य अधिकारी के नाम का ज्ञापन सौंपकर नियमितीकरण की मांग की है।
*मझौली में भी सौंपा ज्ञापन*
संविदा स्वास्थ्य संघ कर्मचारी के द्वारा 24 मई 2021 प्रदेश व्यापी अनिश्चितकालीन हड़ताल का आगाज किया गया है इस हेतु सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मझौली जिला जबलपुर के समस्त कर्मचारी के साथ मझौली संविदा संघ के अध्यक्ष मझौली डॉ रवि कांत मिश्रा जी एवं माननीय सुनील नेमा जी के नेतृत्व में हड़ताल में जाने का समर्थन करते हैं l राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन में कार्यरत संविदा कर्मियों ने विकासखंड स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर पारस ठाकुर को ज्ञापन सौपा है।
इनका कहना है
संविदा स्वास्थ्य कर्मियों के हड़ताल पर जाने से नगर एवं ग्रामीण क्षेत्र की स्वास्थ्य सुविधाएं सहित शासन की स्वास्थ्य योजनाएं प्रभावित हो रही हैं फिर भी दवा वितरण टीकाकरण सहित अन्य आवश्यक सुविधा मैनेज कर प्रभावित नहीं होने दी जाएंगी।
डॉक्टर आरपी त्रिपाठी
विकासखंड स्वास्थ्य अधिकारी सिहोरा

 

शेयर करें: