शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी के इन मंत्रों का करें राशि अनुसार जाप 

 

**ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार———-**
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सप्ताह में शुक्रवार का दिन मां लक्ष्मी को समर्पित है। हर व्यक्ति को अपने जीवन में मां लक्ष्मी की विशेष कृपा चाहिए होती है क्योंकि मां लक्ष्मी को धन धान्य और सुख समृद्धि की देवी माना जाता है और इनके बिना जीवन अधूरा होता है। ऐसे में जिन व्यक्तियों को अपने जीवन में बार-बार आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, लोन और उधार की समस्या कम होने के बजाय बढ़ती जा रही है उन्हें विशेषतौर पर मां लक्ष्मी की पूजा करने की सलाह दी जाती है। शुक्रवार का व्रत करने से व्यक्ति को शुभ परिणाम हासिल करने में मदद मिलती है।

शुक्रवार के दिन बहुत से लोग मां लक्ष्मी की पूजा भी करते हैं। ऐसे में इस पूजा का फल और बढ़ाने के लिए यदि आप शुक्रवार व्रत में मां लक्ष्मी की पूजा में अपनी राशि अनुसार मंत्र का जाप करें तो इससे आपको शुभ परिणाम अवश्य हासिल होता है। यहां हम आपको आपकी राशि के अनुसार सही मंत्र की जानकारी प्रदान कर रहे हैं। बस इस बात का ध्यान रखिए कि इन मंत्रों का जाप हमेशा पूरी श्रद्धा के साथ और स्पष्ट उच्चारण पूर्वक करना चाहिए।

मेष राशि

ॐ ऐं क्लीं सौं:

वृषभ राशि

ॐ ऐं क्लीं श्रीं

मिथुन राशि

ॐ क्लीं ऐं सौं:

कर्क राशि

ॐ ऐं क्लीं श्रीं

सिंह राशि

ॐ ह्रीं श्रीं सौं:

कन्या राशि

ॐ श्रीं ऐं सौं:

तुला राशि

ॐ ह्रीं क्लीं श्रीं

वृश्चिक राशि

ॐ ऐं क्लीं सौं:

धनु राशि

ॐ ह्रीं क्लीं सौं:

मकर राशि

ॐ ऐं क्लीं ह्रीं श्रीं सौं:

कुम्भ राशि

ॐ ह्रीं ऐं क्लीं श्रीं

मीन राशि

ॐ ह्रीं क्लीं सौं:

शुक्रवार व्रत विधि

शुक्रवार के दिन सबसे पहले उठकर स्नान आदि करने के बाद व्रत और पूजा का संकल्प लें। व्रत नहीं भी कर सकते हैं तो पूजा का संकल्प लें और सच्ची निष्ठा के साथ दिन की पूजा करें। इस दिन की पूजा में देवी लक्ष्मी और सभी भगवानों को फूल, अक्षत और प्रसाद आदि अर्पित करें। मंत्र जाप करने के लिए कमलगट्टे की माला का प्रयोग कर सकते हैं। इसके बाद लक्ष्मी मां की स्तुति पढ़ें और इस दिन से संबंधित व्रत कथा पढ़े और दूसरों को सुनाएं। अंत में मां लक्ष्मी की आरती उतारें। आपकी सभी मनोकामनाएं माँ लक्ष्मी अवश्य पूरी करेंगी।

**लेकिन, यदि आपके मन में कोई और दुविधा है या इस संदर्भ में आप और ज्यादा विस्तृत जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं ज्योतिष व वास्तु के लिए सम्पर्क करे* **ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी** अगर आपको ग्रह दशा के बारे में जानकारी चाहिए तो आप हमें +91-9302409892 पर कॉल करें। या आप हमें
“अपना नाम”
“जन्म दिनांक”
“जन्म समय”
“जन्म स्थान”
व्हाट्सएप करें!! धन्यवाद
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार देखा जाए तो हर व्यक्ति का जन्म होते ही वह अपने प्रारब्ध के चक्र से बंध जाता है और ज्योतिषशास्त्र द्वारा निर्मित जन्म कुंडली हमारे इसी प्रारब्ध को प्रकट करती है। हमारे जीवन में सभी घटनाएं बारह राशि व नवग्रह द्वारा ही संचालित होती हैं। इन ग्रहों का आपके जीवन पर आने वाले समय में कैसा प्रभाव पड़ेगा इसके बारे में विस्तृत जवाब जानने के लिए अभी आप भी कर्ज़ की समस्या से परेशान हैं, और उससे जुड़ा कोई व्यक्तिगत उपाय, निवारण जानना चाहते हों या इससे जुड़े किसी सवाल का जवाब चाहिए हो तो
अभी इस नंबर पर आप संपर्क कर सकते हैं l 9302409892

शेयर करें: