लापरवाही:गिदुरहा की गौशाला में पानी और बिजली की समस्या,अँधेले में रह रहीं गायें पानी की भी व्यवस्था नहीं 

जबलपुर :गोवंश को संरक्षित करने बनाई गई गौशाला पर्याप्त इंतजाम की कमी के चलते संचालकों के लिए परेशानी का सबब बन गई है शासन द्वारा दीवारें खड़ी कर शेड निर्माण कर गौशाला का नाम तो दे दिया किंतु गोवंश के लिए ना तो पीने की पानी की व्यवस्था है ना ही प्रकाश कि यहां तक कि चारागाह के लिए आरक्षित भूमि भी अतिक्रमण का शिकार हो चुकी है
सिहोरा जनपद अंतर्गत ग्राम पंचायत गिदुरहा में नवनिर्मित गौशाला का लोकार्पण क्षेत्रीय विधायक नंदनी मरावी के मुख्य अतिथि सिहोरा अनुविभागीय अधिकारी एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत की उपस्थिति में किया गया था तथा गौशाला की विद्युत आपूर्ति सतत किए जाने 3 दिन में ट्रांसफार्मर शिफ्ट करने विद्युत मंडल के आला अधिकारियों ने आश्वासन दिया था किंतु लगभग एक माह का समय हो जाने के बाद भी आज दिनांक तक ट्रांसफार्मर ना लगने के कारण गौशाला में पल रहे सैकड़ों मवेशियों को अंधेरे के साथ पेयजल संकट से जूझना पड़ रहा है
ग्राम के सरपंच विनोद पटेल ने बताया कि फिलहाल टैंकर से पानी की आपूर्ति की जा रही है ब्रोकन हिल माइस से टैंकर से पानी लाकर पशुओं को उपलब्ध कराया जा रहा है किंतु नवनिर्मित गौशाला में प्रकाश की कोई व्यवस्था नहीं है वर्तमान में गौशाला में 116 नग गोवंश संरक्षित हैं।
*चारागाह की भूमि अतिक्रमण की शिकार*
सरपंच विनोद पटेल ने बताया कि गौशाला के लिए चारागाह हेतु गिदुरहा ग्राम पंचायत अंतर्गत खसरा नंबर 638, 642, 639, 617, मद चरोखर शासकीय भूमि आरक्षित की गई थी । किंतु आरक्षित भूमि अतिक्रमण का शिकार हो चुकी है जिसकी शिकायत पंचायत ने मझगमा थाना सहित विभागीय अधिकारियों से की है। बताया जाता है कि आरक्षित भूमि में कुछ लोगों ने गेहूं की फसल उगा रखी है।

 

शेयर करें: