बटुए में अवश्य रखें ये चीज़ें,मां लक्ष्मी की आप पर बनी रहेगी कृपा

 

**ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार——बटुए में अवश्य रखें ये चीज़ें**
चांदी का सिक्का: वास्तु शास्त्र के अनुसार कहा जाता है यदि आप अपने पर्स या बटुए में चांदी का सिक्का रख लें तो इससे मां लक्ष्मी की कृपा आप पर बनी रहेगी। ध्यान रखें यह सिक्का रखने से पहले इसकी पूजा कर लें और इसे मां लक्ष्मी को अवश्य अर्पित करें। इसके अलावा आप चाहे तो अपने बटुए में मां लक्ष्मी का एक चित्र भी रख सकते हैं।

पीपल का एक पत्ता: हिंदू धार्मिक मान्यताओं में पीपल के पेड़ को पूजनीय माना जाता है। ऐसे में पीपल के पेड़ की पूजा की जाती है और यदि आप अपनी पर्स या फिर अपने बटुए में पीपल का एक पत्ता रख ले तो इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है और आपके जीवन में कभी भी धन की कमी नहीं रहती है। पीपल का पत्ता पर्स में रखने से पहले एक बात का विशेष ध्यान रखें कि इस पत्ते पर सिंदूर से ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं नम : लिख कर रखें।

कुबेर और श्री यंत्र: इसके अलावा आप चाहें तो अपने बटुए में कुबेर यंत्र या फिर श्री यंत्र की तांबे की एक पट्टी बनाकर अपने पास रख सकते हैं। ऐसा करने से भी मां लक्ष्मी का आशीर्वाद आप पर बना रहे और आपका बटुआ हमेशा ही पैसों से भरा रहेगा।

गोमती चक्र या फिर कौड़ी: इसके अलावा आप अपने बटुए में गोमती चक्र या फिर कौड़ी भी रख सकते हैं। इनकी भी पूजा करने के बाद ही ने अपने बटुए में शामिल करें। ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और आपके जीवन में कभी भी आर्थिक नुकसान नहीं होता है।

हालांकि यहां विशेष बात का ध्यान रखने की सलाह दी जाती है कि, यदि आप अपने बटुए में इनमें से कोई भी चीज शामिल कर रहे हैं तो आप आपको अपने बटुए की साफ सफाई का विशेष ध्यान रखना होगा। बटुआ या पर्स की साफ-सफाई वैसे भी आपको रखनी चाहिए क्योंकि यह महालक्ष्मी का स्थान माना गया है और माँ लक्ष्मी कभी भी गंदी जगह पर नहीं विराजमान होती हैं। इसके अलावा बटुए में कभी भी फालतू अरे कटे फटे नोट न रखें, बटुआ फटा हुआ ना रखें, और बटुए में गंदगी ना रखें।
**लेकिन, यदि आपके मन में कोई और दुविधा है या इस संदर्भ में आप और ज्यादा विस्तृत जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं ज्योतिष व वास्तु के लिए सम्पर्क करे* **ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी** अगर आपको ग्रह दशा के बारे में जानकारी चाहिए तो आप हमें +91-9302409892 पर कॉल करें। या आप हमें
“अपना नाम”
“जन्म दिनांक”
“जन्म समय”
“जन्म स्थान”
व्हाट्सएप करें!! धन्यवाद
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार देखा जाए तो हर व्यक्ति का जन्म होते ही वह अपने प्रारब्ध के चक्र से बंध जाता है और ज्योतिषशास्त्र द्वारा निर्मित जन्म कुंडली हमारे इसी प्रारब्ध को प्रकट करती है। हमारे जीवन में सभी घटनाएं बारह राशि व नवग्रह द्वारा ही संचालित होती हैं। इन ग्रहों का आपके जीवन पर आने वाले समय में कैसा प्रभाव पड़ेगा इसके बारे में विस्तृत जवाब जानने के लिए अभी आप भी कर्ज़ की समस्या से परेशान हैं, और उससे जुड़ा कोई व्यक्तिगत उपाय, निवारण जानना चाहते हों या इससे जुड़े किसी सवाल का जवाब चाहिए हो तो
अभी इस नंबर पर आप संपर्क कर सकते हैं l 9302409892

 

शेयर करें: