नौकरी का झांसा देकर हास्पिटल की महिला गार्ड के साथ दुराचार 

 

जबलपुर :कोर्ट में सरकारी नौकरी लगाने का झांसा देकर हास्पिटल की  महिला गार्ड के साथ आरोपी ने दुराचार किया,आरोपी महिला के घर आकर रुकता था और उसी दौरान उसने महिला के साथ रेप कर महिला को धमकी भी दी की यदि पुलिस में रिपोर्ट लिखवाई तो तेरी नोकरी नहीं लगाएंगे ,

बल्लभ भवन तक ले गया था आरोपी 

पुलिस से प्राप्त जानकारी के मुताबिक महिला थाना में 30 वर्षिय युवती ने लिखित शिकायत की कि वह एक प्राईवेट हास्पिटल में गार्ड की नौकरी करती है माह फरवरी 2020 में वह हास्पिटल से आटो में बैठकर जा रही थी आटो मंे उससे एक अधेड़ पुरूष बातचीत करने लगा और उसका परिचय मांगा तो उसने अपना परिचय बताया, उस व्यक्ति ने स्वयं को रमेश तिवारी निवासी पिण्डरई का होना बताते हुये जबलपुर केार्ट मेे बड़ा बाबू होना बताया, और उसे कोर्ट में भृत्य या लिपिक की पक्की नौकरी दिलाने का आश्वासन दिया तथा उसका मोबाइल नम्बर लेकर उससे फोन पर बातें करने लगा, और एक दो बार उसे नौकरी की बात कराने भोपाल वल्लभ भवन ले गया उसी समय उसने उस व्यक्ति की आईडी देखी थी उसमें उस व्यक्ति का नाम ओमप्रकाश मिश्रा पिता मीरा प्रसाद मिश्रा निवासी बरगी जिला जबलपुर लिखा था माह अपे्रल में वह व्यक्ति उसके घर दो तीन बार आया और कहने लगा कि मैं यहीं रूकुंगा वह व्यक्ति घर के अंदर सो जाता था वह बाहर सोती थी ,

शाम को घर आया ….बोला रिपोर्ट करेगी तो नोकरी नहीं 

 

वहीँ आरोपी ओमप्रकाश मिश्रा दिनांक 20-4-2020 को शाम के समय उसकेे घर आया और कहने लगा कि उसे रूकना है और नौकरी का नाम लेकर एक दो कोरे कागज पर उसके हस्ताक्षर करा लिये, उसने उस व्यक्ति का बिस्तर अंदर लगा दिया एंव बाहर सोने जाने लगी तो ओमप्रकाश ने उसे पकड़ कर उसके साथ जबरदस्ती गलत काम किया एवं कहने लगा कि यदि रिपोर्ट करेगी तो नौकरी नहीं लगवाउंगा,

बोला पत्नी बनाकर रखूंगा 

वहीँ आरोपी ने पीड़िता  शादी करने के लिये कहने लगा, और गांव की जमीन तथा मकान नाम कर पत्नी बनाकर रखने के लिये कहा, माह मई 2020 में नौकरी का आर्डर दिलाने के नाम पर 50 हजार रूपये ले लिया और इसी बीच कई बार उसके रूम में आया और नौकरी का झांसा देेकर उसके साथ गलत काम करता रहा और हर बार अपना नाम बदल कर कभी रमेश तिवारी कभी ओमप्रकाश झारिया कभी ओमप्रकाश मिश्रा बताता था एक बार भोपाल जाकर एक होटल में उसके साथ गलत काम किया था जब उसे ओमप्रकाश की धोखाधड़ी की बात समझ में आयी तो उसने अपने पैसे मांगे और शादी करने की बात कही तो ओमप्रकाश ने उससे दूरियां बना ली ओमप्रकाश ने एक बार उसके खाते में 3500 तथा दूसरी बार मंें 2 हजार डाले थे और पैसा देने एंव शादी करने से मना कर दिया। लिखित शिकायत पर आरोपी ओमप्रकाश मिश्रा के विरूद्ध धारा 376(2)(ए), 420 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया।
*पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.)* द्वारा आरोपी की पतासाजी कर शीघ्र गिरफ्तारी हेतु आदेशित किये जाने पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर श्री अमित कुमार (भा.पु.से.), नगर पुलिस अधीक्षक कोतवाली श्री दीपक मिश्रा के मार्ग निर्देशन में टीम गठित कर आरोपी की गिरफ्तारी हेतु लगायी गयी।
गठित टीम के द्वारा सायबर सेल की मदद से आरोपी ओमप्रकाश मिश्रा पिता स्व. मीरा प्रसाद मिश्रा उम्र 58 वर्ष निवासी बसंत नगर चट्टी मौहल्ला थाना बरगी को सरगर्मी से तलाश कर अभिरक्षा में लेते हुये पूछताछ की गयी तो पाया गया कि ओमप्रकाश मिश्रा मान्नीय जिला न्यायालय सत्र में एक अधिवक्ता के पास मुंशी का काम करता है, मूलतः पड़वार खितौला थाना मझोली का रहने वाला है, पत्नि के द्वारा छोड देने पर बरगी निवासी एक महिला से शादी कर बरगी मे महिला के ही घर पर रह रहा था। ओमप्रकाश मिश्रा के कब्जे से 2 आधारकार्ड जिसमे से एक में ओमप्रकाश मिश्रा एवं दूसरे मे ओमप्रकाश झारिया लिखा है जप्त करते हुये प्रकरण में विधिवत गिरफ्तार कर मान्नीय न्यायलय के समक्ष पेश किया जा रहा है।
*उल्लेखनीय भूमिका* – आरोपी की पतासाजी एवं गिरफ्तारी में महिला थाना प्रभारी  शबाना परवेज के नेतृत्व में टीम के सहायक उप निरीक्षक ओमप्रकाश पाण्डे, सरस्वती नामदेव, प्रधान आरक्षक अमान सिंह, चालक अमित एवं थाना बरगी के प्रधान आरक्षक सुरेश तिवारी, आरक्षक इंद्रकुमार की सराहनीय भूमिका रही।

शेयर करें: