तुला राशि में बुध का गोचर,रोमांस और रिश्ते के संकेत

22 दिनों तक अपनी राशि कन्या में रहने के बाद बुध 2 नवंबर को सुबह 9:43 बजे तुला राशि में गोचर करेगा और 22 नवंबर को वृश्चिक राशि में प्रवेश करेगा। तुला राशि में बुध का गोचर, रोमांस और रिश्ते के संकेत , आपके द्वारा अपने मित्रों और परिवार के साथ साझा किए गए बंधन में कुछ बड़े बदलाव लेकर आ सकता है। बुध वायु राशि के प्रभाव में है और आपके व्यवहार में कुछ बदलाव ला सकता है और आप जिस कंपनी में हैं, उसके समर्थन से आप पूरी तरह से एक अलग व्यक्ति के रूप में कार्य करेंगे। ग्रह की चाल कुछ लोगों के लिए सौभाग्य लाएगी और को कुछ के लिए परेशानी लेकर आने वाली है।

*यह राशिफल आपकी चंद्र राशि पर आधारित है।**
मेष
बुध का तुला राशि में गोचर 2 नवंबर से 22 नवंबर 2021 तक होने जा रहा है। पेशेवर रूप से इस अवधि में मेष राशि वालों के लिए पर्याप्त अवसर होंगे। भविष्य में बेहतर परिणामों के लिए अंतिम निर्णय लेने से पहले चीजों का आकलन करने की सलाह दी जाती है। मेष चंद्र राशि के लिए, बुध अपने साझेदारी के सातवें घर में तुला राशि में गोचर करने जा रहे हैं। बुध मेष राशि के तीसरे और छठे भाव का स्वामी है और इस गोचर के दौरान आपको यात्रा के कुछ अचानक अवसर प्रदान करेगा। यह गोचर आपको कलात्मक रूप से संवाद करने में मदद करेगा। अपने विचारों को व्यवस्थित करें और अपने संचार कौशल से दूसरों को प्रभावित करें। कोई नया व्यापार उद्यम संभव है। भाई-बहनों की शादी हो सकती है। कुछ कानूनी मामलों में आपकी हार हो सकती है। फिजूलखर्ची हो सकती है। आपकी आक्रामकता आपके खिलाफ जा सकती है, इसलिए बहुत सावधान रहें। कुछ भी करने से पहले दो बार सोचें। जबकि बुध का गोचर मेष राशि के प्रेम, वैवाहिक और व्यक्तिगत संबंधों के लिए एक मुश्किल समय होने जा रहा है। इस अवधि में आने वाले किसी भी मतभेद को दूर करने के लिए संचार महत्वपूर्ण होगा। आपको किसी भी तरह के नाजायज मामलों से दूर रहने की सलाह दी जाती है, क्योंकि यह आपको गहरे संकट में डाल सकता है और जीवन के लिए आपकी प्रतिष्ठा को बर्बाद कर सकता है। खुला और निष्पक्ष संचार स्वस्थ वैवाहिक और प्रेम संबंधों का मार्ग प्रशस्त करेगा जो समय बीतने के साथ मजबूत होता जाएगा।

उपायः नए कपड़े पहनने से पहले धो लें।

वृषभ
वृषभ चंद्र राशि के लिए बुध दूसरे और पांचवें भाव का स्वामी है, जो ऋण, शत्रु और दैनिक मजदूरी के छठे भाव में गोचर कर रहा है। व्यावसायिक रूप से बुध का तुला राशि में गोचर वृष राशि के जातकों को करियर उन्मुख बनाने वाला है। हालांकि आपको अपने व्यावसायिक उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने की आवश्यकता होगी। स्वस्थ कार्य-जीवन संतुलन की आवश्यकता है, क्योंकि यह गोचर के दौरान एक मजबूत जीवन का निर्माण करेगा। व्यावसायिक रूप से यदि आप अपनी नौकरी में पहचान प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको अपनी रचनात्मक और आविष्कारशील क्षमताओं पर काम करना होगा और प्रतिस्पर्धा से अलग खड़े होने का प्रयास करना होगा। ईमानदारी और सत्यनिष्ठा आपको बेहतर पेशेवर परिणाम देने वाली है। व्यक्तिगत मोर्चे पर बुध का गोचर आपकी सेहत में अचानक से कुछ बदलाव लेकर आएगा। आपके खर्च में कुछ अप्रत्याशित वृद्धि होगी और बचत भी कम हो सकती है। परिवार और प्रेम संबंधों को बनाए रखने में भी आपके लिए कठिन समय होगा। चीजों को काम करने के लिए आपको विनम्रता, धैर्य को अपनाना होगा और अपने अहंकार से दूर होना होगा। इस अवधि में आपको कुछ नए दोस्त और सामाजिक संबंध बनाने को मिलेंगे।

उपायः मंदिर में चावल और दूध का दान करें।

मिथुन
मिथुन राशि के लिए बुध पंचम भाव में गोचर करेगा जो पहले और चौथे भाव का स्वामी है। गोचर के दौरान बुध लग्न भाव से जुड़ा होने के कारण समग्र व्यक्तित्व को प्रभावित करने वाला है। इसलिए आपके पास अपने कार्यों की समीक्षा करने का अवसर होगा चाहे वे अच्छे हों या बुरे। अच्छे लोगों की सीख लें और बुरे लोगों पर सुधार करें। व्यावसायिक रूप से बुध का गोचर रचनात्मकता और बुद्धि के पंचम भाव में होगा। इस दौरान कार्यक्षेत्र में आपकी रचनात्मक क्षमता में वृद्धि होने वाली है। व्यावसायिक पेशेवर प्रतिस्पर्धा से आगे रहने और अपने व्यापार की जीवन शक्ति में सुधार करने के लिए नवाचार की शक्ति का उपयोग कर सकते हैं। इस गोचर के दौरान रचनात्मक क्षमताओं में वृद्धि होगी और आपको केंद्रित और आशावादी रहने और अपने मन में किसी भी विचार से बचने की आवश्यकता है। निजी तौर पर, गोचर आपको मिले-जुले परिणाम देने वाला है क्योंकि आपको अपने पारिवारिक जीवन पर ध्यान देना पड़ सकता है, खासकर अपने बच्चों के लिए। इस समय धन की कोई समस्या नहीं होने वाली है, लेकिन आपको घर पर बड़े मुद्दों को ध्यान में रखना होगा जो एक सामंजस्यपूर्ण जीवन के लिए भावनात्मक जुड़ाव से जुड़ते हैं।

उपायः मांस और शराब से दूर रहें।

कर्क
कर्क राशि के लिए बुध बारहवें और तीसरे भाव का स्वामी है और चतुर्थ भाव में गोचर कर रहा है। यह भाव जीवन में अचल संपत्ति, आराम और विलासिता का प्रतिनिधित्व करता है। इस दौरान बुध आपको परिवार के सदस्यों के साथ शांतिपूर्ण वातावरण प्रदान करेगा और आप परिवार के साथ क्वालिटी टाइम बिताएंगे। इस अवधि में अपने परिवार के सदस्यों के साथ व्यवहार और संवाद करते समय सावधान रहने की सलाह दी जाती है। स्वास्थ्य चिंता का विषय हो सकता है। बुध के तुला राशि में गोचर के दौरान कुछ अनियोजित खर्च होगा। अनपेक्षित यात्रा के अवसर भी उत्पन्न हो सकते हैं जो आपके खर्चों को फिर से बढ़ाएंगे। व्यावसायिक रूप से यह आपके लिए एक सकारात्मक अवधि होगी और आप पेशेवर मोर्चे पर समृद्ध होंगे। आपके सहकर्मी आपके करियर के प्रयासों का समर्थन करने में अत्यधिक सहयोग करेंगे और विदेशी संबंध बनाना भी इस अवधि में आपके लिए फायदेमंद साबित होने वाला है। इस गोचर के दौरान आपको अपने परिवार के लिए कोई नई संपत्ति या वाहन खरीदने का मौका भी मिल सकता है। कोशिश करें कि किसी से बहुत ज्यादा न जुड़ें, क्योंकि इससे आपके रिश्ते में कुछ चुनौतियां आ सकती हैं।

उपायः खाने से पहले गाय को खिलाएं।

सिंह
सिंह राशि के लिए बुध दूसरे और 11वें भाव का स्वामी है और जातक के संचार और वाणी के तीसरे भाव में गोचर कर रहा है। इस अवधि में आपको कम दूरी की यात्राओं पर जाना होगा, जिससे आपको पेशेवर विकास और उपलब्धि हासिल करने में मदद मिलेगी। आप अपने भाई-बहनों के साथ अपने बंधन को मजबूत करेंगे और अधूरे कार्यों या परियोजनाओं को पूरा करने के लिए तैयार होंगे, जिसमें एक बहुराष्ट्रीय ब्रांड शामिल हो सकता है जिसे आप इतने लंबे समय से जोड़ने की कोशिश कर रहे थे। व्यावसायिक रूप से कैरियर के विकास और विस्तार की यात्रा कार्ड पर है और आप इस अवधि के दौरान अपनी बुद्धि और रचनात्मकता से प्रेरित होंगे। आपको अपने पेशेवर जीवन में भी पहचान मिलेगी। इस अवधि के दौरान अपने सहकर्मियों के प्रति अच्छा व्यवहार करने की सलाह दी जाती है क्योंकि इससे करियर की वृद्धि में बाधा आ सकती है। व्यक्तिगत रूप से बुध का गोचर आपके पिता के साथ आपकी कुछ चिंता लेकर आया है क्योंकि इस अवधि में उन्हें कुछ स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आपका प्रेम जीवन पीछे हटने वाला है क्योंकि अधिकांश ऊर्जा पेशेवर लाभ की ओर प्रवाहित होगी।

उपायः चांदी के गिलास में पानी पिएं।

कन्या
कन्या राशि के लिए बुध पहले और दसवें भाव का स्वामी है और परिवार, धन और वाणी के दूसरे भाव में गोचर कर रहा है। यह अवधि घरेलू वातावरण में कुछ चुनौतियां ला सकती है और बेहतर जानकारी वाले निर्णय लेने के लिए स्थिति के गहन विश्लेषण की मांग करेगी। व्यावसायिक रूप से इस अवधि में वाणी में खराबी के संकेत हैं, इसलिए आपके लिए यह फायदेमंद होगा कि कार्यस्थल पर अपने वरिष्ठों और सहकर्मियों के साथ संवाद करते समय आपको सतर्क रहना चाहिए। व्यक्तिगत मोर्चे पर आपका अहंकार आपके प्यार और पारिवारिक संबंधों से बड़ा नहीं होना चाहिए। इस अवधि के दौरान आप धन की अच्छी मात्रा प्राप्त करेंगे और जमा करेंगे। परिवार में आपकी प्रतिष्ठा में सुधार होगा और आपका स्वास्थ्य उत्तम बना रहेगा।

उपायः बुध बीज मंत्र का जाप करें।

तुला
तुला चंद्र राशि के लिए बुध बारहवें और नौवें भाव का स्वामी है और तुला राशि के लिए लग्न में गोचर कर रहा है। यह अवधि आपको पीछे हटने और विश्लेषण करने की मांग कर सकती है, कि क्या गलत हुआ और किस बिंदु पर इसने आपको अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने और अपनी इच्छाओं को पूरा करने से रोक दिया। बड़ों से सलाह लेने के लिए भी यह अवधि महत्वपूर्ण है, क्योंकि कार्यस्थल पर वरिष्ठों का मार्गदर्शन आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होगा। जब भी कोई संदेह हो काम पर वरिष्ठों से सलाह लेने में संकोच न करें और यदि आप अपने पेशेवर प्रयासों में सफल होना चाहते हैं तो सुझावों को भी नज़रअंदाज़ न करें। व्यक्तिगत रूप से आपके पहले घर में बुध का तुला राशि में गोचर आपके पिता के साथ आपके संबंधों को मजबूत करेगा, जो इस उतार-चढ़ाव के दौर में आपका सबसे बड़ा सपोर्ट सिस्टम होगा। भाग्य आपका साथ देगा, लेकिन फिर भी आपको प्रयास करने की आवश्यकता होगी। आपका प्रेम जीवन दुनिया भर से कुछ कनेक्शनों के माध्यम से खिल सकता है। हालांकि छोटी-छोटी बातों पर लड़ाई के लिए तैयार रहें। इस गोचर के दौरान मानसिक शांति थोड़ी भंग हो सकती है। सकारात्मक सोचने और जितना हो सके तनाव मुक्त रहने की सलाह दी जाती है।

उपायः बुध ग्रह को प्रसन्न करने के लिए भगवान विष्णु, भगवान कृष्ण की पूजा करें।

वृश्चिक
वृश्चिक राशि के लिए बुध एकादश और आठवें भाव का स्वामी है और बारहवें भाव में व्यय, हानि और विदेशी लाभ के भाव में गोचर कर रहा है। आपको व्यक्तिगत जीवन और पेशेवर जीवन दोनों में सफलता प्राप्त करने की दिशा में काम करने की आवश्यकता है, चाहे आप किसी भी वातावरण में काम कर रहे हों। तभी आपको इस अवधि के दौरान वांछित परिणाम प्राप्त होने वाले हैं। व्यावसायिक रूप से वृश्चिक राशि के जातकों के बारहवें घर में बुध की उपस्थिति, वित्तीय असंतुलन के कारण खर्च में लगातार वृद्धि ला सकती है। आपको विदेश भूमि से भी कुछ खास लाभ मिल सकता है जो आपके करियर के लिए फायदेमंद साबित होगा। आप आध्यात्मिक रूप से प्रवृत्त होंगे और अपने परिवार के साथ धार्मिक यात्राएं करेंगे।

उपायः व्रत में नमक का सेवन करने से परहेज करते हुए बुधवार का व्रत रखें।

धनु
धनु राशि के लिए बुध सप्तम और दशम भाव का स्वामी है और धन, कामना और लाभ के एकादश भाव में गोचर कर रहा है। तुला राशि में गोचर करते समय बुध धनु राशि के जातकों के लिए बहुत सकारात्मक रहेगा क्योंकि आपको सफलता और वृद्धि के लिए अपने जीवनसाथी और व्यावसायिक भागीदारों का सहयोग मिलेगा। इस गोचर के दौरान धनु राशि के छात्रों को कुछ चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि उन्हें अकादमिक उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए बहुत प्रयास और समर्पण की आवश्यकता होगी। व्यावसायिक रूप से यह अवधि बहुत महत्वपूर्ण होने वाली है, क्योंकि आपको पुराने व्यवसायों को पुनर्जीवित करने या एक नया उद्यम शुरू करने का अवसर मिलेगा। जिसके बारे में आप लंबे समय से सोच रहे होंगे। आप अभिनव हैं और रचनात्मक क्षमताएं आपकी व्यावसायिक सफलता को बढ़ावा देंगी। इस अवधि में आय लाभ बहुत स्पष्ट है और आप अच्छी बचत करने में सक्षम होंगे। यदि आप उनके स्वास्थ्य और विकास की परवाह करते हैं, तो भावनात्मक स्तर पर उनका मार्गदर्शन और समर्थन करें।

उपायः उच्च कोटि का पन्ना रत्न धारण करें।

मकर
मकर राशि के लिए बुध छठे और नवम भाव का स्वामी है और दशम भाव में गोचर कर रहा है। मकर राशि के जातकों के लिए यह समय फलदायी रहने वाला है। यह कर्म भाव में गोचर कर रहा है। जो उनके भाग्य को चुने हुए करियर क्षेत्र में धकेल देगा। तुला राशि में बुध का गोचर करियर के विकास के लिए बहुत अच्छा होगा, इस अवधि में जातकों को भूले-बिसरे अवसर मिलेंगे। इस अवधि में आप कुछ नए कनेक्शनों पर काम करेंगे, जो लंबे समय में आपके करियर के लिए फायदेमंद साबित होंगे। आपको अपने पेशेवर प्रोजेक्ट में अपने सहकर्मियों, कर्मचारियों और वरिष्ठों का भरपूर सहयोग मिलेगा। व्यक्तिगत मोर्चे पर, आपके व्यक्तिगत और घरेलू जीवन में शांति और सद्भाव रहेगा और आपको अधिक आत्मविश्वास और प्रेरणा के साथ अपने करियर के उद्देश्य को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी। आपको अपने परिवार के सदस्यों से सम्मान और पहचान मिलेगी और आप इस अवधि में बच्चों पर अधिक ध्यान देंगे। अपनी आक्रामकता पर नियंत्रण रखने की सलाह दी जाती है। जो वैवाहिक और प्रेम संबंधों में घर पर शांति बनाए रखने में मदद करेगा।

उपायः गाय को हरी घास खिलाएं।

कुंभ
कुंभ राशि के लिए बुध पंचम और आठवें भाव का स्वामी है और भाग्य के नवम भाव में गोचर कर रहा है और यह आपके लिए अपने पेशेवर साम्राज्य का निर्माण करने के लिए भाग्य के द्वार खोलने वाला है। इस गोचर के परिणामस्वरूप आपका धार्मिक झुकाव रहेगा और आप अपने परिवार के साथ किसी आध्यात्मिक अभियान की योजना बनाएंगे। व्यावसायिक रूप से, यह स्थान शुभ है क्योंकि आपको सभी व्यावसायिक प्रयासों में भाग्य का साथ मिलेगा। वित्तीय लाभ और सामाजिक स्थिति में वृद्धि आपके करियर में आपके प्रयासों से होगी और आपका भाग्य आपका साथ देगा। कुंभ राशि के जातकों के लिए किसी प्रोजेक्ट या अच्छे से किए गए काम की प्रशंसा होगी। आपको सलाह दी जाती है कि आप अपने व्यापारिक लेन-देन में सावधानी से व्यवहार करें और अपने व्यापारिक भागीदारों पर अंध विश्वास न करें। व्यक्तिगत रूप से आपको गोचर अवधि में कुछ पैतृक संपत्तियां मिल सकती है या विरासत में मिल सकती है। जो धन और वित्तीय स्थिति लाने वाली हैं। यात्रा के संकेत के साथ आपका प्रेम और दांपत्य जीवन आनंदमय रहेगा।

उपायः प्रत्येक बुधवार को गणेश मंदिर में दर्शन करें।

मीन
मीन राशि के जातकों के लिए बुध चतुर्थ और सप्तम भाव का स्वामी है और अष्टम भाव में अचानक हानि/लाभ, उत्तराधिकार और गुप्त विद्या के भाव में गोचर कर रहा है। व्यावसायिक रूप से, यह अवधि मौद्रिक लाभ लाएगी लेकिन काम के मोर्चे को स्थिर करेगी। आपको इस अवधि में व्यावसायिक भागीदारों और सहकर्मियों के साथ अपने व्यवहार से सावधान रहने की आवश्यकता है। इस अवधि में आय और व्यय, अचानक और अपेक्षित घटनाओं के कारण आपके मौद्रिक बहिर्वाह में अचानक वृद्धि हुई है। व्यक्तिगत मोर्चे पर, मीन राशि के जातकों के लिए यह समय अच्छा नहीं रहेगा क्योंकि आपके प्रेम और वैवाहिक जीवन में कुछ समस्याएँ आ सकती हैं। आपको अपने घरेलू जीवन में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा, इस अवधि में घर में अशांति पैदा होगी। अप्रत्याशित यात्रा आपके स्वास्थ्य और कल्याण पर तनाव डाल सकती है। इस अवधि में आपके जीवनसाथी के स्वास्थ्य पर भी बहुत ध्यान देने और देखभाल की आवश्यकता होगी।

उपायः बुध के बीज मंत्र का प्रतिदिन 108 बार जाप करें।

बुध ग्रह को संचार का ग्रह माना गया है और यह ग्रह वाणिज्य, लेखा, व्यापार, बैंकिंग और कंप्यूटर से संबंधित व्यवसायों का प्रतिनिधित्व भी करता है। कुंडली में यदि बुध ग्रह मजबूत स्थिति में हो तो जातकों के तेज और व्यापारिक दिमाग के साथ-साथ इन क्षेत्रों में अनुकूल परिणाम हासिल होते हैं। वहीं कुंडली में बुध ग्रह की प्रतिकूल स्थिति से जातक अभिमानी और चिड़चिड़े व्यवहार का हो जाता है।

बुध ग्रह किसी एक राशि में तकरीबन 25 दिनों तक रहता है और फिर राशि परिवर्तन कर जाता है। बुध ग्रह मिथुन और कन्या राशि का स्वामी है। इसके अलावा जहाँ कन्या राशि में बुध को उच्च का माना गया है वहीं मीन राशि में यह नीच का होता है।
बुध ग्रह के मंगल, शनि और बृहस्पति के साथ तटस्थ संबंध होते हैं।
इसके अलावा बुध ग्रह व्यक्ति की त्वचा और तंत्रिका तंत्र को नियंत्रित करता है।

**बुध गोचर समय**
अब बात करें बुध गोचर के समय की तो, बुध का पारगमन 22 सितंबर 2021 को प्रातः 7:52 बजे होगा, जब तक यह वक्री नहीं होगा और 2 अक्टूबर 2021 को अपराह्न 3:23 बजे कन्या राशि में गोचर करेगा।

**बुध गोचर का सभी बारह राशियों के जातकों के जीवन पर क्या शुभ अशुभ प्रभाव पड़ेगा**।

**मेष राशि के जातकों के लिए,** बुध तीसरे और छठे घर का स्वामी है। यह ग्रह आपके विवाह और साझेदारी के सातवें घर में गोचर कर रहा है। इस गोचर के दौरान बुध मेष राशि के जातकों के लिए सौभाग्य लेकर आएगा। आप अपने बच्चों की ओर से कुछ अच्छी खबरें सुन सकते हैं, आपकी संतान आपको खुशी देगी। जो दंपत्ति संतान प्राप्ति की कामना कर रहे हैं, उन्हें इस दौरान अच्छी खबर मिल सकती है। व्यावसायिक रूप से आपका कार्यभार बढ़ेगा और इस अवधि के दौरान आपका प्रदर्शन भी अच्छा रहेगा जिसके कारण आपको नई ज़िम्मेदारियाँ दी जाएंगी। नतीजतन, कुछ चिंताएं इस दौरान आपको हो सकती हैं। आपके सहकर्मियों के साथ कुछ मतभेद हो सकते हैं इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि आप खुद को आंतरिक राजनीति में शामिल न करें। यह गोचर आपके संचार कौशल को सुधारने वाला होगा और अपने विचारों को व्यवस्थित करने, अपने बुद्धि कौशल से दूसरों को प्रभावित करने के लिए भी यह समय आपके लिए अच्छा रहेगा। इस राशि के कुछ जातक इस दौरान नया व्यापार शुरू कर सकते हैं। स्वास्थ्य जीवन पर नजर डालें तो, आपको खुद को फिट रखने की कोशिश करनी होगी और संतुलित आहार करने की आदत डालनी होगी।

उपाय: भगवान विष्णु की पूजा करें।

**वृषभ राशि के जातकों के लिए,** बुध दूसरे और पांचवें भाव का स्वामी है और आपके ऋण, शत्रु और रोगों के छठे भाव में इसका गोचर हो रहा है। इस गोचर के दौरान टूरिज्म क्षेत्र में काम करने वाले इस राशि के जातकों को अपने संचार कौशल पर काम करने का एक अच्छा मौका मिलेगा। इस दौरान कुछ जातकों को नई नौकरी प्राप्त हो सकती है। बुध के इस गोचर के दौरान आपके खर्चों में वृद्धि होगी, विशेष रूप से आपके परिवार के सदस्यों और बच्चों के ऊपर धन खर्च हो सकता है। इसलिए, अपने खर्चों को नियंत्रित करने और भविष्य के लिए बचत करने की आपको सलाह दी जाती है। यदि आपने कोई उधार या लोन लिया है तो इस अवधि के दौरान चुकाना बहुत मुश्किल हो सकता है। प्रेम जीवन पर नजर डाली जाए तो, यह बहुत स्पष्ट है कि आपके और आपके साथी के बीच सामंजस्य बना रहेगा। अगर किसी कारण से आप दोनों के बीच कोई दूरी थी, तो स्थितियों को सुलझाने का यह सबसे अच्छा समय है। समाज में आपका नाम, प्रसिद्धि और सम्मान भी बढ़ेगा। विवाहित जातक इस समय अपने बच्चों के माध्यम से खुशी की आशा कर सकते हैं, क्योंकि बच्चे अपने क्षेत्रों में प्रगति करना जारी रखेंगे। स्वास्थ्य पर नजर डाली जाए तो, शराब पीना आपके लिए अच्छा नहीं है इस दौरान छाती और फेफड़ों से संबंधित बीमारी आपकी चिंता का विषय बन सकती है।

उपाय: तीन, छह या चौदह मुखी रुद्राक्ष का धारण करें।

**मिथुन राशि के जातकों के** लिए, बुध पहले और चौथे भाव का स्वामी है और आपके प्यार, रोमांस और संतान के पांचवें भाव में यह गोचर करेगा। इस गोचर के दौरान आप व्यवस्थित रूप से अपने विचारों को अभिव्यक्त करना चाहेंगे और अधिक स्पष्टता के लिए विचारों को कलमबद्ध भी कर सकते हैं। इस अवधि के दौरान आपके ऊर्जा स्तर और उत्साह में वृद्धि होगी। हालाँकि, आपको अपने अति आत्मविश्वास पर नियंत्रण रखना चाहिए क्योंकि इससे आपके भाई-बहनों के साथ आपके टकराव हो सकते हैं। इस अवधि के दौरान आपका अधिक पैसा कमाने के लिए जोखिम लेने की ओर भी झुकाव हो सकता है। इसके अलावा, आप सट्टेबाजी के प्रति भी आप झुकाव महसूस कर सकते हैं, लेकिन आपको समझदारी से निर्णय लेने की आवश्यकता है क्योंकि ऐसे कामों में लाभ होने की बजाय बड़ा नुकसान भी हो सकता है। पेशेवर रूप से कुछ कंपनियों के साथ नए समझौते करने, नए उद्यम शुरू करने की संभावना है और आप इस चरण के दौरान व्यावसायिक प्रस्तावों में नई परियोजनाओं पर ध्यान केंद्रित करेंगे। रिश्तेनातों पर नजर डाली जाए तो आप अपने परिवार और करीबी दोस्तों के साथ गुणवत्तापूर्ण समय बिताएंगे और हर प्रकार की मनोरंजक गतिविधियों में शामिल होंगे। स्वास्थ्य पर नजर डाली जाए तो व्यक्तिगत जीवन में मिथुन राशि के जातक कुछ मानसिक तनाव महसूस कर सकते हैं। बच्चों के स्वास्थ्य पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

उपाय: हरी घास पर नंगे पैर चलें।

**कर्क राशि के जातकों के लिए** बुध तीसरे और बारहवें भाव का स्वामी है और यह गृह, संपत्ति और माता के आपके चतुर्थ भाव में गोचर करेगा। इस गोचर के दौरान आपका संचार कौशल बढ़ेगा और यह आपको सभाओं को संबोधित करने, संदेश भेजने या अपनी बातों को प्रियजनों के सामने व्यक्त करने में भी मदद करेगा। इस गोचर के दौरान आपको शांत और संयमित प्रकृति के साथ पारिवारिक मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने और स्थिति को संभालने की जरूरत है और विशेष रूप से अपने भाई-बहनों के साथ मतभेद या वाद-विवाद की स्थिति से आपको बचना चाहिए। अपने खर्चों पर नियंत्रण रखें और इस बात का ध्यान रखें कि आप कितना खर्च कर रहे हैं। आपको सलाह दी जाती है कि इस दौरान किसी को पैसे उधार न दें। इस अवधि के दौरान वाहन लेने की संभावना है, कुछ जातक नया घर खरीदने का विचार भी बना सकते हैं इस दिशा में आप निवेश कर सकते हैं। कुछ जातक अपने घर या कार्यालय का नवीनिकरण करवाने पर भी पैसा लगा सकते हैं। पारिवारिक जीवन पर नजर डालें तो आप अपने परिवार के साथ कुछ समय बिताएंगे, खासकर अपनी माँ के साथ, और उसका प्यार और स्नेह आपको मानसिक शांति प्रदान करेगा। आप इस चरण के दौरान अपने दोस्तों के साथ अच्छा समय बिताएंगे। आप जिससे प्यार करते हैं उसे अपनी भावनाएं बता सकते हैं, इस दौरान सकारात्मक प्रतिक्रिया मिलने की पूरी संभावना है। अपने हर काम में अपना सर्वश्रेष्ठ देने की इस दौरान कोशिश करें। यह वह समय है जिसमें आपको पैसा, प्रगति और प्रसिद्धि मिलेगी। स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं आपको परेशान कर सकती हैं इसलिए नियमित रूप से व्यायाम करें और स्वस्थ और संतुलित आहार का सेवन करें।

उपाय: घर में मनी प्लांट या हरे पौधे लगाएं।

**सिंह राशि के जातकों के लिए** बुध एकादश और दूसरे भाव का स्वामी है और आपके साहस, छोटी यात्रा और लेखन के तृतीय भाव में यह गोचर कर रहा है। इस गोचर के दौरान आपकी वाणी और संचार में स्पष्टता और सटीकता देखी जाएगी, यह गोचर आपके लिए वित्तीय लाभ लाएगा लेकिन निवेश करने से पहले सतर्क रहने की आवश्यकता होगी ताकि आप निवेश से जुड़ा सही निर्णय ले सकें। इस समय आप अपना सारा ध्यान संचार पर लगा सकते हैं और इस अवधि के दौरान सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का खूब उपयोग कर सकते हैं। इस गोचर के दौरान छोटी यात्रा करने की भी संभावना है। आपको अपने कौशल और अच्छी यादश्त के लिए लोगों से सराहना मिलेगी। किसी भी काम को सकारात्मकता के साथ शुरू करने की आपको सलाह दी जाती है, इससे आपको सफलता प्राप्त होगी। आप आध्यात्मिक या धार्मिक गतिविधियों में भी भाग ले सकते हैं, जो आपके मन को शांति देगा जिसकी तलाश आप लंबे समय से कर रहे हैं। स्वास्थ्य की बात की जाए तो इस राशि के कुछ लोग तनाव का शिकार हो सकते हैं। अपने दिमाग और दिल को संतुलित रखने के लिए योग और ध्यान की मदद लें।

उपाय: हरे कपड़े पहनें।

**कन्या राशि के जातकों के लिए** बुध दशम और प्रथम भाव का स्वामी है और आपके संचार, परिवार और वाणी के दूसरे भाव में यह गोचर कर रहा है। इस गोचर के दौरान आप एक अनुकूल अवधि का आनंद लेंगे क्योंकि आपके पास अपने परिवार के बिताने के लिए गुणवत्तापूर्ण समय होगा और आप परिवार के सदस्यों की अच्छी देखभाल करेंगे और उनकी जरूरतों के लिए धन खर्च करने में संकोच नहीं करेंगे। आपको अपनी वाणी पर ध्यान रखने और कठोर शब्दों का उपयोग करने से बचने की आवश्यकता है। वित्तीय रूप से सावधान रहें और योजनाएं या सही बजट प्लान बनाकर खर्च करें। यदि आप बुद्धिमान हैं तो बुद्धि का सही इस्तेमाल करके आप धन कमा सकते हैं। इस अवधि के दौरान गणित, भौतिकी, सांख्यिकी या अर्थशास्त्र जैसे विषयों से जुड़े विद्यार्थियों को अच्छे फल मिलेंगे और वो अपने विषयों को समझ पाने में सक्षम होंगे, इन क्षेत्रों से जुड़े छात्र अच्छा प्रदर्शन करेंगे। व्यवसायिक रूप से आपको अच्छे अवसर मिलेंगे, जो आपके विकास में सहायक होंगे और आप अपने अधिकांश संपर्कों रिश्तेदारों को भी मजबूत बनाने में सक्षम होंगे। आप नवीनतम तकनीक का उपयोग कर के इस अवधि के दौरान एक अलग छवि बन सकते हैं, और करियर क्षेत्र में नयी ऊंचाइयां पा सकते हैं। स्वास्थ्य के लिहाज से देखा जाए तो छोटी मोटी स्वास्थ्य समस्याएं और चोट लगने की संभावना है इसलिए अपना ख्याल रखें।

उपाय: बुधवार के दिन घर में केले का पेड़ लगाएं।

**तुला राशि के जातकों के लिए** बुध नौवें और बारहवें भाव का स्वामी है और आत्मा और व्यक्तित्व के आपके पहले भाव में इसका गोचर हो रहा है। इस गोचर के दौरान आपको आर्थिक लाभ होगा, इस गोचर के दौरान आपको अपने प्रयासों से कार्यक्षेत्र में जीत दर्ज करने की तीव्र इच्छा होगी लेकिन आपको अपनी भावनाओं को नियंत्रण में रखना चाहिए और समझदारी के साथ व्यवहार करना चाहिए, अन्यथा लोग इसे अहंकार के रूप में ले सकते हैं, और हो सकता है आपके रिश्ते पर इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़े। रिश्तेनातों पर नजर डाली जाए तो आप अपने साथी की आवश्यकताओं पर खर्च कर सकते हैं इससे आपका रिश्ता मजबूत होगा और आपके साथी को खुशी मिलेगी। व्यावसायिक रूप से, यह थोड़ा कठिन समय होगा इसलिए अपने काम पर ध्यान केंद्रित रखें, पेशेवर मोर्चे पर भी आपको चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। जो कारोबारी अपने कारोबार को विस्तार देने की योजना बना रहे हैं उनकी योजना कुछ समय के लिए स्थगित हो सकती है। इस राशि के विद्यार्थी इस गोचर के दौरान अपने भविष्य को लेकर दुविधा की स्थिति में हो सकते हैं। आपको सही समाधान तक पहुंचने के लिए अपने शिक्षक और माता-पिता से परामर्श लेना चाहिए। भाग्य दिल लगाकर काम करने वाले इस राशि के पेशवर लोगों के पक्ष में रहेगा और आप अपने कार्यस्थल पर अनुकूल परिणाम प्राप्त करेंगे। बुध का गोचर इस राशि के जातकों के संचार कौशल को बढाएगा और आप अधिक मिलनसार बनेंगे । आप कई गतिविधियों में इस दौरान हिस्सा ले सकते हैं। स्वास्थ्य के लिहाज से, तुला राशि के लोग इस अवधि के दौरान शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ महसूस करेंगे, फिर भी आपको नियमित रूप से व्यायाम करने की सलाह दी जाती है।

**वृश्चिक राशि के जातकों के** लिए बुध आठवें और ग्यारहवें भाव का स्वामी है और आपके विदेशी लाभ, हानि, मोक्ष के बारहवें में इसका गोचर हो रहा है। इस गोचर के दौरान आपको अपने संचार को बहुत सीमित रखना चाहिए और किसी से भी बातचीत बहुत सावधानी से करनी चाहिए। बारहवें घर में बुध आपको अत्यधिक महत्वकांक्षी बनाता है जो आपके लिए बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता। इस समय यात्रा करने की भी संभावना है और कार्यक्षेत्र से जुड़ी किसी मीटिंग में देरी भी हो सकती है। आर्थिक रूप से आपको अनावश्यक खर्चों पर ध्यान रखना चाहिए, विशेष रूप से यात्रा के संबंध में। आप एक लंबी अवधि की चिकित्सा पॉलिसी ले सकते हैं या दीर्घकालिक दृष्टिकोण के साथ निवेश करने की संभावना भी है। आपको इस अवधि के दौरान स्वयं पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। व्यावसायिक रूप से आप अपनी आकांक्षाओं और महत्वाकांक्षाओं का मूल्यांकन कर सकते हैं और फिर उसके अनुसार आप इस गोचर के दौरान अपनी भविष्य की रणनीति बना सकते हैं। इस राशि के कारोबारी व्यवसाय में सकारात्मकता देख सकते हैं, आप नए कौशल सीख सकते हैं और सार्वजनिक संबंधों और टीमवर्क में भी सुधार करने की ओर बढ़ेगे, साथ ही अब तक का आपका अनुभव इस अवधि के दौरान आपको नई ऊंचाइयों को प्राप्त करने में मदद करेगा। रिश्तेनातों की बात की जाए तो आराम से रहें और दोस्तों के साथ बहुत ज्यादा जुड़ाव न रखें। आपका प्रेम और विवाहित जीवन अच्छा रहेगा बस किसी भी टकराव से बचने के लिए अपनी वाणी पर नियंत्रण रखें। नए दोस्त बनाएं और उनकी संगति का आनंद लें। स्वास्थ्य पर नजर डालें तो आपको अत्यधिक शराब पीने और धूम्रपान करने से बचना चाहिए नहीं तो स्वास्थ्य से जुड़ी बड़ी परेशानियां होने की संभावना है।

उपाय: बुधवार के दिन घर में केले का पेड़ लगाएं।

**धनु राशि के जातकों के लिए** बुध सातवें और दसवें भाव का स्वामी है और आपके लाभ, आय और इच्छाओं के एकादश भाव में इसका गोचर हो रहा है। पेशेवर रूप से इस गोचर के दौरान आप नई साझेदारी कर सकते हैं और अपने व्यवसाय में आगे बढ़ सकते हैं। परिणामस्वरूप, आप इस दौरान किसी भी कार्य को पूरा करने में सफल होंगे। वित्तीय रूप से देखा जाए तो इस अवधि में आप ऋण या लोन का भुगतान कर सकते हैं। आप अपने जीवनसाथी और बच्चों पर पैसा खर्च करेंगे जो उन्हें खुशी देगा। विवाहित जातकों के लिए जीवन शांतिपूर्ण रहेगा। अगर आपके विवाहित जीवन में समस्याएं हैं तो आपको चिंता करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि यह एक दांपत्य जीवन के लिए एक अच्छा समय होगा। इसके अलावा इस गोचर का अधिकांश समय आप मित्रों, परिवार और सार्वजनिक जीवन में समय बिता सकते हैं। स्वास्थ्य पर नजर डाली जाए तो आप इस अवधि के दौरान स्वस्थ रहेंगे और जीवन का पूरा आनंद लेंगे।

उपाय: पलंग या घर के चारों कोनों में चार कांसे के नाखून रखें।

**मकर राशि के जातकों के लिए** बुध छठे और नौवें भाव का स्वामी है और करियर, नाम और प्रसिद्धि के आपके दसवें भाव में इसका गोचर होगा। इस गोचर की अवधि आपके लिए अनुकूल रहेगी क्योंकि यह आपको अपने कार्यस्थल पर सफलता दिलाएगा और यदि आप किसी उद्योग या कंपनी से लंबे समय से जुड़े हैं तो आप तरक्की की उम्मीद कर सकते हैं। इस गोचर के दौरान कारोबारी जातक भी लाभ भी प्राप्त कर सकते हैं, आप अपनी अपूर्ण परियोजनाओं को भी पूरा करने में सक्षम होंगे। इसके साथ ही, यह समय उन लोगों के लिए अनुकूल होगा जो अपने व्यवसाय का विस्तार करना चाहते हैं। इस गोचर में जीवन को बेहतर बनाने के लिए कई अवसर आपको प्राप्त हो सकते हैं। नौकरी में बदलाव के चांस भी हैं और इस राशि के कुछ जातक विदेश में भी जॉब पा सकते हैं। जो लोग बैंक और वित्तीय संस्थानों आदि में कार्य करते हैं इस अवधि के दौरान लाभ प्राप्त करेंगे। पारिवारिक जीवन पर नजर डाली जाए तो यह रिश्तों को मजबूत बनाने का समय है। इसके अलावा इस अवधि में आपकी रचनात्मकता खिलेगी। स्वास्थ्य जीवन पर नजर डाली जाए तो आप इस अवधि में अपने स्वास्थ्य को लेकर थोड़ा चिंतित हो सकते हैं। इस अवधि में आपको अपने खानपान का ध्यान रखना चाहिए और आसपास स्वच्छता बनाए रखनी चाहिए। अपने शरीर की अच्छी देखभाल करें और काम के साथ आराम भी करें।

उपाय: घर में अपने पूजा स्थल में कपूर का दीया जलाएं।

**कुंभ राशि के जातकों के लिए** बुध पांचवें और अष्टम भाव के स्वामी हैं और आपके धर्म, भाग्य और यात्रा के नौवें भाव में इसका गोचर हो रहा है। इस अवधि के दौरान आप धर्म, पिता, लंबी दूरी की यात्रा, ससुराल पक्ष के लोगों के साथ संबंध, पब्लिसिंग, उच्च शिक्षा जैसी चीजों पर ध्यान केंद्रित करेंगे। भावनात्मक जिम्मेदारियों से आपको इस दौरान मुक्ति मिल सकती है। यह वह समय है जब आप अपनी योग्यताओं का सही इस्तेमाल कर सकते हैं।। वित्तीय रूप से आपको यह सलाह दी जाती है कि ऐसे निवेश से बचें जो बहुत लंबी अवधि के बाद लाभ प्रदान करते हैं। उस योजना में भी निवेश न करें जिसे आप समझ नहीं पा रहे हैं, क्योंकि इससे आप गलत दिशा में जा सकते हैं और नुकसान उठा सकते हैं। किसी मीटिंग या किसी के साथ मुलाकात के दौरान बातों को स्पष्ट रखें ताकि किसी तरह की गलतफहमी पैदा न हो। रिश्तेनातों में आपको जरूरी प्रयासों की आवश्यकता है क्योंकि इससे व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन में संतुलन बनेगा। स्वास्थ्य पर नजर डाली जाए तो यह अवधि आपके लिए अनुकूल रहेगी।

उपाय: भगवान विष्णु की पूजा करें और उन्हें कपूर अर्पित करें।

**मीन राशि के जातकों के लिए** बुध चतुर्थ और सप्तम भाव का स्वामी है और आपके अचानक लाभ-हानि, मृत्यु के आठवें भाव में इसका गोचर हो रहा है। इस अवधि के दौरान व्यवसायी और नौकरी पेशा लोगों को चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है और जीवन में उतार-चढ़ाव आ सकते हैं, आपके पेशेवर जीवन में बाधाएं देखी जा सकती हैं। अपने विरोधियों से सावधान रहें क्योंकि वे इस अवधि के दौरान सक्रिय रहेंगे। शोध कार्यों से जुड़े छात्र अनुकूल समय का आनंद लेने वाले हैं। इसके अलावा आपके कार्य को नई गति और दिशा प्राप्त होगी। वित्तीय रूप से आपको अपने घर और वाहन के लिए बीमा पॉलिसियां ​​लेनी चाहिए ताकि भविष्य में आपको इसका लाभ प्राप्त हो सके। रिलेशनशिप में अपने संचार को लेकर सावधान रहने की जरूरत है जीवनसाथी या पार्टनर के साथ किसी भी तरह की गलतफहमी से बचने की कोशिश करें। विचारों में अंतर होने की संभावना है। स्वास्थ्य जीवन पर नजर डाली जाए तो आप यौन समस्याओं का सामना कर सकते हैं इसलिए, आपको सतर्क रहने और अपने आहार पर ध्यान देने की जरूरत होगी। आपको पर्याप्त पानी पीना चाहिए और फिट रहने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए।

उपाय: शुभ फल प्राप्त करने के लिए बुधवार को गरीबों और ज़रूरतमंदों को फल अर्पित करें।

 

बुध ग्रह को संचार का ग्रह माना गया है और यह ग्रह वाणिज्य, लेखा, व्यापार, बैंकिंग और कंप्यूटर से संबंधित व्यवसायों का प्रतिनिधित्व भी करता है। कुंडली में यदि बुध ग्रह मजबूत स्थिति में हो तो जातकों के तेज और व्यापारिक दिमाग के साथ-साथ इन क्षेत्रों में अनुकूल परिणाम हासिल होते हैं। वहीं कुंडली में बुध ग्रह की प्रतिकूल स्थिति से जातक अभिमानी और चिड़चिड़े व्यवहार का हो जाता है।

बुध ग्रह किसी एक राशि में तकरीबन 25 दिनों तक रहता है और फिर राशि परिवर्तन कर जाता है। बुध ग्रह मिथुन और कन्या राशि का स्वामी है। इसके अलावा जहाँ कन्या राशि में बुध को उच्च का माना गया है वहीं मीन राशि में यह नीच का होता है।
बुध ग्रह के मंगल, शनि और बृहस्पति के साथ तटस्थ संबंध होते हैं।
इसके अलावा बुध ग्रह व्यक्ति की त्वचा और तंत्रिका तंत्र को नियंत्रित करता है।

**बुध गोचर समय**
अब बात करें बुध गोचर के समय की तो, बुध का पारगमन 22 सितंबर 2021 को प्रातः 7:52 बजे होगा, जब तक यह वक्री नहीं होगा और 2 अक्टूबर 2021 को अपराह्न 3:23 बजे कन्या राशि में गोचर करेगा।

**बुध गोचर का सभी बारह राशियों के जातकों के जीवन पर क्या शुभ अशुभ प्रभाव पड़ेगा**।

**मेष राशि के जातकों के लिए,** बुध तीसरे और छठे घर का स्वामी है। यह ग्रह आपके विवाह और साझेदारी के सातवें घर में गोचर कर रहा है। इस गोचर के दौरान बुध मेष राशि के जातकों के लिए सौभाग्य लेकर आएगा। आप अपने बच्चों की ओर से कुछ अच्छी खबरें सुन सकते हैं, आपकी संतान आपको खुशी देगी। जो दंपत्ति संतान प्राप्ति की कामना कर रहे हैं, उन्हें इस दौरान अच्छी खबर मिल सकती है। व्यावसायिक रूप से आपका कार्यभार बढ़ेगा और इस अवधि के दौरान आपका प्रदर्शन भी अच्छा रहेगा जिसके कारण आपको नई ज़िम्मेदारियाँ दी जाएंगी। नतीजतन, कुछ चिंताएं इस दौरान आपको हो सकती हैं। आपके सहकर्मियों के साथ कुछ मतभेद हो सकते हैं इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि आप खुद को आंतरिक राजनीति में शामिल न करें। यह गोचर आपके संचार कौशल को सुधारने वाला होगा और अपने विचारों को व्यवस्थित करने, अपने बुद्धि कौशल से दूसरों को प्रभावित करने के लिए भी यह समय आपके लिए अच्छा रहेगा। इस राशि के कुछ जातक इस दौरान नया व्यापार शुरू कर सकते हैं। स्वास्थ्य जीवन पर नजर डालें तो, आपको खुद को फिट रखने की कोशिश करनी होगी और संतुलित आहार करने की आदत डालनी होगी।

उपाय: भगवान विष्णु की पूजा करें।

**वृषभ राशि के जातकों के लिए,** बुध दूसरे और पांचवें भाव का स्वामी है और आपके ऋण, शत्रु और रोगों के छठे भाव में इसका गोचर हो रहा है। इस गोचर के दौरान टूरिज्म क्षेत्र में काम करने वाले इस राशि के जातकों को अपने संचार कौशल पर काम करने का एक अच्छा मौका मिलेगा। इस दौरान कुछ जातकों को नई नौकरी प्राप्त हो सकती है। बुध के इस गोचर के दौरान आपके खर्चों में वृद्धि होगी, विशेष रूप से आपके परिवार के सदस्यों और बच्चों के ऊपर धन खर्च हो सकता है। इसलिए, अपने खर्चों को नियंत्रित करने और भविष्य के लिए बचत करने की आपको सलाह दी जाती है। यदि आपने कोई उधार या लोन लिया है तो इस अवधि के दौरान चुकाना बहुत मुश्किल हो सकता है। प्रेम जीवन पर नजर डाली जाए तो, यह बहुत स्पष्ट है कि आपके और आपके साथी के बीच सामंजस्य बना रहेगा। अगर किसी कारण से आप दोनों के बीच कोई दूरी थी, तो स्थितियों को सुलझाने का यह सबसे अच्छा समय है। समाज में आपका नाम, प्रसिद्धि और सम्मान भी बढ़ेगा। विवाहित जातक इस समय अपने बच्चों के माध्यम से खुशी की आशा कर सकते हैं, क्योंकि बच्चे अपने क्षेत्रों में प्रगति करना जारी रखेंगे। स्वास्थ्य पर नजर डाली जाए तो, शराब पीना आपके लिए अच्छा नहीं है इस दौरान छाती और फेफड़ों से संबंधित बीमारी आपकी चिंता का विषय बन सकती है।

उपाय: तीन, छह या चौदह मुखी रुद्राक्ष का धारण करें।

**मिथुन राशि के जातकों के** लिए, बुध पहले और चौथे भाव का स्वामी है और आपके प्यार, रोमांस और संतान के पांचवें भाव में यह गोचर करेगा। इस गोचर के दौरान आप व्यवस्थित रूप से अपने विचारों को अभिव्यक्त करना चाहेंगे और अधिक स्पष्टता के लिए विचारों को कलमबद्ध भी कर सकते हैं। इस अवधि के दौरान आपके ऊर्जा स्तर और उत्साह में वृद्धि होगी। हालाँकि, आपको अपने अति आत्मविश्वास पर नियंत्रण रखना चाहिए क्योंकि इससे आपके भाई-बहनों के साथ आपके टकराव हो सकते हैं। इस अवधि के दौरान आपका अधिक पैसा कमाने के लिए जोखिम लेने की ओर भी झुकाव हो सकता है। इसके अलावा, आप सट्टेबाजी के प्रति भी आप झुकाव महसूस कर सकते हैं, लेकिन आपको समझदारी से निर्णय लेने की आवश्यकता है क्योंकि ऐसे कामों में लाभ होने की बजाय बड़ा नुकसान भी हो सकता है। पेशेवर रूप से कुछ कंपनियों के साथ नए समझौते करने, नए उद्यम शुरू करने की संभावना है और आप इस चरण के दौरान व्यावसायिक प्रस्तावों में नई परियोजनाओं पर ध्यान केंद्रित करेंगे। रिश्तेनातों पर नजर डाली जाए तो आप अपने परिवार और करीबी दोस्तों के साथ गुणवत्तापूर्ण समय बिताएंगे और हर प्रकार की मनोरंजक गतिविधियों में शामिल होंगे। स्वास्थ्य पर नजर डाली जाए तो व्यक्तिगत जीवन में मिथुन राशि के जातक कुछ मानसिक तनाव महसूस कर सकते हैं। बच्चों के स्वास्थ्य पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

उपाय: हरी घास पर नंगे पैर चलें।

**कर्क राशि के जातकों के लिए** बुध तीसरे और बारहवें भाव का स्वामी है और यह गृह, संपत्ति और माता के आपके चतुर्थ भाव में गोचर करेगा। इस गोचर के दौरान आपका संचार कौशल बढ़ेगा और यह आपको सभाओं को संबोधित करने, संदेश भेजने या अपनी बातों को प्रियजनों के सामने व्यक्त करने में भी मदद करेगा। इस गोचर के दौरान आपको शांत और संयमित प्रकृति के साथ पारिवारिक मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने और स्थिति को संभालने की जरूरत है और विशेष रूप से अपने भाई-बहनों के साथ मतभेद या वाद-विवाद की स्थिति से आपको बचना चाहिए। अपने खर्चों पर नियंत्रण रखें और इस बात का ध्यान रखें कि आप कितना खर्च कर रहे हैं। आपको सलाह दी जाती है कि इस दौरान किसी को पैसे उधार न दें। इस अवधि के दौरान वाहन लेने की संभावना है, कुछ जातक नया घर खरीदने का विचार भी बना सकते हैं इस दिशा में आप निवेश कर सकते हैं। कुछ जातक अपने घर या कार्यालय का नवीनिकरण करवाने पर भी पैसा लगा सकते हैं। पारिवारिक जीवन पर नजर डालें तो आप अपने परिवार के साथ कुछ समय बिताएंगे, खासकर अपनी माँ के साथ, और उसका प्यार और स्नेह आपको मानसिक शांति प्रदान करेगा। आप इस चरण के दौरान अपने दोस्तों के साथ अच्छा समय बिताएंगे। आप जिससे प्यार करते हैं उसे अपनी भावनाएं बता सकते हैं, इस दौरान सकारात्मक प्रतिक्रिया मिलने की पूरी संभावना है। अपने हर काम में अपना सर्वश्रेष्ठ देने की इस दौरान कोशिश करें। यह वह समय है जिसमें आपको पैसा, प्रगति और प्रसिद्धि मिलेगी। स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं आपको परेशान कर सकती हैं इसलिए नियमित रूप से व्यायाम करें और स्वस्थ और संतुलित आहार का सेवन करें।

उपाय: घर में मनी प्लांट या हरे पौधे लगाएं।

**सिंह राशि के जातकों के लिए** बुध एकादश और दूसरे भाव का स्वामी है और आपके साहस, छोटी यात्रा और लेखन के तृतीय भाव में यह गोचर कर रहा है। इस गोचर के दौरान आपकी वाणी और संचार में स्पष्टता और सटीकता देखी जाएगी, यह गोचर आपके लिए वित्तीय लाभ लाएगा लेकिन निवेश करने से पहले सतर्क रहने की आवश्यकता होगी ताकि आप निवेश से जुड़ा सही निर्णय ले सकें। इस समय आप अपना सारा ध्यान संचार पर लगा सकते हैं और इस अवधि के दौरान सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का खूब उपयोग कर सकते हैं। इस गोचर के दौरान छोटी यात्रा करने की भी संभावना है। आपको अपने कौशल और अच्छी यादश्त के लिए लोगों से सराहना मिलेगी। किसी भी काम को सकारात्मकता के साथ शुरू करने की आपको सलाह दी जाती है, इससे आपको सफलता प्राप्त होगी। आप आध्यात्मिक या धार्मिक गतिविधियों में भी भाग ले सकते हैं, जो आपके मन को शांति देगा जिसकी तलाश आप लंबे समय से कर रहे हैं। स्वास्थ्य की बात की जाए तो इस राशि के कुछ लोग तनाव का शिकार हो सकते हैं। अपने दिमाग और दिल को संतुलित रखने के लिए योग और ध्यान की मदद लें।

उपाय: हरे कपड़े पहनें।

**कन्या राशि के जातकों के लिए** बुध दशम और प्रथम भाव का स्वामी है और आपके संचार, परिवार और वाणी के दूसरे भाव में यह गोचर कर रहा है। इस गोचर के दौरान आप एक अनुकूल अवधि का आनंद लेंगे क्योंकि आपके पास अपने परिवार के बिताने के लिए गुणवत्तापूर्ण समय होगा और आप परिवार के सदस्यों की अच्छी देखभाल करेंगे और उनकी जरूरतों के लिए धन खर्च करने में संकोच नहीं करेंगे। आपको अपनी वाणी पर ध्यान रखने और कठोर शब्दों का उपयोग करने से बचने की आवश्यकता है। वित्तीय रूप से सावधान रहें और योजनाएं या सही बजट प्लान बनाकर खर्च करें। यदि आप बुद्धिमान हैं तो बुद्धि का सही इस्तेमाल करके आप धन कमा सकते हैं। इस अवधि के दौरान गणित, भौतिकी, सांख्यिकी या अर्थशास्त्र जैसे विषयों से जुड़े विद्यार्थियों को अच्छे फल मिलेंगे और वो अपने विषयों को समझ पाने में सक्षम होंगे, इन क्षेत्रों से जुड़े छात्र अच्छा प्रदर्शन करेंगे। व्यवसायिक रूप से आपको अच्छे अवसर मिलेंगे, जो आपके विकास में सहायक होंगे और आप अपने अधिकांश संपर्कों रिश्तेदारों को भी मजबूत बनाने में सक्षम होंगे। आप नवीनतम तकनीक का उपयोग कर के इस अवधि के दौरान एक अलग छवि बन सकते हैं, और करियर क्षेत्र में नयी ऊंचाइयां पा सकते हैं। स्वास्थ्य के लिहाज से देखा जाए तो छोटी मोटी स्वास्थ्य समस्याएं और चोट लगने की संभावना है इसलिए अपना ख्याल रखें।

उपाय: बुधवार के दिन घर में केले का पेड़ लगाएं।

**तुला राशि के जातकों के लिए** बुध नौवें और बारहवें भाव का स्वामी है और आत्मा और व्यक्तित्व के आपके पहले भाव में इसका गोचर हो रहा है। इस गोचर के दौरान आपको आर्थिक लाभ होगा, इस गोचर के दौरान आपको अपने प्रयासों से कार्यक्षेत्र में जीत दर्ज करने की तीव्र इच्छा होगी लेकिन आपको अपनी भावनाओं को नियंत्रण में रखना चाहिए और समझदारी के साथ व्यवहार करना चाहिए, अन्यथा लोग इसे अहंकार के रूप में ले सकते हैं, और हो सकता है आपके रिश्ते पर इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़े। रिश्तेनातों पर नजर डाली जाए तो आप अपने साथी की आवश्यकताओं पर खर्च कर सकते हैं इससे आपका रिश्ता मजबूत होगा और आपके साथी को खुशी मिलेगी। व्यावसायिक रूप से, यह थोड़ा कठिन समय होगा इसलिए अपने काम पर ध्यान केंद्रित रखें, पेशेवर मोर्चे पर भी आपको चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। जो कारोबारी अपने कारोबार को विस्तार देने की योजना बना रहे हैं उनकी योजना कुछ समय के लिए स्थगित हो सकती है। इस राशि के विद्यार्थी इस गोचर के दौरान अपने भविष्य को लेकर दुविधा की स्थिति में हो सकते हैं। आपको सही समाधान तक पहुंचने के लिए अपने शिक्षक और माता-पिता से परामर्श लेना चाहिए। भाग्य दिल लगाकर काम करने वाले इस राशि के पेशवर लोगों के पक्ष में रहेगा और आप अपने कार्यस्थल पर अनुकूल परिणाम प्राप्त करेंगे। बुध का गोचर इस राशि के जातकों के संचार कौशल को बढाएगा और आप अधिक मिलनसार बनेंगे । आप कई गतिविधियों में इस दौरान हिस्सा ले सकते हैं। स्वास्थ्य के लिहाज से, तुला राशि के लोग इस अवधि के दौरान शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ महसूस करेंगे, फिर भी आपको नियमित रूप से व्यायाम करने की सलाह दी जाती है।

**वृश्चिक राशि के जातकों के** लिए बुध आठवें और ग्यारहवें भाव का स्वामी है और आपके विदेशी लाभ, हानि, मोक्ष के बारहवें में इसका गोचर हो रहा है। इस गोचर के दौरान आपको अपने संचार को बहुत सीमित रखना चाहिए और किसी से भी बातचीत बहुत सावधानी से करनी चाहिए। बारहवें घर में बुध आपको अत्यधिक महत्वकांक्षी बनाता है जो आपके लिए बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता। इस समय यात्रा करने की भी संभावना है और कार्यक्षेत्र से जुड़ी किसी मीटिंग में देरी भी हो सकती है। आर्थिक रूप से आपको अनावश्यक खर्चों पर ध्यान रखना चाहिए, विशेष रूप से यात्रा के संबंध में। आप एक लंबी अवधि की चिकित्सा पॉलिसी ले सकते हैं या दीर्घकालिक दृष्टिकोण के साथ निवेश करने की संभावना भी है। आपको इस अवधि के दौरान स्वयं पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। व्यावसायिक रूप से आप अपनी आकांक्षाओं और महत्वाकांक्षाओं का मूल्यांकन कर सकते हैं और फिर उसके अनुसार आप इस गोचर के दौरान अपनी भविष्य की रणनीति बना सकते हैं। इस राशि के कारोबारी व्यवसाय में सकारात्मकता देख सकते हैं, आप नए कौशल सीख सकते हैं और सार्वजनिक संबंधों और टीमवर्क में भी सुधार करने की ओर बढ़ेगे, साथ ही अब तक का आपका अनुभव इस अवधि के दौरान आपको नई ऊंचाइयों को प्राप्त करने में मदद करेगा। रिश्तेनातों की बात की जाए तो आराम से रहें और दोस्तों के साथ बहुत ज्यादा जुड़ाव न रखें। आपका प्रेम और विवाहित जीवन अच्छा रहेगा बस किसी भी टकराव से बचने के लिए अपनी वाणी पर नियंत्रण रखें। नए दोस्त बनाएं और उनकी संगति का आनंद लें। स्वास्थ्य पर नजर डालें तो आपको अत्यधिक शराब पीने और धूम्रपान करने से बचना चाहिए नहीं तो स्वास्थ्य से जुड़ी बड़ी परेशानियां होने की संभावना है।

उपाय: बुधवार के दिन घर में केले का पेड़ लगाएं।

**धनु राशि के जातकों के लिए** बुध सातवें और दसवें भाव का स्वामी है और आपके लाभ, आय और इच्छाओं के एकादश भाव में इसका गोचर हो रहा है। पेशेवर रूप से इस गोचर के दौरान आप नई साझेदारी कर सकते हैं और अपने व्यवसाय में आगे बढ़ सकते हैं। परिणामस्वरूप, आप इस दौरान किसी भी कार्य को पूरा करने में सफल होंगे। वित्तीय रूप से देखा जाए तो इस अवधि में आप ऋण या लोन का भुगतान कर सकते हैं। आप अपने जीवनसाथी और बच्चों पर पैसा खर्च करेंगे जो उन्हें खुशी देगा। विवाहित जातकों के लिए जीवन शांतिपूर्ण रहेगा। अगर आपके विवाहित जीवन में समस्याएं हैं तो आपको चिंता करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि यह एक दांपत्य जीवन के लिए एक अच्छा समय होगा। इसके अलावा इस गोचर का अधिकांश समय आप मित्रों, परिवार और सार्वजनिक जीवन में समय बिता सकते हैं। स्वास्थ्य पर नजर डाली जाए तो आप इस अवधि के दौरान स्वस्थ रहेंगे और जीवन का पूरा आनंद लेंगे।

उपाय: पलंग या घर के चारों कोनों में चार कांसे के नाखून रखें।

**मकर राशि के जातकों के लिए** बुध छठे और नौवें भाव का स्वामी है और करियर, नाम और प्रसिद्धि के आपके दसवें भाव में इसका गोचर होगा। इस गोचर की अवधि आपके लिए अनुकूल रहेगी क्योंकि यह आपको अपने कार्यस्थल पर सफलता दिलाएगा और यदि आप किसी उद्योग या कंपनी से लंबे समय से जुड़े हैं तो आप तरक्की की उम्मीद कर सकते हैं। इस गोचर के दौरान कारोबारी जातक भी लाभ भी प्राप्त कर सकते हैं, आप अपनी अपूर्ण परियोजनाओं को भी पूरा करने में सक्षम होंगे। इसके साथ ही, यह समय उन लोगों के लिए अनुकूल होगा जो अपने व्यवसाय का विस्तार करना चाहते हैं। इस गोचर में जीवन को बेहतर बनाने के लिए कई अवसर आपको प्राप्त हो सकते हैं। नौकरी में बदलाव के चांस भी हैं और इस राशि के कुछ जातक विदेश में भी जॉब पा सकते हैं। जो लोग बैंक और वित्तीय संस्थानों आदि में कार्य करते हैं इस अवधि के दौरान लाभ प्राप्त करेंगे। पारिवारिक जीवन पर नजर डाली जाए तो यह रिश्तों को मजबूत बनाने का समय है। इसके अलावा इस अवधि में आपकी रचनात्मकता खिलेगी। स्वास्थ्य जीवन पर नजर डाली जाए तो आप इस अवधि में अपने स्वास्थ्य को लेकर थोड़ा चिंतित हो सकते हैं। इस अवधि में आपको अपने खानपान का ध्यान रखना चाहिए और आसपास स्वच्छता बनाए रखनी चाहिए। अपने शरीर की अच्छी देखभाल करें और काम के साथ आराम भी करें।

उपाय: घर में अपने पूजा स्थल में कपूर का दीया जलाएं।

**कुंभ राशि के जातकों के लिए** बुध पांचवें और अष्टम भाव के स्वामी हैं और आपके धर्म, भाग्य और यात्रा के नौवें भाव में इसका गोचर हो रहा है। इस अवधि के दौरान आप धर्म, पिता, लंबी दूरी की यात्रा, ससुराल पक्ष के लोगों के साथ संबंध, पब्लिसिंग, उच्च शिक्षा जैसी चीजों पर ध्यान केंद्रित करेंगे। भावनात्मक जिम्मेदारियों से आपको इस दौरान मुक्ति मिल सकती है। यह वह समय है जब आप अपनी योग्यताओं का सही इस्तेमाल कर सकते हैं।। वित्तीय रूप से आपको यह सलाह दी जाती है कि ऐसे निवेश से बचें जो बहुत लंबी अवधि के बाद लाभ प्रदान करते हैं। उस योजना में भी निवेश न करें जिसे आप समझ नहीं पा रहे हैं, क्योंकि इससे आप गलत दिशा में जा सकते हैं और नुकसान उठा सकते हैं। किसी मीटिंग या किसी के साथ मुलाकात के दौरान बातों को स्पष्ट रखें ताकि किसी तरह की गलतफहमी पैदा न हो। रिश्तेनातों में आपको जरूरी प्रयासों की आवश्यकता है क्योंकि इससे व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन में संतुलन बनेगा। स्वास्थ्य पर नजर डाली जाए तो यह अवधि आपके लिए अनुकूल रहेगी।

उपाय: भगवान विष्णु की पूजा करें और उन्हें कपूर अर्पित करें।

**मीन राशि के जातकों के लिए** बुध चतुर्थ और सप्तम भाव का स्वामी है और आपके अचानक लाभ-हानि, मृत्यु के आठवें भाव में इसका गोचर हो रहा है। इस अवधि के दौरान व्यवसायी और नौकरी पेशा लोगों को चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है और जीवन में उतार-चढ़ाव आ सकते हैं, आपके पेशेवर जीवन में बाधाएं देखी जा सकती हैं। अपने विरोधियों से सावधान रहें क्योंकि वे इस अवधि के दौरान सक्रिय रहेंगे। शोध कार्यों से जुड़े छात्र अनुकूल समय का आनंद लेने वाले हैं। इसके अलावा आपके कार्य को नई गति और दिशा प्राप्त होगी। वित्तीय रूप से आपको अपने घर और वाहन के लिए बीमा पॉलिसियां ​​लेनी चाहिए ताकि भविष्य में आपको इसका लाभ प्राप्त हो सके। रिलेशनशिप में अपने संचार को लेकर सावधान रहने की जरूरत है जीवनसाथी या पार्टनर के साथ किसी भी तरह की गलतफहमी से बचने की कोशिश करें। विचारों में अंतर होने की संभावना है। स्वास्थ्य जीवन पर नजर डाली जाए तो आप यौन समस्याओं का सामना कर सकते हैं इसलिए, आपको सतर्क रहने और अपने आहार पर ध्यान देने की जरूरत होगी। आपको पर्याप्त पानी पीना चाहिए और फिट रहने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए।

उपाय: शुभ फल प्राप्त करने के लिए बुधवार को गरीबों और ज़रूरतमंदों को फल अर्पित करें।

शेयर करें: