वर्चुवल मीटिंग :कोरोना पॉजिटिव के संपर्क में आने वालों को करें होम आइसोलेट,कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से करायें पालन,कलेक्टर कर्मवीर शर्मा 

 

जबलपुर, कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने कोरोना संक्रमण पर काबू पाने कांटेक्ट ट्रेसिंग पर विशेष ध्यान देने के निर्देश अधिकारियों को दिये हैं। उन्होंने कहा कि यदि हम कांटेक्ट ट्रेसिंग के पहलू पर मजबूती से अमल कर सके तो एक बार फिर कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने में कामयाब हो सकेंगे। श्री शर्मा आज अपने निवास से वर्चुअल मीटिंग के जरिए जिले में कोरोना संक्रमण की वर्तमान स्थिति तथा कोरोना की रोकथाम एवं बचाव के लिए अपनाये जा रहे उपायों की समीक्षा कर रहे थे। दो घंटे से अधिक समय तक चली इस वर्चुअल मीटिंग से निगर निगम आयुक्त संदीप जीआर, अपर कलेक्टर हर्ष दीक्षित, जिला पंचायत की सीईओ रिजु बाफना, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रत्नेश कुररिया सभी एसडीएम, तहसीलदार, बीएमओ जनपद पंचायतों के सीईओ एवं नगर निगम के संभागीय अधिकारी तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के सीडीपीओ जुड़े थे।कलेक्टर ने वर्चुअल मीटिंग में अधिकारियों से कहा कि कोरोना संक्रमण से निपटने एक बार फिर हमें बीते अगस्त और सितंबर माह की तरह आक्रामक रणनीति अपनानी होगी। उन्होंने कोरोना पॉजिटीव मरीजों के नजदीकी संपर्क में आने वाले व्यक्तियों अथवा उनके परिवार के सदस्यों को घर में ही आइसोलेट करने पर जोर दिया, ताकि संक्रमण को बढऩे से रोका जा सके। श्री शर्मा ने कहा कि वे ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि रोज आ रहे कोरोना मरीजों में ऐसे लोगों की संख्या ज्यादा दिखाई दे रही है जिनके परिवार का कोई न कोई सदस्य अथवा नजदीकी संपर्क में रहा व्यक्ति एक-दो दिन पहले कोरोना संक्रमित हो चुका है।
कलेक्टर ने जिले के शहरी क्षेत्र के साथ-साथ कोविड टेस्ट के लिए सेम्पल साइज बढ़ाने के निर्देश भी अधिकारियों को दिये। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के उपायों के प्रति लोगों को जागरूक करने प्रचार-प्रसार की गतिविधियां भी बढ़ानी होंगी। श्री शर्मा ने रोको-टोको अभियान को अग्रेसिव मोड पर चलाने के निर्देश देते हुए कहा कि लोगों को मास्क पहनने, फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करने और अनावश्यक घर से बाहर न निकलने की समझाइश भी दी जाये। उन्होंने कोरोना प्रोटोकॉल का पालन नहीं करने वालों पर सख्त कार्यवाही करने के निर्देश देते हुए सभी एसडीएम, तहसीलदारों एवं नायब तहसीलदारों से कहा कि अपने-अपने क्षेत्र का नियमित रूप से भ्रमण करें और ऐसे दुकानदारों पर भी कार्यवाही करें जो अपने प्रतिष्ठान पर ग्राहकों के बीच फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करा रहे हैं। उन्होंने ऐसी दुकानें को सील करने तथा दुकानदार के विरूद्ध एफआईआर दर्ज कराने की बात भी कही।
कलेक्टर ने कोरोना पॉजिटिव मिले व्यक्ति के घर पर पोस्टर लगाने के निर्देश भी दिये ताकि आसपास रहने वाले सतर्क हो सकें। उन्होंने होम आइसोलेशन में रह रहे कोरोना मरीजों से कोरोना कंट्रोल रूम के जरिए नियमित रूप से संपर्क रखने की आवश्यकता भी बताई। श्री शर्मा ने जिले के शहरी, अद्र्ध शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में लगने वाले हाट बाजारों में भी फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन कराने सभी जरूरी कदम उठायें जाने के निर्देश अधिकारियों को दिये।
कलेक्टर ने एसडीएम और तहसीलदारों से कहा कि वे कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कराने के कार्य में पुलिस एवं स्वयंसेवी संगठनों का सहयोग लें। उन्होंने कहा कि कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करायें लेकिन इससे आर्थिक गतिविधियां प्रभावित न हो अथवा दुकानदारों को नुकसान न हो इसका भी ध्यान रखें। श्री शर्मा ने कहा कि कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने पर पहले बड़े दुकानदारों के विरूद्ध पहले कार्यवाही की जानी चाहिए। श्री शर्मा ने कोरोना पॉजिटिव मरीजों एवं उनके करीबी संपर्क में आने वाले लोगों की सार्थक पोर्टल पर एंट्री करने के निर्देश भी दिये। उन्होंने कोरोना कंट्रोल रूम के माध्यम से ऐसे क्षेत्रों को चिन्हित करने की बात कही जहां ज्यादा संख्या में कोरोना मरीज सामने आ रहे हैं। श्री शर्मा ने कहा कि ऐसे क्षेत्रों में जरूरत पडऩे पर माइक्रो कंटेनमेंट जोन भी बनायें। कलेक्टर ने ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में सभी फीवर क्लीनिक को भी एक्टिव करने पर जोर दिया तथा रेपिड रिस्पांस टीमों, मेडिकल मोबाइल यूनिट एवं वार्डवार गठित टीमों को भी अपने-अपने क्षेत्रों का लगातार भ्रमण करने के निर्देश दिये। उन्होंने निजी अस्पतालों में कोरोना मरीजों के उपचार के लिए आरक्षित बिस्तरों की संख्या, बेड आक्यूपेंसी एवं ऑक्सीजन की उपलब्धता की दिन प्रतिदिन की रिपोर्ट लेने की आवश्यकता भी बताई।
कलेक्टर ने वर्चुअल मीटिंग में कोविड वेक्सीनेशन की स्थिति की भी समीक्षा की। उन्होंने कोरोना के टीके लगाने के लिए जन-जागरूकता पैदा करने के निर्देश देते हुए कहा कि लोगों को यह समझाना होगा कि मास्क, फिजिकल डिस्टेंसिंग के अलावा वेक्सीन लगवाना ही कोरोना से बचने का उपाय है। उन्होंने कोरोना के टीके लगाने के निर्धारित लक्ष्य को हर हालत में प्राप्त करने की हिदायत देते हुए सभी एसडीएम से कहा कि वे अपने-अपने क्षेत्र में वेक्सीनेशन की स्थिति पर नजर रखें।

 

शेयर करें: