शुभ विवाह मुहूर्त 2021 की सूची

 

**शुभ विवाह मुहूर्त 2021 की सूची साल 2021 में गुरु अस्त दोष और शुक्र अस्त दोष के चलते 24 अप्रैल से विवाह मुहूर्त की शुरुआत होगी। (इस साल 17 जनवरी से गुरु अस्त हो रहा है और यह 14 फरवरी तक हस्त ही रहेगा। इसके साथ ही शुक्र भी 8 फरवरी, 2021 से अस्त होगा और12 अप्रैल तक अस्त रहेगा।)**

**अप्रैल 2021 तारीख़ दिन माह-तिथि नक्षत्र राशि समय**

24 अप्रैल शनि चैत्र शु. द्वादशी उ.फाल्गुनी सिंह 06:22 – 08:11

25 अप्रैल रवि चैत्र शु. त्रयोदशी हस्त चित्रा कन्या 08:49 – 25:54 25:54 – 28:22 29:34 – 29-45

26 अप्रैल सोम चैत्र शु. चतुर्दशी चित्रा स्वाति कन्या तुला 05:45 – 12 :44 22:54 – 24:15 24:15 – 29:44

27 अप्रैल मंगल चैत्र पूर्णिमा स्वाति तुला 05:44 – 20:12

30 अप्रैल शुक्र चैत्र कृ. चतुर्थी मूल धनु 12:55 – 29:41

**मई 2021 तारीख़ दिन माह-तिथि नक्षत्र राशि समय**
01 मई शनि चैत्र कृ. पंचमी मूल धनु 05:41 – 10:15

02 मई रवि चैत्र कृ. षष्ठी उत्तराषाढ़ा धनु 08:59 -14:50 26:10 – 29:39

03 मई सोम चैत्र कृ. सप्तमी उत्तराषाढ़ा मकर 05:39 – 08:22

04 मई मंगल चैत्र कृ. अष्टमी धनिष्ठा मकर/कुम्भ 15:14 – 29:01

07 मई शुक्र चैत्र कृ. एकादशी उ.भाद्रपद मीन 20:41 – 29:35

08 मई शनि चैत्र कृ. द्वादशी उ.भाद्रपद रेवती मीन 05:35 – 14:47 14:47 – 17-21

15 मई शनि वैशाख शु. तृतीया मृगशिरा मिथुन 05:31 – 08:39

21 मई शुक्र वैशाख शु. नवमी उ.फाल्गुनी सिंह 15:22 – 21:08

22 मई शनि वैशाख शु. दशमी उ.फाल्गुनी हस्त कन्या 05:27 – 14:05 14:05 – 20:04

23 मई रवि वैशाख शु.एकादशी हस्त चित्रा कन्या 06:43 – 13:19 13:19 – 14:56

24 मई सोम वैशाख शु.त्रयोदशी स्वाति तुला 11:12 – 25:48

30 मई रवि वैशाख कृ. पंचमी उत्तराषाढ़ा मकर 05:24 – 16:41

31 मई सोम वैशाख कृ. षष्ठी धनिष्ठा मकर 16:01 – 25:06

**जून 2021 तारीख़ दिन माह-तिथि नक्षत्र राशि समय**

5 जून शनि वैशाख कृ.एकादशी रेवती अश्विनी मीन मेष 05:23 – 22:39 24:15 – 27:34

6 जून रवि वैशाख कृ.एकादशी अश्विनी मेष 05:23 – 26:27

19 जून शनि ज्येष्ठ शु. नवमी हस्त चित्रा कन्या कन्या 05:24 – 20:28 20:28 – 24:04

24 जून गुरू ज्येष्ठ पूर्णिमा मूल धनु 14:32 – 26:15

25 जून शुक्र ज्येष्ठ कृ. प्रतिपदा मूल धनु 05:25 – 06:40

26 जून शनि ज्येष्ठ कृ. द्वितीया उत्तराषाढ़ा मकर 18:43 – 19:18

27 जून रवि ज्येष्ठ कृ. तृतीया धनिष्ठा मकर 25:21 – 27:00

28 जून सोम ज्येष्ठ कृ. चतुर्थी धनिष्ठा मकर-कुम्भ 05:26 – 24:48

**जुलाई 2021 तारीख़ दिन माह-तिथि नक्षत्र राशि समय**

01 जुलाई गुरू ज्येष्ठ कृ. सप्तमी उ.भाद्रपद मीन 05:27 – 27:49

02 जुलाई शुक्र ज्येष्ठ कृ. अष्टमी रेवती मीन 05:27 – 10:52 13:16 – 29:25

03 जुलाई शनि ज्येष्ठ कृ. नवमी अश्विनी मेष 07:01 – 17:31

04 जुलाई रवि ज्येष्ठ कृ. दशमी अश्विनी मेष 05:28 – 06:41

06 जुलाई मंगल ज्येष्ठ कृ. द्वादशी रोहिणी वृषभ 16:59 – 25:03

17 जुलाई शनि आषाढ़ शु. अष्टमी चित्रा तुला 15:40 – 18:03

**21 जुलाई से 12 नवंबर तक की मुहूर्त तिथियाँ देवशयन कालिक हैं। ऐसे में, ये उत्तर भारत में मान्य नहीं होंगी** ।

21 जुलाई बुध आषाढ़ शु. द्वादशी मूल धनु 19:18 – 29:27

23 जुलाई शुक्र आषाढ़ शु.चतुर्दशी उत्तराषाढ़ा मकर 21:23 – 29:38

24 जुलाई शनि आषाढ़ पूर्णिमा उत्तराषाढ़ा मकर 05:38 – 12:40

25 जुलाई रवि आषाढ़ कृ.प्रतिपदा धनिष्ठा मकर-कुम्भ 11:17 – 29:39

26 जुलाई सोम आषाढ़ कृ. तृतीया धनिष्ठा कुम्भ 05:39 – 10:26

28 जुलाई बुध आषाढ़ कृ. पंचमी उ.भाद्रपद मीन 10:45 – 29:41

29 जुलाई गुरू आषाढ़ कृ. षष्ठी उ.भाद्रपद रेवती मीन मीन 05:41 – 12:02 12:02 – 27:55

30 जुलाई शुक्र आषाढ़ कृ. सप्तमी अश्विनी मेष 16:43 – 20:18 22:18 – 27:16

31 जुलाई शनि आषाढ़ कृ. अष्टमी अश्विनी मेष 09:56 – 16:37

**अगस्त 2021 तारीख़ दिन माह-तिथि नक्षत्र राशि समय**

02 अगस्त सोम आषाढ़ कृ. नवमी रोहिणी वृषभ 22:43 – 23:45

03 अगस्त मंगल आषाढ़ कृ. दशमी रोहिणी मृगशिरा वृषभ 13:00 – 24:05 27:41 – 29:44

04 अगस्त बुध आषाढ़ कृ.एकादशी मृगशिरा वृषभ-मिथुन 05:44 – 28:25

11 अगस्त बुध श्रावण शु. तृतीया उ.फाल्गुनी सिंह- कन्या 09:32 – 28:11

12 अगस्त गुरू श्रावण शु. चतुर्थी हस्त कन्या 15:25 – 29:49

13 अगस्त शुक्र श्रावण शु. पंचमी हस्त चित्रा कन्या कन्या-तुला 05:49 – 07:59 07:59 – 29:50

14 अगस्त शनि श्रावण शु. षष्ठी चित्रा स्वाति तुला तुला 05:50 – 06:56 06:56 – 23:20

19 अगस्त गुरू श्रावण शु. द्वादशी उत्तराषाढ़ा धनु-मकर 22:42 – 29:53

20 अगस्त शुक्र श्रावण शु. त्रयोदशी उत्तराषाढ़ा मकर 05:53 – 21:24

22 अगस्त रवि श्रावण पूर्णिमा धनिष्ठा मकर-कुम्भ 06:13 – 10:33 12:57 – 19:39

24 अगस्त मंगल श्रावण कृ. द्वितीया उ.भाद्रपद मीन 19:47 – 28:07

25 अगस्त बुध श्रावण कृ. तृतीया उ.भाद्रपद मीन 16:19 – 20:48

30 अगस्त सोम श्रावण कृ. अष्टमी रोहिणी वृषभ 06:39 – 29:59

31 अगस्त मंगल श्रावण कृ. नवमी रोहिणी मृगशिरा वृषभ वृषभ-मिथुन 05:59 – 08:48 10:00 – 29:59

**सितंबर 2021तारीख़ दिन माह-तिथि नक्षत्र राशि समय**

01 सितंबर बुध श्रावण कृ. दशमी मृगशिरा मिथुन 05:59 – 12:34

07 सितंबर मंगल श्रावण अमावस्या उ.फाल्गुनी कन्या 28:37 – 30:03

08 सितंबर बुध भाद्र शु. द्वितीया उ.फाल्गुनी हस्त कन्या 06:03 -15:55 15:55 – 30:03

09 सितंबर गुरू भाद्र शु. तृतीया हस्त चित्रा कन्या कन्या 06:03 – 14:31 14:31 – 19:02 22:43 – 30:04

10 सितंबर शुक्र भाद्र शु. चतुर्थी चित्रा स्वाति तुला तुला 06:04 – 11:09 21:58 – 30:04

11 सितंबर शनि भाद्र शु. पंचमी स्वाति तुला 06:04 – 11:22

14 सितंबर मंगल भाद्र शु. अष्टमी मूल धनु 07:52 – 23:58

18 सितंबर शनि भाद्र शु. द्वादशी धनिष्ठा कुम्भ 26:26 – 27:21

**अक्टूबर 2021 तारीख़ दिन माह-तिथि नक्षत्र राशि समय**

07 अक्टूबर गुरू आश्विन शु.प्रतिपदा स्वाति तुला 26:51 – 27:21

08 अक्टूबर शुक्र आश्विन शु. द्वितीया स्वाति तुला 06:18 – 18:59

11 अक्टूबर सोम आश्विन शु. षष्ठी मूल धनु 13:43 – 30:20

12 अक्टूबर मंगल आश्विन शु. सप्तमी मूल पूर्वाषाढ़ा धनु धनु 06:20 – 08:50 11:14 – 11:26 – 11:26

13 अक्टूबर बुध आश्विन शु. अष्टमी उत्तराषाढ़ा धनु-मकर 10:19 – 30:22

14 अक्टूबर गुरू आश्विन शु. नवमी उत्तराषाढ़ा मकर 06:22 – 09:35

18 अक्टूबर सोम आश्विन शु.त्रयोदशी उ.भाद्रपद मीन 10:49 – 13:23

19 अक्टूबर मंगल आश्विन शु. चतुर्दशी रेवती मीन 13:34 – 19:03

20 अक्टूबर बुध आश्विन पूर्णिमा रेवती अश्विनी मीन मेष 07:41 – 13:14 14:50 – 20:39 21:51 – 30:26

21 अक्टूबर गुरू आश्विन कृ.प्रतिपदा अश्विनी मेष 06:26 – 16:17

23 अक्टूबर शनि आश्विन कृ.तृतीया रोहिणी वृषभ 27:02 – 30:28

24 अक्टूबर रवि आश्विन कृ. चतुर्थी रोहिणी वृषभ 06:28 – 23:33

25 अक्टूबर सोम आश्विन कृ. पंचमी मृगशिरा वृषभ- मिथुन 12:05 – 28:10

**नवंबर 2021 तारीख़ दिन माह-तिथि नक्षत्र राशि समय**

01 नवंबर सोम आश्विन कृ.एकादशी उ.फाल्गुनी सिंह-कन्या 12:52 – 21:04

07 नवंबर रवि कार्तिक शु. तृतीया मूल धनु 21:52 – 26:47

08 नवंबर सोम कार्तिक शु. चतुर्थी मूल धनु 13:17 – 18:49

11 नवंबर गुरू कार्तिक शु. सप्तमी धनिष्ठा मकर 18:16 – 28:06

12 नवंबर शुक्र कार्तिक शु. नवमी धनिष्ठा कुम्भ 09:08 – 14:53
देवशयनी एकादशी समाप्त

28 नवंबर रवि कार्तिक कृ. नवमी उ.फाल्गुनी सिंह-कन्या 22:05 – 30:55

29 नवंबर सोम कार्तिक कृ. दशमी उ.फाल्गुनी हस्त कन्या कन्या 06:55 – 16:58 28:14 – 30:56

30 नवंबर मंगल कार्तिक कृ.एकादशी हस्त चित्रा कन्या कन्या 06:56 – 20:34 20:34 – 30:57

**दिसंबर 2021तारीख़ दिन माह-तिथि नक्षत्र राशि समय**

01 दिसंबर बुध कार्तिक कृ. द्वादशी चित्रा स्वाति कन्या- तुला 06:57 – 19:35 19:35 – 23:36

06 दिसंबर सोम मार्गशीर्ष शु. तृतीया उत्तराषाढ़ा धनु 26:19 – 31:01

07 दिसंबर मंगल मार्गशीर्ष शु. चतुर्थी उत्तराषाढ़ा धनु- मकर 07:01 – 13:02 23:41 – 24:11

08 दिसंबर बुध मार्गशीर्ष शु. पंचमी धनिष्ठा मकर 22:40 – 31:03

09 दिसंबर गुरू मार्गशीर्ष शु. षष्ठी धनिष्ठा मकर-कुम्भ 07:03 – 21:51

11 दिसंबर शनि मार्गशीर्ष शु. अष्टमी उ.भाद्रपद मीन 22:32 – 30:02

विवाह मुहूर्त 2021के माध्यम से आप जानेंगे इस साल किस महीने में कौन सी तारीख विवाह करने के लिए शुभ है। हिन्दू धर्म में जब भी किसी व्यक्ति के विवाह की बात चलती है, तो सबसे पहले वर-वधु का कुंडली मिलान करते हैं, जिसमें यह देखा जाता है कि दोनों के 36 में से कितने गुण मिल रहें हैं। गुण मिलान करने के बाद सबसे महत्वपूर्ण चीज़ है, शादी करने की तारीख़। विवाह के मुहूर्त का भावी वर-वधु के सुखी जीवन में बहुत बड़ा योगदान होता है, इसीलिए लोग बहुत ही सोच-विचार कर विवाह करने का मुहूर्त तय करते हैं।

शादी के लिए शुभ मुहूर्त जानना बेहद जरुरी होता है क्योंकि विवाह मुहूर्त ही हमें उस शुभ घड़ी या शुभ वेला के बारे में बताता है जब शादी करना वर और कन्या दोनों के लिए उनकी कुंडली के अनुसार और शुभ मुहूर्त के अनुसार उत्तम होता है। शुभ विवाह मुहूर्त 2021 के अंतर्गत हमारा यह लेख साल 2021 के सभी शुभ विवाह मुहूर्त की विस्तार से जानकारी आपको प्रदान करेगा।

ज्योतिष व वास्तु के लिए सम्पर्क करे* **ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी** अगर आपको ग्रह दशा के बारे में जानकारी चाहिए तो आप हमें +91-9302409892 पर कॉल करें। या आप हमें
“अपना नाम”
“जन्म दिनांक”
“जन्म समय”
“जन्म स्थान”
व्हाट्सएप करें!! धन्यवाद
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार देखा जाए तो हर व्यक्ति का जन्म होते ही वह अपने प्रारब्ध के चक्र से बंध जाता है और ज्योतिषशास्त्र द्वारा निर्मित जन्म कुंडली हमारे इसी प्रारब्ध को प्रकट करती है। हमारे जीवन में सभी घटनाएं बारह राशि व नवग्रह द्वारा ही संचालित होती हैं। इन ग्रहों का आपके जीवन पर आने वाले समय में कैसा प्रभाव पड़ेगा इसके बारे में विस्तृत जवाब जानने के लिए अभी आप भी कर्ज़ की समस्या से परेशान हैं, और उससे जुड़ा कोई व्यक्तिगत उपाय, निवारण जानना चाहते हों या इससे जुड़े किसी सवाल का जवाब चाहिए हो तो
अभी इस नंबर पर आप संपर्क कर सकते हैं l 9302409892

शेयर करें: