लखनपुर सचिव से ग्रामीण परेसान जनपद सीईओ मेहरवान

जबलपुर :सरकार ने पंचायतों में सचिव पद की इसलिए नियुक्ति की थी ताकि सरकार की योजनाओं को ग्रामीणों तक सचिव के जरिये आसानी से पहुँचाया जा सके और ग्रामीणों को सरकारी योजनाओं का लाभ मिल सके साथ ही पँचायत के अन्य कार्यो में सरपंच को मदद रूप साबित हो लेकिन जबलपुर जिले की मंझोली जनपद की लखनपुर पँचायत के सचिव के  दुर्व्यवहार से ग्रामीण  परेसान है,जिसकी शिकायत भी ग्रामीणों द्वारा मझोली जनपद सीईओ से मार्च के महीने में की गई थी लेकिन जनपद सीईओ की मेहरवानी प्राप्त सचिव के खिलाप अभी तक किसी भी प्रकार की कार्यवाही नहीं की गई ,

क्या यही है सुशासन ?

लखनपुर निवासी राजा पटेल ने बताया की मार्च में कुछ ग्रामीणों द्वारा सचिव को ग्राम पंचायत लखनपुर से हटाने के लिए जनपद सीईओ को लिखित शिकायत दी गई थी लेकिन जनपद सीईओ ने ग्रामीणों की शिकायत पर सचिव पुरषोतम पटेल के खिलाप किसी भी प्रकार की कोई भी कार्यवाही नहीं की नतीजन सचिव अब ग्रामीणों को तरह -तरह से परेसान करने लगा है,जबकि हाल ही में शिवराज सरकार ने सुशासन दिवस मनाते हुए कहा था की हमारी सरकार में यदि कोई कर्मचारी या अधिकारी लोगों के समय पर काम नही करता हितग्राहियों को परेसान करने का काम करता है ,तो उसपर कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाए लेकिन लखनपुर के हालात देखकर लगता है सरकार ने लोगों का भरोसा जीतने के लिए ये खोखली घोषणा की थी असल में जमीनी हकीकत पर यहाँ सुशासन नहीं है ,

पँचायत में बहुत कम आता सचिव 

इतना ही नहीं ग्रामीणों का यह भी आरोप है की लखनपुर सचिव पुरषोतम पटेल पँचायत में बहुत कम ही आते है, जिसके चलते ग्रामीण परेसान है, लोगों का तो ये भी कहना है की जब उनके जरूरी काम होते है जब ही सचिव के पँचायत में एक दो घँटे के लिए दर्शन होते है अन्यथा नहीं,वहीँ हमारे द्वारा यह जानने के लिए की ग्रामीणों की शिकायत पर सचिव के खिलाप क्या कार्यवाही की गई ,फोन पर जनपद सीईओ मंझोली से संपर्क किया गया लेकिन जनपद सीईओ द्वारा फोन रिसीव नहीं किया गया,

 

 

शेयर करें: