जानें दिवाली में लक्ष्मी पूजन का शुभ मुहूर्त

0

ज्योतिषाचार्य निधि राज त्रिपाठी के अनुसार —- दिवाली के मुख्य दिन की। दिवाली की पूजा माँ लक्ष्मी को समर्पित होती है। हिंदू धर्म में मां लक्ष्मी को धन-संपत्ति की देवी माना गया है। ऐसे में मां लक्ष्मी की कृपा पाने के लिए दिवाली के दिन को बेहद ही शुभ माना गया है। इंसान के घर में सुख समृद्धि बनी रहे और मां का आशीर्वाद बना रहे इसलिए लोग दिनभर माँ लक्ष्मी का उपवास रखने के बाद सूर्यास्त के बाद प्रदोष काल के दौरान स्थिर लग्न (यानी वृषभ लग्न को स्थिर लग्न माना जाता है) में मां लक्ष्मी की पूजा करते हैं। इस दिन की पूजा में मुहूर्त का विशेष ध्यान देना चाहिए।
जानें लक्ष्मी पूजन का शुभ मुहूर्त
दिवाली पर लक्ष्मी पूजन का मुहूर्त

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त :17:30:04 से 19:25:54 तक
अवधि :1 घंटे 55 मिनट
प्रदोष काल :17:27:41 से 20:06:58 तक
वृषभ काल :17:30:04 से 19:25:54 तक

दिवाली महानिशीथ काल मुहूर्त

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त :23:39:20 से 24:32:26 तक
अवधि : 0 घंटे 53 मिनट
महानिशीथ काल :23:39:20 से 24:32:26 तक
सिंह काल :24:01:35 से 26:19:15 तक

दिवाली शुभ चौघड़िया मुहूर्त

अपराह्न मुहूर्त्त (लाभ, अमृत):14:20:25 से 16:07:08 तक
सायंकाल मुहूर्त (लाभ):17:27:41 से 19:07:14 तक
रात्रि मुहूर्त (शुभ, अमृत, चल):20:46:47 से 25:45:26 तक
उषाकाल मुहूर्त (लाभ):29:04:32 से 30:44:04 तक

गोवर्धन पूजा
दिवाली का त्यौहार अपने साथ कई अन्य अन्य त्यौहार भी लेकर आता है। इन्हीं कई त्योहारों में एक त्यौहार होता है गोवर्धन पूजा। गोवर्धन पूजा दिवाली के दूसरे दिन की जाती है। इस पूजा को प्रकृति की पूजा भी कहा जाता है जिसकी शुरुआत खुद भगवान श्री कृष्ण ने की थी। मान्यता के अनुसार इस दिन प्रकृति के आधार पर्वत के रूप में गोवर्धन पर्वत की पूजा किए जाने का विधान है और समाज के आधार पर इस दिन गाय की पूजा की जाती है। गोवर्धन पूजा की शुरुआत ब्रिज से होती है और धीरे-धीरे समय के साथ अभी पूरे भारत वर्ष में प्रचलित हो चुकी है। इस वर्ष गोवर्धन पूजा 15 नवंबर के दिन मनाई जाएगी।

गोवर्धन पूजा 2020, 15 नवंबर

गोवर्धन पूजा पर्व तिथि – रविवार, 15 नवंबर 2020

गोवर्धन पूजा सायंकाल मुहूर्त :15:18:37 से 17:27:15 तक

अवधि :2 घंटे 8 मिनट

भाई दूज
दिवाली के त्यौहार के अंतिम दिन भाई दूज का पर्व मनाया जाता है। भाई दूज का त्यौहार प्रेम और समर्पण का प्रतीक माना जाता है। इस दिन के बारे में जो मान्यता है उसके अनुसार भाई इस दिन अपने विवाहित बहनों के घर जाते हैं, जहाँ बहने उनका तिलक लगाकर उन्हें भोजन कराती हैं और उनकी लंबी उम्र की कामना करती हैं।

भाई दूज 2020, 16 नवंबर

भाई दूज तिथि – सोमवार, 16 नवंबर 2020

भाई दूज तिलक मुहूर्त – 13:10 से 15:18 बजे तक (16 नवंबर 2020)

अवधि :2 घंटे 8 मिनट

द्वितीय तिथि प्रारंभ – 07:05 बजे से (16 नवंबर 2020)

द्वितीय तिथि समाप्त – 03:56 बजे तक (17 नवंबर 2020)

नाम: ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अगर आपको ग्रह दशा के बारे में जानकारी चाहिए तो आप हमें +91-9302409892 पर कॉल करें। या आप हमें
“अपना नाम”
“जन्म दिनांक”
“जन्म समय”
“जन्म स्थान”
व्हाट्सएप करें!! धन्यवाद
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार देखा जाए तो हर व्यक्ति का जन्म होते ही वह अपने प्रारब्ध के चक्र से बंध जाता है और ज्योतिषशास्त्र द्वारा निर्मित जन्म कुंडली हमारे इसी प्रारब्ध को प्रकट करती है। हमारे जीवन में सभी घटनाएं बारह राशि व नवग्रह द्वारा ही संचालित होती हैं। इन ग्रहों का आपके जीवन पर आने वाले समय में कैसा प्रभाव पड़ेगा इसके बारे में विस्तृत जवाब जानने के लिए अभी आप भी कर्ज़ की समस्या से परेशान हैं, और उससे जुड़ा कोई व्यक्तिगत उपाय, निवारण जानना चाहते हों या इससे जुड़े किसी सवाल का जवाब चाहिए हो तो
अभी इस नंबर पर आप संपर्क कर सकते हैं l 9302409892

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
ख़बर चुराते हो अभी पोलखोल दूंगा
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x