जया एकादशी कल 23 फ़रवरी को, जानें तिथि, मुहूर्त, व्रत विधि, महत्व

 

ज्योतिषाचार्य निधि राज त्रिपाठी के अनुसार—–जया एकादशी व्रत कल 23 फरवरी को रखा जाएगा।
माघ माह शुक्ल पक्ष की एकादशी को जया एकादशी के नाम से जाना जाता है। हिन्दू धर्म में जया एकादशी तिथि का विशेष महत्व बताया गया है।
स्वयं भगवान श्रीकृष्ण ने पाण्डव पुत्र युधिष्ठिर को इस एकादशी का महत्व बताया था, जिसके बाद उन्होंने जया एकादशी का व्रत किया था।

🌹 *जया एकादशी मुहूर्त।*

एकादशी तिथि प्रारंभ : 22 फरवरी सायं 05:16 बजे से

एकादशी तिथि समाप्त : 23 फरवरी सायं 06:05 बजे तक

जया एकादशी पारणा मुहूर्त : 24 फरवरी को सुबह 06:51 बजे से 09:09 बजे तक
अवधि : 2 घंटे 17 मिनट

🌹जया एकादशी व्रत विधि।

प्रातः जल्दी उठकर स्नान करें।
व्रत का संकल्प लें और फिर विष्णु जी की आराधना करें।भगवान विष्ण़ु को पीले फूल अर्पित करें।
घी में हल्दी मिलाकर भगवान विष्ण़ु का दीपक करें।
पीपल के पत्ते पर दूध और केसर से बनी मिठाई रखकर भगवान को चढ़ाएं।
एकादशी की शाम तुलसी के पौधे के सामने दीपक जलाएं।भगवान विष्णु को केले चढ़ाएं और गरीबों को भी केले बांटे।

भगवान विष्णु जी के साथ लक्ष्मी जी का पूजन करें और गोमती चक्र और पीली कौड़ी भी पूजा में रखें।

🌹जया एकादशी व्रत से जुड़े नियम।

इस व्रत के दिन पवित्र मन से भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए।
मन में द्वेष, छल-कपट, की भावना नहीं लानी चाहिए,
ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए।

नारायण स्तोत्र एवं विष्णु सहस्रनाम का पाठ करना चाहिए।
इस प्रकार से जया एकादशी का व्रत करने से भगवान विष्णु की कृपा प्राप्त होती है।
जो लोग इस एकादशी का व्रत नहीं कर पाते हैं वह भी एकादशी के दिन विष्णुसहस्रनाम का पाठ करें और जरुरतमंदों की सहायता करें तो इससे भी पुण्य की प्राप्ति होती है।

ॐ नमोः भगवते वासुदेवायः

**लेकिन, यदि आपके मन में कोई और दुविधा है या इस संदर्भ में आप और ज्यादा विस्तृत जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं ज्योतिष व वास्तु के लिए सम्पर्क करे* **ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी** अगर आपको ग्रह दशा के बारे में जानकारी चाहिए तो आप हमें +91-9302409892 पर कॉल करें। या आप हमें
“अपना नाम”
“जन्म दिनांक”
“जन्म समय”
“जन्म स्थान”
व्हाट्सएप करें!! धन्यवाद
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार देखा जाए तो हर व्यक्ति का जन्म होते ही वह अपने प्रारब्ध के चक्र से बंध जाता है और ज्योतिषशास्त्र द्वारा निर्मित जन्म कुंडली हमारे इसी प्रारब्ध को प्रकट करती है। हमारे जीवन में सभी घटनाएं बारह राशि व नवग्रह द्वारा ही संचालित होती हैं। इन ग्रहों का आपके जीवन पर आने वाले समय में कैसा प्रभाव पड़ेगा इसके बारे में विस्तृत जवाब जानने के लिए अभी आप भी कर्ज़ की समस्या से परेशान हैं, और उससे जुड़ा कोई व्यक्तिगत उपाय, निवारण जानना चाहते हों या इससे जुड़े किसी सवाल का जवाब चाहिए हो तो
अभी इस नंबर पर आप संपर्क कर सकते हैं l 9302409892

शेयर करें: