सड़क दुर्घटनाओं की ऑनलाइन एंट्री में जबलपुर को प्रदेश में मिला दूसरा स्थान 



 

जबलपुर ;पुलिस कप्तान  जबलपुर  सिद्धार्थ बहुगुणा ने विशेष रूचि लेकर आईआरएडी एप पर सड़क दुर्घटनाओं की ऑनलाइन एंट्री, कराई आज उनकी मेहनत का नतीजा सामने है और जबलपुर को प्रदेश में दूसरा स्थान मिला है,तो वहीँ  जबलपुर – इंटीग्रेटेड रोड एक्सीडेंट डाटाबेस ऐप में सड़क दुर्घटनाओं की प्रविष्टियों में देश में मध्यप्रदेश को पहला स्थान प्राप्त हुआ है । जबकि जबलपुर जिले ने इस कार्य के लिये मध्यप्रदेश में द्वितीय स्थान हासिल किया है । जबलपुर जिले को मिली इस उपलब्धि पर एडीजीपी पीटीआरआई डी सी सागर भोपाल ने पुलिस अधीक्षक  सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) एवं एनआईसी की जबलपुर टीम को प्रशंसा पत्र प्रदान कर की है ।जिला सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) के अधिकारी आशीष शुक्ला ने बताया सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के उद्देश्य से इंटीग्रेटेड रोड एक्सीडेंट डाटा बेस एप भारत सरकार के सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा आईआईटी मद्रास और एनआईसी के सहयोग से तैयार किया गया है । डेटाबेस एप में देश के छह राज्य कर्नाटक, महाराष्ट्र, राजस्थान, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश एवं मध्यप्रदेश में पन्द्रह मार्च 2021 के बाद अभी तक हुई सड़क दुर्घटनाओं की ऑनलाइन एंट्री की गई है ।
एनआईसी प्रभारी आशीष शुक्ला ने यह भी बताया की सड़क दुर्घटनाओं के डेटा बेस एप में मध्यप्रदेश के सभी जिलों में हुई सड़क दुर्घटनाओं की जिला स्तर पर ऑनलाइन एंट्री की जा रही है । उन्होंने बताया कि एप में सड़क दुर्घटनाओं की ऑनलाइन एंट्री के लिये जिलों की रैंकिंग दो श्रेणी में दी जाती है । एक श्रेणी प्रदेश के उन ग्यारह जिलों की है, जहाँ सड़क दुर्घटनाएं ज्यादा होती है तथा दूसरी श्रेणी में ऐसे सभी जिले शामिल हैं जहाँ इन दुर्घटनाओं की संख्या अपेक्षाकृत कम हैं । श्री शुक्ला के मुताबिक एप में एंट्री करने के मामले में प्रदेश में पहला स्थान सागर जिले को मिला है । जबकि जबलपुर जिला दूसरे और इंदौर तीसरे स्थान पर रहा है । एप में सड़क दुर्घटनाओं की ऑनलाइन एंट्री के लिये रैंकिंग नियमित रूप से जारी की जाती है ।एनआईसी के अधिकारी के अनुसार भारत सरकार के सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वार तैयार किये गये इंटीग्रेटेड रोड एक्सीडेंट डाटाबेस एप में की जा रही सड़क दुर्घटनाओं की ऑनलाइन एंट्री के माध्यम से प्राप्त तथ्यों का विश्लेषण कर उन स्थानों को चिन्हित किया जा सकेगा जहाँ दुर्घटनाएं ज्यादा हो रही हैं । साथ ही इसके कारणों को भी जाना जा सकेगा और उन्हें दूर करने जरूरी उपाय किये जा सकेंगे ।उल्लेखनीय है कि इंटीग्रेटेड रोड एक्सीडेंट डाटाबेस ऐप में सड़क दुर्घटनाओं की प्रविष्टियों की ऑनलाइन एंट्री कराने में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक यातायात जबलपुर  संजय कुमार अग्रवाल एवं थाना प्रभारियों की सराहनीय भूमिका रही।

शेयर करें: