खुडावल में पड़ोसी की दबंगई संकट में पड़ोसी का मकान, पुलिस – प्रशासन से लेकर 181 तक में की जा चुकी है शिकायत 

 

जबलपुर :एक तरफ तो शासन -प्रशासन के आला अधिकारियों द्वारा विवादों की तत्काल सुनवाई करते हुए समस्या के हल करने के निर्देश सभी अधीनस्थ अधिकारियों और कर्मचारियों को देते हुए जल्द से जल्द समस्याओं के हल करने के दावे जरूर किये जा रहे है,लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है,मामला सिहोरा थाना क्षेत्र के मंझोली तहसील की ग्राम खुडावल का है,जहाँ पर एक पड़ोसी द्वारा दीवालें खोदे जाने से पड़ोस में रहने वाले पत्रकार का कच्चा मकान संकट में आ गया है,सामने बरसात है और पड़ोसी जिद पर अड़ा है की नहीं वह उसके घर से लगी दीवाल गिरा देगा ,यदि ऐसा होता है तो  उमेश विश्वकर्मा निवासी खुडावल के  कच्चे मकान का छप्पर गिर सकता है जिससे बड़े नुकसान के साथ जनहानि की भी आशंका है,तो वहीँ अचानक यदि बरसात हो गई तो पूरा मकान भी धरासाई हो सकता है, ऐसे में फरियादी विगत दो दिनों से सिहोरा पुलिस थाना सहित एसडीएम कार्यालय के चक्कर लगाते हुए लिखित शिकायत भी दे दी लेकिन उनकी समस्या का हल अभी तक नहीं हो सका,

झूठे केस में फंसाने की देता है धमकी 

वहीँ  उमेश विश्वकर्मा ने बताया की उनका पड़ोसी उन्हें यह भी धमकी देता है की ज्यादा करोगे तो ऐसे केस में फ़साइंगे की जमानत तक नहीं हो पाएगी,अब ऐसे में उमेश पुलिस- प्रशासन के दो दिनों से चक्कर काट रहे है,की कहीँ तो उन्हें न्याय मिल सके ,

ये है मामला,

मामला मझौली जनपद अंतर्गत ग्राम पंचायत खुडावल का है,  शिकायतकर्ता के अनुसार वादग्रस्त भूमि में प्रधानमंत्री आवास स्वीकृत कर प्रथम किस्त जारी कर दी गई है, प्रथम किस्त की राशि प्राप्त होते ही हितग्राही ने दीवाल तोड़कर मकान बनाना प्रारंभ कर दिया जिससे पड़ोसी शिकायतकर्ता का छप्पर गिरने की कगार पर पहुंच गया साथ ही शिकायतकर्ता का आवास एक दीवाल विहीन हो गया प्राप्त जानकारी के अनुसार हितग्राही एवं शिकायतकर्ता के मकान की एक ही दिवाल है,पीएम आवास स्वीकृत होते ही हितग्राही द्वारा आनन-फानन में दीवार तोड़कर निर्माण कार्य प्रारंभ करने से शिकायतकर्ता का घर गिरने की कगार पर पहुंच गया है शिकायतकर्ता ने मुख्यमंत्री हेल्पलाइन सहित स्थानीय प्रशासन के मामले की शिकायत करते हुए जल्द से जल्द उचित कार्यवाही की मांग की है,

शेयर करें: