एक लाइनमैन को 13 गांव का जिम्मा, हेल्पर सुधारते हैंं पोल के फाल्ट

कटनी /स्लीमनाबाद (सुग्रीव यादव): स्लीमनाबाद तहसील मुख्यालय मैं संचालित विद्युत वितरण केंद्र अंतर्गत 52 गांव आते है।लेकिन इन 52 गांवों की विद्युत व्यवस्था के लिए महज विद्युत वितरण केंद्र मैं महज वर्तमान मे 4 लाइनमैन ही पदस्थ है।जिस कारण लाइनमैन की मदद के लिए गांव-गांव नियुक्त किए गए हेल्पर भी सप्लाय के दौरान पोल पर चढ़कर फाल्ट सुधार रहे हैं। इन हेल्परों पर भी खतरा बना रहता है। विद्युत कंपनी द्वारा कर्मचारियों की कमी के चलते एक-एक लाइनमैन को 12 से 13 गांवों का जिम्मा सौंप दिया जाता है।
जबकि एक कर्मचारी प्रत्येक गांव में रोज फाल्ट नहीं सुधार सकता।
यदि किसी गाँव मे कोई फाल्ट आ गया तो उसके सुधारकार्य मैं कई घण्टे लग जाते है।
सबसे ज्यादा समस्या तो ग्रीष्मकालीन व वर्षाकाल के समय होती है।जिससे ग्रामीणों को विद्युत विभाग लचर लाफ़रवाही के चलते परेशान होना पड़ता है। ऐसे में लाइनमैन हेल्परों के सहारे विद्युत कार्य को अंजाम दे रहे है। गांव और खेतों की बिजली अलग-अलग हो चुकी है। दोनों ही फिडर में लगभग रोज ही फाल्ट होते रहते हैं।
ऐसे में हेल्पर भी चालू लाइन (सप्लाय) में ही फाल्ट सुधारने करीब 30 फीट ऊंचे पोल पर चढ़ जाते हैं।
जिस कारण कई बार हेल्पर जल्दबाजी मैं बिना सुरक्षा उपकरणों के ही विद्युत कार्य मैं लगे जाते है।
पूर्व मैं भी बहोरीबंद विकासखण्ड क्षेत्र मे इस प्रकार की लाफ़रवाही से घटनाएं घटित हो चुकी है।

इनका कहना है- दिलदार डाबर कनिष्ठ अभियंता स्लीमनाबाद

स्लीमनाबाद विद्युत वितरण केंद्र मैं वर्तमान मे 4 लाइनमैन ही पदस्थ है। केंद्र मैं लाइनमैनों की व्यवस्था को लेकर विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया है व मांग की गई है।जिससे विद्युत व्यवस्था का संचालन सुचारू रूप से हो सके।

शेयर करें: