आधा सावन प्यासा…. अब भादों से क्या आशा ?सावन में ही फूल गए काँस 

 

मौसम की बेरुखी अब फिर से साफतौर पर दिखाई दे रही है, आधा सावन तो काफी हद तक ठीकठाक रहा, लेकिन बचा हुआ सावन प्यासा सा अलविदा होने को है,पंचांग के अनुसार सावन का महीना 22 अगस्त 2021 रविवार को समाप्त हो रहा है. इस दिन शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि और धनिष्ठा नक्षत्र है. रविवार को शोभन योग बना हुआ है. सावन यानी श्रावण मास के बाद भाद्रपद का महीना आरंभ होगा. इसे भादो मास भी कहा जाता है. भाद्रपद मास को हिंदू पंचांग के अनुसार इसे छठा महीना माना गया है. भाद्रपद मास 23 अगस्त 2021 से आरंभ होगा.

क्या होगा इन किसानों का ,

वहीँ  बरसात को लेकर वर्तमान के हालात जबलपुर जिले में कुछ ठीक नहीं है ,कहीँ छुटपुट बरसात के बाद तेज तर्रार धूप खेतों में धान की फसल के लिए बहुत बड़ा नुकसान कर सकती है ,जिलेभर के किसानों में से अधिकांश किसान नोजल और पाईप से धान की खेतों की प्यास बुझा रहे है लेकिन जो फायदा मानसूनी बरसात का फसलों को होता है उतना बोर के पानी का फायदा फसलों को नहीं हो पाता ,फिर भी जिन किसानों के पास पानी का साधन नहीं है उनके खेत सूख रहे है ,एनएच 30 से लगे पनागर सहित अन्य क्षेत्रों से पानी की समस्या की खबरें आ रही है की क्षेत्र के अधिकांश खेतों में पानी न होने से धान की फसल सूख रही है, वैसे तो सरकार द्वारा नर्मदा नहरों के माध्यम से भी खेतों तक पानी पहुँचाने की सुविधा की गई है ,लेकिन जरूरी नहीं की हर खेत की पहुँच में नहर हो ,अब ऐसे में अधिकांश किसानों की उम्मीद भगवान से ही है,

सावन में ही फूल गए काँस, क्या शरद ऋतु आ गई?

कहते है जब बरसात खत्म होकर शरद ऋतु सुरु होती है तब काँस फूलते है लेकिन आज जिले में कई जगहों पर काँस फूले देखे जा सकते है ,काँस फूलने को लेकर तुलसीदास जी की राम चरित मानस में शरद ऋतु पर लिखी प्रसिद्ध चौपाई: है बरषा बिगत सरद ऋतु आई। … अर्थ है: लक्ष्मण देखो वर्षा विगत हुई, अर्थात बीत गयी और सुहानी शरद ऋतु आ गयी। काँस (कुश, Talahib grass) के सफेद फूल महि (पृथ्वी) पर छा गए हैं, जैसे कि वर्षा ने अपने बुढ़ापे के सफेद बाल प्रकट किये हों।तो क्या अब बरसात के आसार कम हो गए है क्या?क्या बचा हुआ आधा सावन और भादों में बरसात की आशा कम है ये तमाम सवाल आज उन अन्नदाताओं के मन में कांटे की तरह चुभ रहे है जिनके पास न तो खुद का ट्यूबबेल है न ही बोर न ही पानी के अन्य कोई साधन ,

 

 

शेयर करें: