मोहनी एकादशी आज व्रत करने से व्यक्ति के जीवन में  बढ़ती है सुख समृद्धि 

 

ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार—–वैशाख माह में पड़ने वाली दूसरी एकादशी 22 मई शनिवार के दिन पड़ रही है। वैशाख माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोहिनी एकादशी कहा जाता है। मोहिनी एकादशी का व्रत करने से व्यक्ति के जीवन में सुख समृद्धि बढ़ती है और मानसिक शांति प्राप्त होती है। इस विशेष आर्टिकल में जानते हैं कि एकादशी के दिन आप अपनी राशि के अनुसार किन मंत्रों का जप करके भगवान विष्णु की कृपा अपने जीवन पर प्राप्त कर सकते हैं। साथ ही जानते हैं मोहिनी एकादशी के दिन की सही पूजा विधि और नियम क्या हैं।

मोहिनी एकादशी 2021 शुभ मुहूर्त और पारणा मुहूर्त
मोहिनी एकादशी पारणा मुहूर्त : 05:26:08 से 08:10:52 तक 24, मई को

अवधि :2 घंटे 44 मिनट

मोहिनी एकादशी पूजन विधि
मोहिनी एकादशी के बारे में कहा जाता है कि यह वही दिन है जिस दिन समुद्र मंथन से निकले अमृत को असुरों से बचाने के लिए भगवान विष्णु ने अप्सरा मोहिनी का रूप धारण किया था। अब जानते हैं मोहिनी एकादशी के दिन की पूजन विधि क्या है।

सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि करने के बाद व्रत और पूजा का संकल्प लें।
इस दिन की पूजा में भगवान विष्णु की प्रतिमा/फोटो के समक्ष दीप जलाएं।
भगवान विष्णु को अक्षत, फूल, फल, नारियल और मेवे आदि अर्पित करें।
भगवान विष्णु की पूजा में इस बात का विशेष ध्यान रखें कि तुलसी के पत्ते अवश्य शामिल करें।
इसके बाद भगवान विष्णु की आरती उतारें।
इसके बाद सूर्य देव को जल अर्पित करें।
इस दिन की पूजा में एकादशी की कथा अवश्य सुने और दूसरों को सुनाएं। ऐसा करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है।
मोहिनी एकादशी राशि अनुसार मंत्र जाप
अब जानते हैं कि, मोहिनी एकादशी के दिन अपनी राशि के अनुसार किन मन्त्रों का जप करने से आपको शुभ परिणाम हासिल हो सकते हैं। यहाँ इस बात का विशेष ध्यान रखें कि, मन्त्रों का जप स्पष्ट उच्चारण पूर्वक ही किया जाना चाहिए।

मेष राशि- ॐ ह्रीं श्रीं श्रीं लक्ष्मी नारायणाय नम:।

वृष राशि- ॐ गोपालाय उत्तरध्वजाय नम:।

मिथुन राशि- ॐ क्लीं कृष्णाय नमः:।

कर्क राशि- ॐ ह्रीं हिरण्यगर्भाय अव्यक्तरूपिणे नम:।

सिंह राशि- ॐ क्लीं ब्राह्मणे जगदाधाराय नम:।

कन्या राशि- ॐ पीं पिताम्बराय नम:।

तुला राशि- ॐ तत्व निरंजनाय तारक रामाय नम:।

वृश्चिक राशि- ॐ नारायणाय सूरसिंहाय नम:।

धनु राशि- ॐ श्रीं देवकृष्णाय उर्ध्वजाय नम:।

मकर राशि- ॐ श्रीं वत्सलाय नम:।

कुंभ राशि- ॐ श्रीं उपेन्द्राय अच्युताय नम:।

मीन राशि- ॐ क्लीं उद्धृताय उद्धारिणे नम:।

एकादशी व्रत में इन बातों का रखें विशेष ध्यान
प्रत्येक माह में दो बार किया जाने वाला एकादशी व्रत तभी फलदाई होता है जब इसके नियमों की जानकारी हो और नियमों का पालन करते हुए ही व्रत किया जाए। ऐसे में हम आपको बता दें कि, मोहिनी एकादशी व्रत में किन नियमों का पालन करना होता है।

एकादशी के व्रत में कांस के बर्तन में खाना खाने से बचें।
इस दिन जितना हो सके सात्विक भोजन और ब्रह्मचर्य का पालन करें।
व्रत वाले दिन किसी को भला बुरा ना कहें और किसी का बुरा न सोचें।
अच्छे कामों में मन लगाएं और इस दिन तामसिक चीज़ें बिल्कुल भी ना खाएं और ना ही दातुन से दांत साफ करें करें।

**लेकिन, यदि आपके मन में कोई और दुविधा है या इस संदर्भ में आप और ज्यादा विस्तृत जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं ज्योतिष व वास्तु के लिए सम्पर्क करे* **ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी** अगर आपको ग्रह दशा के बारे में जानकारी चाहिए तो आप हमें +91-9302409892 पर कॉल करें। या आप हमें
“अपना नाम”
“जन्म दिनांक”
“जन्म समय”
“जन्म स्थान”
व्हाट्सएप करें!! धन्यवाद
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार देखा जाए तो हर व्यक्ति का जन्म होते ही वह अपने प्रारब्ध के चक्र से बंध जाता है और ज्योतिषशास्त्र द्वारा निर्मित जन्म कुंडली हमारे इसी प्रारब्ध को प्रकट करती है। हमारे जीवन में सभी घटनाएं बारह राशि व नवग्रह द्वारा ही संचालित होती हैं। इन ग्रहों का आपके जीवन पर आने वाले समय में कैसा प्रभाव पड़ेगा इसके बारे में विस्तृत जवाब जानने के लिए अभी आप भी कर्ज़ की समस्या से परेशान हैं, और उससे जुड़ा कोई व्यक्तिगत उपाय, निवारण जानना चाहते हों या इससे जुड़े किसी सवाल का जवाब चाहिए हो तो
अभी इस नंबर पर आप संपर्क कर सकते हैं l 9302409892

शेयर करें: