मास्क नही पहनने वालों पर दर्ज करें एफआईआर ,साथ ही सैंपल की संख्या बढ़ाएं,कलेक्टर कर्मवीर शर्मा

जबलपुर :कलेक्टर  कर्मवीर शर्मा की अध्यक्षता में कोविड की रोकथाम व बचाव के लिए तहसील कार्यालय सिहोरा मैं बैठक आयोजित की गई। बैठक में एसडीएम श्री जेपी यादव, बीएमओ, तहसीलदार, जनपद सीईओ सहित सभी जनपद स्तरीय अधिकारी व गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।बैठक में कलेक्टर  शर्मा ने कहा कि लोगों की जान बचाना पहली प्राथमिकता है, अतः कोविड की रोकथाम व बचाव के लिए हर संभव प्रयास करें इसमें किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। घर-घर सर्वे करें और कोविड संक्रमित व अस्वस्थ लोगों की पहचान करें। उन्हें दवाइयां दे और हम आइसोलेशन के लिए कहें यदि वह होम आइसोलेशन के नियमों का उल्लंघन करते हैं तो उन्हें कोविड केयर सेंटर में लाये और वहाँ रखें तथा उनका उपचार करें। कोविड के संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए सबसे पहले बीमार लोगों की पहचान करना है और उन्हें आइसोलेशन करना है तथा दवाई देना है जब तक ऐसे लोगों की पहचान नहीं कर पाएंगे तब तक संक्रमण फैलता ही रहेगा। यदि किसी गांव में सात या आठ लोग बीमार हैं तो समझ लो कि वहाँ कोविड हैं। उन्हें दवाई दे और होम आईसोलेट करें। पांच दिन में यदि वे ठीक नहीं होते है तो उनके टेस्ट करें और उन्हें कोविड केयर सेंटर में रखें जहां उनके उपचार होगा।कलेक्टर  शर्मा ने कहा कि शहरी क्षेत्र में शक्ति के साथ काम करें ।कोई होम आइसोलेशन नहीं। क्योंकि संक्रमित लोग ही संक्रमण को फैला रहे हैं जबरदस्ती उन्हें कोविड केयर सेंटर में लाएं। उन्होंने कहा कि अस्वस्थ लोगों को अपने रडार में रखें 5 दिन के दवाई दे, यदि वे ठीक नहीं होते है तो उनके टेस्ट करें और कोविड केयर सेंटर में उपचार करें।
सिम्टम्स वालों की घर विजिट करें और देखें की उनके स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है या नहीं। मास्क नही पहनने वालों पर भी एफआईआर दर्ज करें और सैंपल की संख्या बढ़ाएं और 45 प्लस व गर्भवती माताओं का टेस्ट करायें क्योंकि उन्हें संक्रमण का ज्यादा खतरा हैं।
कलेक्टर श्री शर्मा ने कहा कि कोविड को रोकने के लिए पहले बीमार व्यक्ति की पहचान करें फिर उन्हें आइसोलेशन करें और उपचार करें। हर सिम्टम्स वाला व्यक्ति आज की परिस्थिति में पॉजिटिव हो सकता है। शहरी क्षेत्र में जो रणनीति है वही ग्रामीण क्षेत्र में भी रहे और जो सस्पेक्टेड हैं उन्हें तत्काल मेडिकल किट दें। जनता कोरोना कर्फ़्यू का सख्ती से पालन हो। इसके साथ ही उन्होंनेसंक्रमण रोकने के लिए कहा कि भीड़ एकत्र न होने दें। सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें, मास्क लगाएं और सैनिटाइजर करते रहें और ऐसे लोगों पर निगरानी रखें जिनका सीधा संपर्क आम जनता से हो रहा है जैसे दूधवाला, कियोस्क, टेलर्स आदि। उन्होंने कहा कि संग्राम रोकने के सभी प्रयास करें और सेम्पल साइज बढ़ायें।

किसी प्रकार की सर्दी-जुकाम है तो तत्काल जानकादी दें– कलेक्टर  शर्मा

कलेक्टर  कर्मवीर शर्मा ने आज मझौली विकासखंड के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र इन्द्राना पहुँच कर अस्पताल का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कोरोना की रोकथाम और बचाव के लिए किए जा रहे प्रयासों के बारे में जानकारी लेते हुए टीकाकरण, संक्रमित व्यक्ति तथा अस्वस्थ व्यक्तियों के बारे में जानकारी ली और कहा कि जो भी अस्वस्थ व्यक्ति है,उन्हें होम आइसोलेशन में रहने की सलाह दें और आवश्यक दवाइयां सुनिश्चित करें। इस दौरान उन्होंने संबंधित अधिकारियों से कहा कि यदि किसी बस्ती में 5-6 लोग भी संक्रमित निकलते हैं तो समझो उस बस्ती में कोरोना का संक्रमण है। संक्रमित व्यक्ति होम आइसोलेशन में रहे और किसी से मिलना जुलना बंद करें । वेक्सीनेशन को लेकर भ्रम न पाले, इसको लेकर लोगों को जागरूक करें। यदि वह होम आइसोलेशन का पालन नहीं करता है तो उन्हें कोविड केयर सेंटर में लाकर रख दें। अस्पताल के निरीक्षण के उपरांत कलेक्टर श्री शर्मा ने बनखेड़ी गांव का भ्रमण कर लोगों से कहा कि किसी भी प्रकार की सर्दी खांसी या बुखार है तो तत्काल इसकी जानकारी दें और दवाइयां ले और होम आइसोलेट हो। इस दौरान उन्होंने बीएमओ से सैंपलिंग की रणनीति के बारे में पूछा और कहा कि जिस गांव में ज्यादा केस आ रहे तो समझो वहाँ कोरोना है। वहाँ टेस्ट ना करें, बल्कि दवाइयां दे और आईसोलेट करें । दूसरे गांव में टेस्ट करें। ज्यादातर 45 प्लस और गर्भवती माताओं का टेस्ट करें क्योंकि इन में जोखिम ज्यादा है। इस दौरान जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी संजीव कुमार तिवारी सहित ब्लॉक स्तरीय सभी अधिकारी उपस्थित थे।

शेयर करें: