आगामी त्यौहारों में करना होगा कोरोना गाइडलाइन का पालन

जबलपुर, आगामी समय में मोहर्रम, जन्माष्टमी, गणेशोत्सव एवं पयूर्षण आदि पर्वों को ध्यान में रखते हुए आज कलेक्टर  कर्मवीर शर्मा की अध्यक्षता में शांति समिति की बैठक आयोजित की गई। कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित इस बैठक में पुलिस अधीक्षक  सिद्धार्थ बहुगुणा अपर कलेक्टर  हर्ष दीक्षित,  राजेश बाथम एवं  शेर सिंह मीणा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रोहित काशवानी सहित समिति के सभी शासकीय एवं अशासकीय सदस्य भी उपस्थित थे। बैठक में मौजूद शांति समिति के अशासकीय सदस्यों में हाजी सैय्यद कौसर रब्बानी,  एसके मुद्दीन,  आलोक मिश्रा,  मुकेश राठौर, कदीर सोनी,  शरद काबरा,  एम.ए. रजवी,  शरण चौधरी,  ताहिर खान आदि शामिल थे।बैठक में कलेक्टर  कर्मवीर शर्मा ने कहा कि कोविड को ध्यान में रखते हुए पिछले वर्ष जो त्यौहारों के लिए राज्य शासन द्वारा जो गाइड लाइन व दिशा-निर्देश थे वही रहेंगे।

 

जुलूस, रैली, टिपारी, ताजिये पर प्रतिबंध 

 

जुलूस, रैली, टिपारी, ताजिये आदि प्रतिबंधित रहेंगे। धार्मिक स्थलों पर अधिकतम 50 व्यक्ति ही शामिल हो सकेंगे और कम स्थान वाले धार्मिक स्थलों में जगह के हिसाब से कम से कम व्यक्ति ही शामिल हो। जिससे कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन हो सके। उन्होंने कहा कि कोरोना की द्वितीय लहर शुरूआत भी केरल, महाराष्ट्र जैसे राज्यों से हुई थी वही स्थिति अभी भी है। यह समय सावधानी बरतने का है, जरा सी भी असावधानी से संक्रमण फैल सकता है अत: कोविड गाइड लाइन का पालन करें, जीवन रहेगा तो त्यौहार आते रहेंगे। उन्होंने जोर देकर कहा कि त्यौहारों में बिल्कुल भी भीड़ न हो, शांति व सौहाद्र्रपूर्ण तथा जबलपुर की गंगा-जमुनी संस्कृति का पालन करते हुए त्यौहार मनायें लेकिन भीड़ का जमावड़ा न करें। इस दौरान सभी राजनैतिक, सामाजिक व धार्मिक आयोजन जिसमें जनसमूह एकत्र होता है प्रतिबंधित रहेंगे।

एसपी ने कही ये बात 

वहीँ इस बैठक के दौरान  पुलिस अधीक्षक  बहुगुणा ने कहा कि मोहर्रम, जन्माष्टमी, गणेशोत्सव में ऐसा कोई जुलूस, वाहन रैली, सवारी, ताजिये, मटकी फोड़ प्रतियोगिता या ऐसे कोई कार्यक्रम नहीं होंगे जिसमें भीड़ का जमावड़ा हो साथ ही लाउडस्पीकर व डीजे पर भी प्रतिबंध रहेगा। त्यौहार आनंद व खुशी के लिए है सभी शांतिपूर्वक मनायें लेकिन कोविड के गाइड लाइन का पालन करते हुए मनायें। इस दौरान थाना स्तर पर भी इन त्यौहारों को लेकर बैठक की जावेगी। श्री बहुगुणा ने बताया की सावन का पर्व है यह माह त्यौहारों से भरपूर है, इस संबंध में जो गाइड लाइन पिछली बार थी प्राय: वही रहेगी। कुल मिलाकर इन प्रतिबंधों का उद्देश्य यही है कि कोविड कंट्रोल में रहे। लंगर भी प्रतिबंधित रहेंगे लेकिन पिछले बार जैसे पैकेट में घर-घर प्रसाद पहुंचाया जा सकता है। शांति समिति के सदस्यों ने एक-एक कर अपनी बात रखी। सदस्यों ने जहां सभी नागरिकों से कोरोना गाइड लाइन तथा कोविड-19 के प्रोटोकॉल को ध्यान में रखकर शांति व सौहाद्र्र से त्यौहार मनाने की अपील की। वहीं बिजली, साफ-सफाई, यातायात एवं सुरक्षा, पेयजल आदि की समुचित व्यवस्था करने का सुझाव भी दिया। समिति के सदस्यों ने स्वतंत्रता दिवस व रक्षाबंधन को भी कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए शांति सौहाद्र्र व गरिमामय रूप से मनाने का सुझाव दिया। पुलिस अधीक्षक  बहुगुणा ने कहा कि रक्षाबंधन का त्यौहार व्यक्तिगत रूप से घरों में मनायें लेकिन सार्वजनिक रक्षाबंधन का उत्सव जहां भीड़ एकत्रित हो प्रतिबंधित रहेगा। बैठक के दौरान समिति के सदस्य व उनके परिवारों के सदस्यों का कोरोना से निधन होने पर उनकी आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन धारणकर श्रृद्धांजलि भी दी गई।

शेयर करें: