राजस्व अधिकारियों की बैठक में कलेक्टर की चेतावनी,आम जनता के काम अटके तो अधिकारियों पर होगी कार्यवाही

 

जबलपुर,कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने आज रविवार को आयोजित बैठक में राजस्व अधिकारियों को आम-जनता से जुडे मुद्दों और समस्याओं का तत्परता से निराकरण करने के निर्देश दिये है। उन्होंने कहा कि लोगों के काम समय पर हो फिर वो चाहे किसी भी विभाग से संबंधित क्यों ने हों यह देखना राजस्व अधिकारियों की जिम्मेदारी है। श्री शर्मा ने कहा कि यदि आम जनता को अपने जायज काम के लिये भटकना पड़ा तो न केवल संबंधित विभाग के अधिकारी पर कार्यवाही की जायेगी बल्कि क्षेत्र के राजस्व अधिकारियों को भी इसके लिये जबावदेह माना जायेगा।
कलेक्टर ने बैठक में राजस्व से जुड़े मामलों के निराकरण को भी प्राथमिकता देने के निर्देश दिये है। उन्होंने राजस्व कार्यालयों से दलालों का दूर रखने की हिदायत देते हुये कहा कि निचले स्तर पर मामले अटकने की वजह से लोगों को कठिनाई हुई तो आरआई पटवारी की बजाय तहसीलदार और अनुविभागीय राजस्व अधिकारियों को इसका जिम्मेदार माना जायेगा तथा उनके विरूद्ध कार्यवाही भी की जायेगी। श्री शर्मा ने अधिकारियों से स्पष्ट शब्दों में कहा कि नियमानुसार जो काम हो सकते हैं उन्हें तत्काल किया जाये और जो काम नहीं हो सकते हैं उनके बारे में वस्तु स्थिति से तुरंत संबंधित को अवगत करा दिया जाये।
श्री शर्मा ने बैठक में सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों की विस्तृत समीक्षा कर कहा कि तहसील व अनुभाग स्तर पर जो भी शिकायतें प्राप्त होती हैं उनके निराकरण संतुष्टिपूर्ण तरीके से करें। कोई प्रकरण अनदेखा ना रहे। सभी अधिकारी कर्मचारी अपने अपने मुख्यालय में रहे तथा बिना सक्षम अधिकारी की अनुमति के मुख्यालय ना छोड़ें। उन्होंने कहा कि राजस्व से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर एक-एक कर चर्चा करते हुये शासकीय भूमि पर हुये अतिक्रमण या कब्जे तत्काल हटाये जायें। कलेक्टर ने सीमांकन, विवादित अविवादित नामांतरण, बंटवारा, वसूली, प्राकृतिक आपदा में सहायता एवं राजस्व न्यायालय में लंबित प्रकरणों का शीघ्र निराकरण करने के निर्देश दिए। श्री शर्मा ने कहा कि आम जनता के साथ धोखाधड़ी करने वाले लोगों पर एफआईआर दर्ज कराये। उन्होंने कहा कि राजस्व वसूली के लिये विशेष अभियान चलाएं और जितने भी बड़े बकायादार हैं उन्हें नोटिस दें, वसूली की शुरुआत बड़े बकायेदारों से करें। कलेक्टर ने नजूल पट्टों के नवीनीकरण के लिए शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में तहसील या वार्डवार कैंप लगाने के भी निर्देश दिये ।
माफिया और मिलावट खोरों पर कार्यवाही में और गति लाये 
कलेक्टर श्री शर्मा ने राज्य शासन की मंशा के अनुरूप भू-माफिया, खनन माफिया, शराब माफिया, फर्जी चिटफंड कंपनियों और मिलावट खोरों के विरूद्ध जिले में चलाये जा रहे अभियान को और गति देने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि माफिया के विरूद्ध की जा रही कार्यवाही में जीरो टालरेंस की नीति अपनानी होगी। उन्होंने माफिया और मिलावट खोरों पर शहरी क्षेत्र के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्र में भी कार्यवाही करने के निर्देश राजस्व अधिकारियों को दिये। उन्होंने कहा कि माफिया के विरूद्ध शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में हर दिन कोई न कोई कार्यवाही होनी चाहिये ताकि जनता के बीच प्रशासन अच्छी छवि बनें और माफिया में खौफ पैदा हों।
श्री शर्मा ने बैठक में राजस्व वसूली में भी गति लाने पर जोर दिया। उन्होंने भूमि आवण्टन से जुड़े प्रकरणों का तेजी से निराकरण करने के निर्देश दिये। समय सीमा प्रकरणों, सीएम मानिट और जनप्रतिनिधियों से प्राप्त शिकायतें का भी त्वरित निराकरण के निर्देश कलेक्टर ने राजस्व अधिकारियों को दिये। उन्होंने अमानक धान के परिवहन के मामले में जप्त किये गये वाहनों को राजसात करने की कार्यवाही करने कहा। श्री शर्मा ने समर्थन मूल्य पर गेहूं के उर्पाजन के लिये किसानों के पंजीयन के लिये अभी से जरूरी तैयारियों करने के निर्देश भी दिये। साथ ही सार्वजनिक वितण प्रणाली के तहत खाद्यान्न के वितरण में भी गति लाने पर जोर दिया। कलेक्टर ने बर्ड फ्लू को लेकर अपने-अपने क्षेत्रों में सतर्कता बरतने की हिदायत भी राजस्व अधिकारियों को बैठक में दी।
कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में संपन्न हुई इस बैठक में अपर कलेक्टर हर्ष दीक्षित, राजेश बाथम एवं बी.पी. द्विवेदी, सभी अनुविभागीय राजस्व अधिकारी, तहसीलदार, नायब तहसीलदार एवं राजस्व निरीक्षक मौजूद थे।

शेयर करें: