कोरोना की संभावित तीसरी लहर से निपटने,कलेक्टर ने दिए ये निर्देश 

 

जबलपुर:कलेक्टर कर्मवीर शर्मा की अध्यक्षता में आज कोरोना की संभावित तीसरी लहर की तैयारियों को लेकर क्षेत्रीय संचालक स्वास्थ्य सेवाएं कार्यालय में बैठक आयोजित की गई। इस दौरान संयुक्त संचालक स्वास्थ्य सेवाएं डॉ. संजय मिश्रा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. रत्नेश कुररिया, डॉ. धीरज दावंडे, डॉ. एसएस दाहिया, डॉ. मोहंती, डॉ. आर.के. खरे, डॉ. संजय छत्तानी, डॉ. मनीष मिश्रा सहित सभी चिकित्सक उपस्थित थे।
इस दौरान कलेक्टर श्री शर्मा ने कहा कि कोरोना प्रथम व द्वितीय लहर की भयावहता से सभी परिचित हैं, कोविड से संघर्ष करते-करते आज पहले की तुलना में बेहतर स्थिति में है। इसमें चिकित्सक, पैरामेडिकल स्टॉफ व नर्सेस की बेहतर सेवाओं को याद कर कहा कि वे अपने कर्तव्यों को बखूबी निभाई है। इस दौरान जाने-अनजाने में मानवता के लिए जो सेवाएं की गई हैं उनका फीडबैंक अच्छा इलाज में रूप में सामने आया है।
उन्होंने कहा कि कठिन वक्त के दौर में, जब कोविड की भयावह स्थिति का अनुमान ही नहीं था उस समय डॉक्टर्स, पैरामेडीकल स्टॉफ व नर्सेस ने बेहतर सेवाएं प्रदान कर अपने कर्तव्यों का निर्वहन धैर्यता के साथ किया और कोरोना पर नियंत्रण करने में कामयाबी हासिल की है। जबकि उस समय चिकित्सकीय संसाधन उतने नहीं थे। अब अपने पास अनुभव के साथ चिकित्सकीय संसाधन भी है अत: तीसरी लहर आने ही न दें यदि आये भी तो वह पूरी तरह नियंत्रित रहे। उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन के साथ सेम्पलिंग भी बढ़ाएं, सस्पेक्ट व्यक्ति की पहचान कर उनके कांट्र्रेक्ट ट्रेसिंग करें, लोगों से मास्क लगाने के लिए कहें, सोशल डिस्टेंसिंग अपनायें और कोविड नियंत्रण के लिए अनुकूल व्यवहार करें। बच्चों को दृष्टिगत रखते हुए उनके इलाज की समुचित व्यवस्थाएं करें। कोरोना अभी खत्म नहीं हुआ है। अभी विराम की स्थिति में है अत: असावधानी बिलकुल भी न करें। इस दौरान चिकित्सकों ने भी अपने अनुभव के साथ संभावित तीसरी लहर से बचने की रणनीति के बारे में बताया और सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए विक्टोरिया तथा एल्गिन हॉस्पिटल में पुलिस चौकी बनाने का निवेदन भी किया गया।

शेयर करें: