मुख्यमंत्री का जनप्रतिनिधियों,नागरिकों और समाजसेवियों से आव्हान,सितंबर माह के अंत तक सभी को लग जाये वैक्सीन का पहला डोज

 

जबलपुर, मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने वैक्सीनेशन को कोरोना से बचाव का सबसे कारगर उपाय बताते हुए नागरिकों, जनप्रतिनिधियों, समाजसेवियों एवं प्रबुद्धजनों से वैक्सीनेशन के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करने तथा सितंबर माह के अंत तक वैक्सीन का पहला डोज लगाने का लक्ष्य पूरा करने में शासन-प्रशासन का सहयोग करने का आव्हान किया है। श्री चौहान आज यहां कोरोना वैक्सीनेशन महाभियान के दूसरे चरण के पहले दिन सरस्वती विद्या मंदिर त्रिमूर्ति नगर स्थित वैक्सीनेशन सेंटर का निरीक्षण करने के बाद टीकाकरण जागरूकता कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन वाली जिले की पांच ग्राम पंचायतों को प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया तथा मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुकंपा नियुक्ति योजना के तहत कोरोना से दिवंगत हुए शासकीय कर्मचारियों के चार आश्रितों को नियुक्ति पत्र प्रदान किये।
कार्यक्रम में प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री एवं जबलपुर जिले के प्रभारी मंत्री  गोपाल भार्गव, विधायक  अजय विश्नोई, श्रीमती नंदिनी मरावी,  अशोक रोहाणी,  सुशील तिवारी इंदू,  विनय सक्सेना एवं  संजय यादव, जिला पंचायत की प्रशासकीय समिति की प्रधान श्रीमती मनोरमा पटेल, पूर्व मंत्री  अंचल सोनकर,  हरेन्द्रजीत सिंह बब्बू एवं  शरद जैन,  विनोद गोंटिया,  रानू तिवारी, श्री जीएस ठाकुर, डॉ. जीतेन्द्र जामदार,  अभिलाष पांडे आदि मौजूद थे।

 

मुख्यमंत्री  चौहान ने वैक्सीनेशन सेंटर के निरीक्षण के पूर्व सरस्वती विद्या मंदिर परिसर में रूद्राक्ष का पौधा रोपा। उन्होंने वैक्सीनेशन सेंटर में वैक्सीन लगवाने आये लोगों से भी चर्चा की तथा उनकी कुशलक्षेम जानी। मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कोरोना की दूसरी लहर का उल्लेख करते हुए कहा कि पूरे प्रदेश ने इसकी विभीषिका को झेला है और कई लोगों ने अपनो को खोया है। कई बच्चे अनाथ भी हुए हैं। श्री चौहान ने कहा कि यह स्थिति दोबारा न बने इसके लिए कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने के साथ-साथ वैक्सीनेशन भी जरूरी है। मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में जबलपुर आने का उद्देश्य स्पष्ट करते हुए कहा कि चूंकि जबलपुर समूचे महाकोशल क्षेत्र का सबसे बड़ा क्षेत्र है इसलिए कोरोना वैक्सीनेशन अभियान को गति देने और इस क्षेत्र के निवासियों से कोरोना का टीका लगवाने का आग्रह करने आज यहां आये हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर जाते ही लोग कोरोना प्रोटोकॉल को भूलने लगे हैं। बाजारों में भीड़ बढ़ने लगी है। लेकिन यह याद रखना होगा कि कोरोना अभी गया नहीं है। उन्होंने वैक्सीन को कोरोना को रोकने का सबसे प्रभावी उपाय और सुरक्षा कवच बताते हुए कहा कि जिसने एक भी डोज नहीं लगवाई है वे तुरंत लगवा लें और जिन्होंने दूसरी डोज नहीं लगवाई हैं वो समय पूरा होने पर दूसरी डोज जरूर लगवायें। उन्होंने कहा कि टीके की दोनों डोज लग गई तो लोग सुरक्षित हो जायेंगे। इसके बाद या तो कोरोना होगा ही नहीं और यदि हुआ भी तो इसका गंभीर प्रभाव नहीं पड़ेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड की दूसरी लहर को हम भूल नहीं सकते। अब हमारी कोशिश होनी चाहिए की हम किसी भी कीमत पर तीसरी लहर को नहीं आने दें। उन्होंने सभी से कोरोना की दूसरी डोज लगवाने का आग्रह करते हुए कहा कि जिन नागरिकों ने वैक्सीन की एक भी डोज नहीं लगवाई है वे जल्दी से जल्दी लगवा लें। जिन्होंने पहली डोज लगवायी है वे दूरी डोज लगवायें और जिन्होंने दूसरी डोज भी लगवा ली है वे अधिक से अधिक संख्या में नागरिकों को इसके लिए प्रेरित करें।
श्री चौहान ने कोरोना वैक्सीनेशन महाभियान के दूसरे चरण को समाजसेवी, स्वयंसेवी संस्थाओं, प्रबुद्ध नागरिकों और जनप्रतिनिधियों का अभियान बताते हुए कहा कि ये सबकी जिम्मेदारी है कि कोई भी व्यक्ति वैक्सीनेशन से अछूता न रहे। मतभेद भुलाकर सभी इस अभियान के वॉलिंटियर बन जायें। उन्होंने कहा कि सभी को मिलकर यह तय करना है कि कोई भी बिना वैक्सीन के न रहे, प्रत्येक व्यक्ति खुद भी वैक्सीन लगवायें, परिवार को भी और मोहल्ले वालों को भी लगवायें।
श्री चौहान ने अपने संबोधन में कोरोना वैक्सीनेशन के प्रति सोशल मीडिया के माध्यम से जनजागरूकता पैदा करने के लिए सभी धर्मों के धर्मगुरुओं, जनप्रतिनिधियों, समाजसेवियों, विरिष्ठ चिकित्सकों एवं गणमान्य नागरिकों का आभार भी माना। उन्होंने कहा कि हम सभी को संकल्प लेना है कि टीके की पहली डोज 30 सितंबर तक और दूसरी डोज दिसंबर माह के अंत तक लगो का लक्ष्य पूरा हो जाये। उन्होंने गर्भवती महिलाओं के वैक्सीनेशन के लिए अलग सेंटर बनाने तथा बुजुर्गों एवं दिव्यांगों को घर जाकर वैक्सीन लगाने मोबाइल वैन चलाये जाने की बात भी कही।मुख्यमंत्री ने जबलपुर जिले में कोरोना वैक्सीनेशन अभियान में हुए टीकाकरण की सराहना करते हुए कहा कि अब यह तय करना है कि ऐसे सभी लोगों को जिन्होंने पहला डोज नहीं लगवाया है उन्हें ढूंढकर सितंबर माह के अंत तक कोरोना की वैक्सीन लगवायी जाये और दिसंबर माह के अंत तक सभी पात्रों को दूसरी डोज भी लग जाये।कार्यक्रम को प्रभारी मंत्री  गोपाल भार्गव ने भी संबोधित किया। उन्होंने कोरोना की दूसरी लहर की विभीषिका का उल्लेख करते हुए कहा कि अब तीसरी लहर न आये इसके लिए ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगवाने के प्रयास करने होंगे। साथ ही कोरोना संक्रमण को रोकने के अनुकूल व्यवहार अपनाने पर भी जोर देना होगा। श्री भार्गव ने कोरोना वैक्सीनेशन महाभियान के पहले चरण में जबलपुर जिले में हुए रिकार्ड वैक्सीनेशन का उल्लेख करते हुए कहा कि एक बार फिर जबलपुर को प्रदेश में अव्वल बनाने की चुनौती यहां की जनता के सामने है। प्रभारी मंत्री श्री भार्गव ने अपेक्षा व्यक्त करते हुए कहा कि जबलपुर की प्रगतिशील और जागरूक जनता इस चुनौती का मिल-जुलकर सफलता पूर्वक सामना करेगी तथा प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के उद्देश्यों को पूरा कर जबलपुर को प्रदेश में अव्वल स्थान दिलायेगी।
प्रभारी मंत्री ने जबलपुर से कोरोना की तीसरी लहर का सामना करने के लिए किये गये इंतजामों का उल्लेख भी किया। उन्होंने जिले के निवासियों, जनप्रतिनिधियों, समाजसेवियों, आपदा प्रबंधन समितियों के सदस्यों से लोगों को वैक्सीनेशन के प्रति जागरूक करने तथा लोगों को टीका लगाने प्रेरित करने का आग्रह किया ताकि कोरोना की तीसरी लहर को आने से रोका जा सके।
शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन पर मुख्यमंत्री ने पांच ग्राम पंचायतों को सौंपा प्रशस्ति पत्र
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने टीकाकरण जागरूकता कार्यक्रम में जिलों की पांच ग्राम पंचायतों को शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन के लिए प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। इस ग्राम पंचायतों में पनागर जनपद पंचायत की ग्राम पंचायत उर्दुवाकलॉ, सिहोरा जनपद पंचायत की ग्राम पंचायत कछपुरा, मझौली जनपद पंचायत की ग्राम पंचायत दर्शनी, पाटन जनपद पंचायत की ग्राम पंचायत बड़ौदाहडा तथा शहपुरा जनपद पंचायत की ग्राम पंचायत गडरपिपरिया शामिल हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन के लिए इन ग्राम पंचायतों के सचिव, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता और शिक्षकों को प्रशस्ति पत्र प्रदान किया। जबलपुर जिले में अभी तक 62 ग्राम पंचायतों में शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन हो चुका है।
चार आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति के आदेश प्रदान
मुख्यमंत्री श्री चौहान इस कार्यक्रम में कोरोना से दिवंगत हुए शासकीय कर्मचारियों के चार आश्रितों को मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुकंपा नियुक्ति योजना के तहत अनुकंपा नियुक्ति के आदेश प्रदान किये। इसमें आरजू बानो को स्वास्थ्य विभाग में लैब सहायक, अर्पित आनंद को नगर निगम में उप स्वच्छता पर्यवेक्षक, श्रीमती बबली सोनकर को जनजातीय कार्य विभाग में चतुर्थ श्रेणी रसोईया एवं आदित्य दमन को जनजातीय कार्ड विभाग में चतुर्थ श्रेणी रसोईया के पद पर नियुक्ति प्रदान की गई है।

शेयर करें: