सूर्य के मिथुन राशि मे परिवर्तन ,मिथुन संक्रांति की तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजन विधि जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर 

ज्योतिषाचार्य  निधिराज त्रिपाठी अनुसार———-** **भगवान सूर्य को सम्पूर्ण जगत का आत्मा स्वरूप माना जाता है** सूर्य पृथ्वी पर ऊर्जा के

शेयर करें:
Read more

भक्ति के नौ स्वरूप,नवधा भगति कहउँ तोहि पाही…….

**ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार———-** 🌺 **भक्ति के नौ स्वरूप**🌺 भगवान राम का शबरी को नवधा भक्ति का उपदेश 🌺नवधा भगति

शेयर करें:
Read more

शनि देव को प्रसन्न करने के लिए करें इन मंत्रों का स्पष्ट उच्चारण 

**ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार———-** ज्योतिष में शनि देव को कर्मफल देवता कहा जाता है। अर्थात शनिदेव लोगों को उनके कर्मों

शेयर करें:
Read more

वट सावित्री व्रत के दिन सूर्य ग्रहण का साया, दुष्प्रभाव से बचने और सुख समृद्धि के लिए अवश्य करें ये उपाय

  **ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार———-** **वट सावित्री व्रत के दिन सूर्य ग्रहण का साया, दुष्प्रभाव से बचने और सुख समृद्धि

शेयर करें:
Read more

सनातन धर्म में वट सावित्री व्रत का महत्व,और पूजन विधि 

**ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार———-** **सनातन धर्म में वट सावित्री व्रत का बहुत महत्व है। मान्यता है कि इस पर्व से

शेयर करें:
Read more

इस दिन भूलकर भी न करें ये काम नहीं तो हो सकते हैं शनिदेव नाराज 

  **ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार———-** **जान लें क्या काम इस दिन भूलकर भी न करें, शनिदेव हो सकते हैं नाराज़**

शेयर करें:
Read more

10 जून को साल का पहला वलयाकार सूर्यग्रहण

  **ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार———-** **पहला सूर्य ग्रहण 10 जून 2021** वर्ष का पहला सूर्य ग्रहण एक वलयाकार सूर्य ग्रहण

शेयर करें:
Read more

मासिक शिवरात्रि आज कर्ज-मुक्ति के लिए करें ये उपाय 

  *ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार———-** **कर्ज-मुक्ति के लिए मासिक शिवरात्रि* 👉🏻 *08 जून 2021 मंगलवार को मासिक शिवरात्रि है।* 🙏🏻

शेयर करें:
Read more

एकादशी महत्व और अलग-अलग एकादशी से मिलने वाले फल के बारे में जानने के लिए पढ़ें ये खबर

  *ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार———-** एकादशी व्रत भगवान विष्णु को समर्पित एक बेहद ही शुभ फलदाई व्रत माना गया है।

शेयर करें:
Read more

केतु के गोचर का विभिन्न राशियों पर प्रभाव

  *ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार——केतु महाराज को छाया ग्रह के रूप में मान्यता प्राप्त है। यह एक विच्छेदन कारी ग्रह

शेयर करें:
Read more