करता” करे न कर सकें,_”गुरु” करे सो होय…..

 

.”करता” करे न कर सकें,_
“गुरु” करे सो होय!! तीन “लोक” नव खण्ड में,
“गुरु” ते बड़ा न कोय!!

🙏”गुरू” कोई “व्यक्ति” नहीं, कोई “शरीर” नहीं, “गुरू” एक “तत्व” है, एक “शक्ति” है।

🙏”गुरू” “सच्चा” “शब्द” हैं। “गुरू” “सच्चा” “नाम” हैं। “गुरू” एक “भाव” है, “गुरू” “श्रद्धा” है। “गुरू” “समर्पण” है।

🙏आपका “गुरू” आपके “व्यक्तित्व” का “परिचय” है।

🙏”कब” “कौन”, “कैसे” आपके लिए “गुरू” “साबित” हो यह आप की “दृष्टि” एवं “मनोभाव” पर “निर्भर” करता है।

🙏”गुरू” “प्रार्थना” से मिलता है। “गुरू” “समर्पण” से मिलता है, “गुरू” “दृष्टा” भाव से मिलता है।

🙏गुरु बिन ज्ञान न उपजै
गुरु बिन मिले न मोक्ष
गुरु बिन लखै न सत्य को
गुरु बिन मिटे न दोष
गुरु पूर्णिमा की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं जय श्री कृष्णा राधे राधे

शेयर करें: