33 वैक्सीन सेंटरों पर 52 सौ लोंगों को लगाया जाएगा बूस्टर डोज

कटनी/स्लीमनाबाद(सुग्रीव यादव):आजादी के अमृत महोत्सव के तहत कोरोना महामारी से बचाव के लिए जरूरी तीसरी खुराक यानि बूस्टर डोज लगवाने के लिए कोविड वैक्सिनेशन अमृत महोत्सव का अभियान शुरू हो गया है।अभियान के तहत बुधवार को बहोरीबंद विकासखण्ड मैं 33 स्थानों पर शिविर आयोजित किया गया।महाभियान के तहत बूस्टर डोज लगवाने लोगो मे रुचि दिखी।बुधवार को निर्धारित लक्ष्य 5 हजार मैं 5200 लोगो को बूस्टर डोज लगा।शिविरों के अलावा वैक्सिनेशन दल ने घर घर जाकर भी लोगो वैक्सीन लगाई।
विकासखण्ड टीकाकरण अधिकारी डॉ अनुराग शुक्ला ने बताया कि कोविड वैक्सिनेशन अमृत महोत्सव अभियान के तहत बूस्टर डोज लगने का अभियान शुरू हो गया है।जिन लोगों को कोविड का पहला और दूसरा डोज लग चुका है और 6 माह बीत गए है। महामारी से बचने अब उन्हें बूस्टर डोज लगेगा।लोगों को वैक्सीन लेने में कोई दिक्कत न हो इसके लिए स्वास्थ्य केन्द्रों के साथ ही पंचायतों में कैम्प का आयोजन किया जा रहा। महामारी से बचने के लिए जुलाई माह से सितंबर माह तक निशुल्क में लोंगों को बूस्टर डोज लगाए जाएंगे।शिविरों मैं अधिक संख्या मे लोग पहुँचे इसके लिए मुनादी भी गांव स्तरों पर की जा रही है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए बूस्टर डोज जरूरी-

बीसीएम रॉबिन गुप्ता ने शिविरों मैं जाकर लोगो को जागरूक किया कि बूस्टर डोज टीके की एक अतिरिक्त खुराक है, जो किसी ऐसे व्यक्ति में सुरक्षात्मक प्रतिरक्षा को लम्बा करने में मदद कर सकता है जिसने पहली बार में पूरी तरह से प्रतिक्रिया दी थी। बूस्टर डोज की सिफारिश इसलिए की जा रही है क्योंकि यह देखा गया है कि दोनों वैक्सीन लेने के बाद भी लोगों में समय के साथ उनका असर कम हो रहा था यानी उनमें, जो प्रतिरक्षा विकसित हुई थी, वो समय के साथ कम हो जाती है। इसलिए प्रतिरक्षा सिस्टम को मजबूत करने के लिए बूस्टर डोज उपयोगी है।

शेयर करें: