सिहोरा में विवाह सहायता राशि के लिए छः महीने से अधिकारियों के चक्कर काट रहा है ये दिव्यांग

जबलपुर :एक तरफ तो मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान कहते नही थक रहे है  की  गरीबों के चेहरे पर मुस्कुराहट लाना ही मेरी सरकार का लक्ष्य है। इसके लिए मैं सज्जनों के लिए फूल से ज्यादा कोमल एवं गुण्डे, बदमाशों के लिए वज्र से ज्यादा कठोर हूँ। समाज के अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति तक विकास की योजना पहुँचाने में कोई कोर-कसर नहीं छोडूंगा। गरीबों के हित के लिए बनाई गई योजनाएँ संचालित रहेगी।लेेकिन येे दिव्यांग छः महीने से विवाह सहायता राशि के लिए ग्राम पंचायत से लेकर जनपद पंचायत के अधिकारियों के लगातार चक्कर लगा रहा  है ,लेकिन अभी तक इस दिव्यांग को न ही विवाह सहायता राशि मिली है न ही इसकी कोई मदद करने आंगे आ रहा है,मामला सिहोरा जनपद की ग्राम पंचायत आल्गोड़ा का है ,दिव्यांग सुनील कुमार भुमिया निवासी आल्गोड़ा ने बताया की उसने छः महीने पूर्व अपनी बच्ची की शादी की थी और विवाह सहायता राशी के लिए सभी जरूरी प्रक्रिया करके कागजात जमा करवा दिए थे लेकिन आज दिनांक तक उसे न ही विवाह सहायता की राशि मिली है न ही ग्राम पंचायत न ही जनपद के अधिकारी उसे बता पा रहे है की उसे अभी तक विवाह सहायता की राशि क्यों नहीं मिल पा रही है,अब ऐसे में सवाल उठता है की मुख्यमंत्री की योजनाएं कितने अच्छे से धरातल तक पहुँच पा रही है, और सरकारी योजनाओं का लोगों को लाभ पाने के लिए कितने पापड़ बेलने पड़ रहे है,ये इस दिव्यांग के मामले से ही पता चलता है,

शेयर करें: