आषाढ़ गुप्त नवरात्रि:हाथी में सवार होकर आयेंगी दुर्गा माँ,घट स्थापना का शुभ मुहूर्त 

**ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार———-**
**इस साल आषाढ़ मास के गुप्त नवरात्रि में मां दुर्गा गज यानी हाथी की सवारी से आएंगी. इन नवरात्रों पर इस बार गुप्त नवरात्र पर सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है, जो कि 11 जुलाई को सुबह 5:31 बजे से रात 2:22 तक रहेगा और उस दिन रवि पुष्य नक्षत्र भी पड़ रहा है, यह विशेष संयोग बेहद शुभकारी है और सारे काम सिद्ध करने वाला है. इसके अलावा नवरात्र में पूजा की शुरुआत आर्द्रा नक्षत्र में होने से योग और उत्तम हो गया है. बता दें कि नवरात्र 8 दिन की होगी, क्योंकि षष्टी और सप्तमी तिथि एक ही दिन हैं. इससे सप्‍तमी तिथि का क्षय हो गया है.**

घट स्थापना का शुभ समय
**आषाढ़ गुप्त नवरात्रि प्रारंभ**
तिथि: 11 जुलाई 2021
प्रतिपदा तिथि प्रारंभ: 10 जुलाई 2021 सुबह 06:46
प्रतिपदा तिथि समाप्त: 11 जुलाई 2021 के समय 07:47
अभिजीत मुहूर्त: 11 जुलाई, दोपहर 12:05 से 11 जुलाई दोपहर 12:59 तक

घट स्थापना मुहूर्त: 11 जुलाई सुबह 05:52 से 07:47 तक
लाभ और अमृत का चौघड़िया सुबह 9.08 से शुरू होकर 12.32 तक रहेगा. वहीं अभिजीत मुहूर्त दिन में 12.05 मिनट से 12.59 मिनट तक रहेगा

*”गुप्त नवरात्रि क्या हैं **?

**4 नवरात्र में से 2 को प्रत्यक्ष नवरात्र कहा गया है**क्योंकि इनमें गृहस्थ जीवन यानी आम जनता पूजा पाठ करते हैं. वहीं 2 को गुप्त नवरात्र कहा गया है, जिनमें आमतौर पर साधक-संन्यासी, सिद्धि प्राप्त करने की इच्‍छा करने वाले लोग, तांत्रिक आदि देवी मां की उपासना करते हैं. हालांकि चारों नवरात्र देवी सिद्धि प्रदान करने वाली होती हैं, लेकिन गुप्त नवरात्र के दिनों में देवी की दस महाविद्याओं की पूजा की जाती है, जिनका तंत्र शक्तियों और सिद्धियों में विशेष महत्व है. वहीं, प्रत्यक्ष नवरात्र में सांसारिक जीवन से जुड़ी चीजें देने वाली देवी के 9 रूपों की पूजा होती है. गुप्त नवरात्र में सामान्य लोग भी किसी विशेष इच्छा की पूर्ति या सिद्धि के लिए गुप्त नवरात्र में साधना कर सकते हैं.

**हर दिन होती है मां के अलग रूप की पूजा**

प्रतिपदा तिथि (11 जुलाई 2021) – आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से आषाढ़ गुप्त नवरात्रि प्रारंभ हो रही है. इस दिन घट स्थापित किया जाता है और माता शैलपुत्री की पूजा की जाती है.

द्वितीय तिथि (12 जुलाई 2021)- इस दिन ब्रह्माचारिणी देवी की पूजा करने का विधान है.

तृतीया तिथि (13 जुलाई 2021) – नवरात्रि की तृतीया तिथि पर माता चंद्रघंटा की पूजा की जाती है जो मां दुर्गा का तीसरा स्वरूप हैं. मां चंद्रघंटा अपने भक्तों को सुख व समृद्धि का वरदान देती हैं.

 

चतुर्थी तिथि (14 जुलाई 2021)- इस दिन मां कुष्मांडा की पूजा होगी. मां कुष्मांडा की पूजा करने से रोग मुक्त होते हैं.

पंचमी तिथि (15 जुलाई 2021)- पंचमी तिथि पर मां स्कंदमाता की पूजा-आराधना करने का विधान है. स्कंदमाता अपने भक्तों की सभी इच्छाएं पूरी करती हैं और उनकी रक्षा करती हैं.

षष्ठी तिथि (16 जुलाई 2021)- इस दिन मां कात्यायनी और मां कालरात्रि की पूजा होती है. मां कात्यायनी की पूजा करने से विवाह में आ रही बाधाएं दूर होती हैं और भय से मुक्ति मिलती है वही मां कालरात्रि दुष्टों का विनाश करने वाली माता कही गई हैं.

अष्टमी (17 जुलाई 2021)- इस दिन महागौरी की पूजा की जाती है. मां महागौरी की सवारी गाय है और वह सफेद वस्त्र धारण करती हैं. मां महागौरी को अन्नपूर्णा स्वरूप भी कहा जाता है.

नवमी (18 जुलाई 2021)- इस दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा होती है. इनकी पूजा-अर्चना करने से सभी सिद्धियां प्राप्त होती हैं.

**लेकिन, यदि आपके मन में कोई और दुविधा है या इस संदर्भ में आप और ज्यादा विस्तृत जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं ज्योतिष व वास्तु के लिए सम्पर्क करे* **ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी** अगर आपको ग्रह दशा के बारे में जानकारी चाहिए तो आप हमें +91-9302409892 पर कॉल करें। या आप हमें
“अपना नाम”
“जन्म दिनांक”
“जन्म समय”
“जन्म स्थान”
व्हाट्सएप करें!! धन्यवाद
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार देखा जाए तो हर व्यक्ति का जन्म होते ही वह अपने प्रारब्ध के चक्र से बंध जाता है और ज्योतिषशास्त्र द्वारा निर्मित जन्म कुंडली हमारे इसी प्रारब्ध को प्रकट करती है। हमारे जीवन में सभी घटनाएं बारह राशि व नवग्रह द्वारा ही संचालित होती हैं। इन ग्रहों का आपके जीवन पर आने वाले समय में कैसा प्रभाव पड़ेगा इसके बारे में विस्तृत जवाब जानने के लिए अभी आप भी कर्ज़ की समस्या से परेशान हैं, और उससे जुड़ा कोई व्यक्तिगत उपाय, निवारण जानना चाहते हों या इससे जुड़े किसी सवाल का जवाब चाहिए हो तो
अभी इस नंबर पर आप संपर्क कर सकते हैं l 9302409892

शेयर करें: