उपवास में जरा सी चूक बन सकती है आपके लिए आर्थिक परेशानी का कारण 



 

**ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी अनुसार———-**
सप्ताह में शुक्रवार का दिन मां संतोषी के साथ-साथ वैभव लक्ष्मी को भी समर्पित होता है और मई महीने का आज आखिरी शुक्रवार व्रत किया जा रहा है। ऐसे में जहां सही पूजन विधि और कुछ परहेज के साथ आप अपने जीवन में मां लक्ष्मी और मां संतोषी का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं वहीं, जरा सी चूक आपके लिए आर्थिक परेशानी का कारण बन जाती है।

कई बार हम अनजाने में या जानकारी ना होने की वजह से कुछ ऐसी ग़लतियाँ कर बैठते हैं जिनकी वजह से हमारे जीवन में आर्थिक परेशानियां अपना घर बना लेती हैं। तो आइए आज शुक्रवार के दिन जानते हैं कि, ऐसी कौन सी चीजें हैं जिन्हें शुक्रवार के दिन भूल से भी नहीं करना चाहिए अन्यथा व्यक्ति को आर्थिक संकटों का सामना करना पड़ सकता है।

शुक्रवार के दिन भूल से भी ना करें ये काम
शुक्रवार के दिन किसी से क़र्ज़ लेने या किसी को कर्ज देने से बचना चाहिए। हालांकि यदि किन्ही कारणवश आपको किसी को कर्ज देना पड़ रहा है या फिर आप किसी को ब्याज लौटाने जा रहे हैं तो भूल से भी पैसा पर्स में नहीं रखना चाहिए। कहा जाता है कि, ऐसा करने से क़र्ज़ जीवन से हटता नहीं है बल्कि बढ़ने लगता है।
इसके अलावा अक्सर ऐसा होता है जब हमारे घर में कोई चीज खत्म हो जाती है तो हम बे-झिझक अपने पड़ोसियों से मांग लेते हैं। हालांकि शुक्रवार के दिन विशेष तौर पर ऐसा करने से बचना चाहिए। आप को शुक्रवार के दिन अपने पड़ोसियों से कोई भी चीज ना मांगने की सलाह दी जाती है। हालांकि यदि परिस्थितियां ऐसी है कि आपको चीज की आवश्यकता है और आपको पड़ोसियों से माँगना ही पड़ेगा तो आप उन्हें बदले में कोई चीज दें या उन्हें धनराशि दे दें। मुफ्त में शुक्रवार के दिन पड़ोसियों से कोई भी चीज ना लें।
शुक्रवार के दिन यदि आप किसी से धन लेते हैं या किसी को कर्जा उधार देते हैं तो वह पैसा कभी वापस लौट के नहीं मिलता है और साथ ही कर्ज देने या लेने वाले व्यक्ति से आप के रिश्ते भी खराब होते हैं। ऐसे में जितना हो सके शुक्रवार के दिन विशेष तौर पर धन का लेन देन करने से बचें।

ज्योतिष के अनुसार चीनी को शुक्र और चंद्रमा दोनों से संबंधित माना जाता है। ऐसे में यदि आप शुक्रवार के दिन किसी को चीनी देते हैं तो इससे आपका शुक्र कमजोर होने लगता है। शुक्रवार के दिन विशेष तौर पर किसी को चीनी देने से बचें। अन्यथा आपका शुक्र भी कमजोर होगा साथ ही आपके भौतिक सुखों में भी कमी आने लगेगी।
यूं तो साल के 365 दिन हमें महिलाओं बच्चियों या यूं कहिए हर एक इंसान का सम्मान करना चाहिए लेकिन विशेष तौर पर शुक्रवार के दिन कभी भी किसी महिला या कन्या का अनादर ना करें। मुमकिन हो तो इस दिन कन्याओं को भोजन कराएं और उन्हें अपनी यथाशक्ति अनुसार कोई भी छोटा मोटा तोहफ़ा दे सकते हैं।
शुक्रवार के दिन घर को गंदा मत रखें। शुक्रवार का संबंध माँ लक्ष्मी से जोड़कर देखा जाता है और महालक्ष्मी को साफ सफाई बेहद पसंद होती ।ऐसे में यदि आपके घर में गंदगी हो तो मां लक्ष्मी आने से परहेज करेंगी। शुक्रवार के दिन खास तौर पर अपने घर की साफ सफाई का विशेष ख्याल रखें।

शुक्रवार के दिन भूल से भी किन्नरों का अपमान ना करें। इसके अलावा किसी भी व्यक्ति से अप शब्द बोलने से बचें। यदि कोई व्यक्ति का अपमान करता है या दूसरे मनुष्यों को दुखी करता है तो ऐसे व्यक्ति से माँ लक्ष्मी रुष्ट हो जाती हैं और आपके घर में कभी भी नहीं आती हैं। इसके चलते आपके जीवन में आर्थिक समस्याएं शुरू होने लगती हैं।
शुक्रवार के दिन व्रत पूजन का विशेष महत्व बताया गया है। हालांकि आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में हर इंसान के लिए व्रत रहना मुमकिन नहीं होता है। ऐसे में यदि आप व्रत नहीं भी रह सकते हैं तो शुक्रवार के दिन विशेष तौर पर मांस मछली जैसे तामसिक भोजन करने से परहेज करें। साथ ही इस दिन मांस मदिरा इत्यादि भी ना पियें।
शुक्रवार के दिन इस बात का विशेष ध्यान रखें कि इस दिन खास तौर पर आपके घर का किचन गंदा नहीं होना चाहिए। अक्सर देखा गया है रात में लोग खाना खाने के बाद किचन को वैसा ही छोड़ देते हैं। हालांकि शुक्रवार के दिन ऐसा करने से बचें।मुमकिन हो तो किसी भी रात में किचन गंदा ना छोड़े लेकिन विशेष तौर पर शुक्रवार के दिन रात में किचन साफ करके ही बाहर निकले। गंदे किचन से मां लक्ष्मी रूठ जाती हैं और ऐसे घरों में फिर अशांति फैलने लगती है।

**लेकिन, यदि आपके मन में कोई और दुविधा है या इस संदर्भ में आप और ज्यादा विस्तृत जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं ज्योतिष व वास्तु के लिए सम्पर्क करे* **ज्योतिषचार्य निधिराज त्रिपाठी** अगर आपको ग्रह दशा के बारे में जानकारी चाहिए तो आप हमें +91-9302409892 पर कॉल करें। या आप हमें
“अपना नाम”
“जन्म दिनांक”
“जन्म समय”
“जन्म स्थान”
व्हाट्सएप करें!! धन्यवाद
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार देखा जाए तो हर व्यक्ति का जन्म होते ही वह अपने प्रारब्ध के चक्र से बंध जाता है और ज्योतिषशास्त्र द्वारा निर्मित जन्म कुंडली हमारे इसी प्रारब्ध को प्रकट करती है। हमारे जीवन में सभी घटनाएं बारह राशि व नवग्रह द्वारा ही संचालित होती हैं। इन ग्रहों का आपके जीवन पर आने वाले समय में कैसा प्रभाव पड़ेगा इसके बारे में विस्तृत जवाब जानने के लिए अभी आप भी कर्ज़ की समस्या से परेशान हैं, और उससे जुड़ा कोई व्यक्तिगत उपाय, निवारण जानना चाहते हों या इससे जुड़े किसी सवाल का जवाब चाहिए हो तो
अभी इस नंबर पर आप संपर्क कर सकते हैं l 9302409892

शेयर करें: