63 हजार 354 किसानों ने कराया गेंहू उपार्जन के लिए पंजीयन

 

सत्यापन की प्रक्रिया शुरू

जबलपुर, रबी विपणन वर्ष 2020-21 में समर्थन मूल्य पर गेंहू के उपार्जन के लिए 25 फरवरी तक जिले के 63 हजार 354 किसानों ने ई-उपार्जन पोर्टल पर अपना पंजीयन कराया है। पंजीयन के लिए शासन द्वारा 25 फरवरी अंतिम तारीख तय की गई थी।
एनआईसी जबलपुर के प्रभारी आशीष शुक्ला के अनुसार पंजीयन कराने वाले किसानों के रकबे के सत्यापन की प्रक्रिया भी शुरू की जा चुकी है। शासन द्वारा पंजीयन कराने वाले किसानों के रकबे का सत्यापन के लिए 2 मार्च अंतिम तिथि तय की गई है। उन्होंने बताया कि गेंहू के उपार्जन के लिए पंजीयन कराने वाले ६3 हजार 354 किसानों के अलावा 9 हजार 993 किसानों द्वारा चना, 1 हजार 297 किसानों द्वारा मसूर तथा 129 किसानों द्वारा सरसों के उपार्जन के लिए भी पंजीयन कराया है। इन्हें मिलाकर कुल पंजीकृत 65 हजार 395 किसानों में से 21 हजार 845 किसानों द्वारा एमपी ऑनलाइन कियोस्क, लोकसेवा केन्द्रों एवं कृषि उपज मंडियों में अपना पंजीयन कराया गया है। शेष 43 हजार 550 किसानों का पंजीयन समिति स्तर पर बनाये गये केन्द्रों पर किया गया है।
एमआईसी प्रभारी ने बताया कि पंजीयन कराने वाले किसानों के रकबे का सत्यापन चार मापदंडों पर किया जा रहा है। पिछले वर्ष की तुलना में 50 प्रतिशत से अधिक रकबे का पंजीयन कराने वाले किसान, एमपी ऑनलाइन कियोस्क में पंजीयन कराने वाले किसान, सिकमी में खेती करने वाले पंजीकृत किसान तथा चार हेक्टेयर से अधिक रकबे वाले किसानों का पंजीयन का सत्यापन संबंधित क्षेत्र के एसडीएम और तहसीलदारों द्वारा किया जायेगा।

 

शेयर करें: